islamic-sources

    1. home

    2. article

    3. अबू बसीर का पड़ौसी 2

    अबू बसीर का पड़ौसी 2

    अबू बसीर का पड़ौसी 2
    Rate this post

    पुस्तक का नामः पश्चाताप दया की आलंग्न

    लेखकः आयतुल्ला हुसैन अंसारियान

     

    इस लेख के पूर्व लेख मे इस बात को उल्लेखित किया गया है कि अबु बसीर ने अपने पड़ौसी से कई बार विनम्रता से कहा परन्तु उसने अबु बसीर की बात पर कोई ध्यान नही दिया तथा अबू बसीर ने अम्र बिलमारूफ़ और नही अनिलमुनकर करने मे कोई लापरवाही नही की जिसका परिणाम यह हुआ कि एक दिन स्वयं उसने अबु बसीर से कहा कि मै शैतान के जाल मे फंसा हुआ हूँ, यदि मेरी स्थिति को अपने मौला इमाम सादिक़ से बयान करे आशा है कि वह ध्यान देंगे और मुझ पर एक मसीहाई नज़र डाल कर मुझे इस गंदगी और भ्रष्टाचार से निकाल देंगे। अब इस लेख मे आगे के हाल का अध्ययन करने को मिलेगा।

    अबू बसीर कहते हैः मैने उसकी बातो को सुनकर स्वीकार कर लिया, एक समय पश्चात जब मै मदीना इमाम सादिक़ के पास गया तथा अपने उस पड़ौसी के हालात इमाम को सुनाए और इस सम्बिंधत अपनी समस्याओ को भी इमाम से कहा। तो,

    इमाम ने पूरे हालात सुनकर कहाः जब तुम कूफ़े पहुंचोगे तो वह व्यक्ति तुम से मुलाक़ात करने के लिए आएगा, तो मेरी ओर से उस से कहनाः यदि तुम अपने सारे बुरे एंव व्यर्थ के कार्यो को तथा पापो को त्याग दो तो मै तुम्हारे स्वर्ग का गारंटर हूँ।

    अबु बसीर कहते है किः जब मै कूफ़े वापस लौटा तो मेरे मित्र मुझ से मिलने आए और वह व्यक्ति भी मिलने आया, कुच्छ समय पश्चात जब वह जाने लगा तो मैने उस से कहाः रुको मुझे तुम से कुच्छ बात चीत करना है, जब सब लोग चले गए तथा उसके अलावा कोई नही रहा तो मैने इमाम सादिक़ अलैहिस्सलाम का संदेश उस तक पहुंचा दिया, और कहा कि इमाम सादिक़ ने तुझे सलाम कहलवाया है।

    पड़ौसी ने आश्चर्य से प्रश्न कियाः तुम्हे अल्लाह की सौगंध! क्या वास्तव मे इमाम सादिक़ ने मुझे सलाम कहलवाया है? और पापो से पश्चाताप करने से वह मेरे लिए स्वर्ग के गारंटर है? मैने सौगंध खाई कि इमाम अलैहिस्सलाम ने सलाम के साथ यह संदेश तुम्हारे लिए भेजा है।

     

    जारी

    erfan.ir/6