islamic-sources

    1. home

    2. article

    3. आंखों को तनाव से बचायें

    आंखों को तनाव से बचायें

    आंखों को तनाव से बचायें
    Rate this post

    आंखों का तनाव एक आम समस्या है। कंप्यूटर या लैपटॉप पर लगातार काम करने और अधिक टीवी देखने के अतिरिक्त कई और कार्य हैं जिनके कारण इस समस्या का सामना करना पड़ सकता है। आई स्ट्रेन वास्तव में आंखों को नियंत्रित करने वाली कोशिकाओं का स्ट्रेन होता है और एक ही चीज पर लम्बे समय तक देखने से आंखों में स्ट्रेन हो सकता है। कंप्यूटर, टीवी, मोबाइल की स्क्रीन और अधिक चमकदार चीज़ों को लगातार देखने से बचना चाहिये। सही नंबर का चश्मा न पहनने से भी आंखों का स्ट्रेस होता है। इसके प्रमुख लक्षण आंख और सिर में दर्द तथा इसी प्रकार माइग्रेन का दर्द। नजर कमजोर होते जाना और चश्मे के नंबर में बार-बार बदलाव का होना भी इसके लक्षण हैं। एक चीज़ का दो दिखाई देना और आंखों में सूखापन भी नेत्रों के तनाव का चिन्ह है।इससे बचने का तरीका यह है कि यदि आप कंप्यूटर पर काम कर रहे हैं या टीवी देख रहे हैं, तो लगभग 20 मिनट तक लगातार स्क्रीन पर फोकस करने के बाद 20 सेकेंड के लिए नजर वहां से हटा लें और अपने से 20 फुट की दूरी पर स्थित किसी चीज को देखें। इसके अतिरिक्त काम के दौरान हर घंटे आंखों को पांच मिनट के लिए आराम दें। हर दो घंटे के बाद सीट से उठ जाएं और कुछ चलने-फिरने का काम करें। कंप्यूटर फ्लैट स्क्रीन वाला हो तो बेहतर है। इससे आंखों को कम नुकसान पहुंचता है। कुछ विशेषज्ञों का कहना है कि हो सके तो कंप्यूटर स्क्रीन पर एंटीग्लेयर फिल्टर का प्रयोग करें। कंप्यूटर की स्क्रीन उस ओर करके न रखें जहां से प्रकाश का रिफ्लेक्शन स्क्रीन पर पड़ता हो।कंप्यूटर पर काम करते समय प्रकाश की पूरी व्यवस्था होनी चाहिए। कंप्यूटर या लैपटॉप की स्क्रीन आपकी आंखों से दूर पर होनी चाहिए। यह दूरी लगभग 20 इंच की होनी चाहिये। नॉन-रिफ्लेक्टिव इंटरफेस का प्रयोग अधिक से अधिक करें। यदि आप कुछ समाचार पत्र या पत्रिका पढ़ना चाहते हैं तो उन्हें ऑनलाइन पढ़ने का प्रयास न करें बल्कि स्वयं समाचार पत्र पढें क्योंकि इससे स्क्रीन पर पढ़ने के मुकाबले आंखों की कोशिकाओं को कम मेहनत करनी पड़ती है।जिस स्थान पर आप टीवी देख रहे हैं वहां प्रकाश की समुचित व्यवस्था होनी चाहिए।लेट कर टीवी कभी न देखें। इससे आंखों का कोण अलग-अलग हो जाता है जिससे समस्या उत्पन्न हो सकती है।स्क्रीन पर लगातार काम करने वालों को सदैव अपनी आंखों को चेक करवाते रहना चाहिए।चश्मे का अगर कम-से-कम नंबर भी है तो उसे अवश्य लगाना चाहिये।
    http://hindi.irib.ir/