islamic-sources

    1. home

    2. article

    3. आइये फारसी सीखें – 60

    आइये फारसी सीखें – 60

    Rate this post

    ईरानी मिठाइयां
    अधिकांश धार्मिक समारोहों में अतिथियों के सत्कार के उद्देश्य से विभिन्न प्रकार के व्यंजन और मिठाइयां बनाई जाती हैं। पैग़म्बरे इस्लाम हज़रत मुहम्मद मुस्तफ़ा सल्ललाहो अलैहे वआलेही वसल्लम के शुभ जन्म दिसव के अवसर पर आयोजित समारोह में मुहम्मद और उसके मित्र रामीन ने भाग लिया। इस कार्यक्रम का आरंभ पवित्र क़ुरआन के पाठ से किया गया। उसके पश्चात पैग़म्बरे इस्लाम की प्रशंसा में शेर कहे गए। जब वे इस समारोह में पहुंचे तो पहले उनका शर्बत और मिठाई से सत्कार किया गया। कार्यक्रम के अंत में मेहमानों के बीच मिठाई वितरित की गई। इस समय मुहम्मद और रामीन, समारोह में बैठे हुए हलुआ और शोलेज़र्द खा रहे हैं। वे आपस में इन मिठाइयों के बारे में वार्ता कर रहे हैं। उनकी वार्ता को सुनने से पूर्व कृप्या कार्यक्रम में प्रयोग होने वाले शब्दों को ध्यानपूर्व सुनिए।

    वाह

    بَه بَه !
    भोजन, व्यंजन

    غذا
    स्वादिष्ट

    خوشمزه
    कितना स्वादिष्ट खाना!

    چه غذاهای خوشمزه ای !

    خوش طعم
    अधिकतर

    بیشتر
    विशेष

    مخصوص
    आयोजन

    مراسم
    धार्मिक

    مذهبی

    شله زرد
    कितना

    چه قدر
    मीठा

    شیرین
    तैयार की जाती है

    تهیه می شود
    चावल

    برنج
    आभार

    شکر
    केसर

    زعفران
    वह पकाया जाता है

    آن پخته می شود
    नाम

    اسم
    मैं जानता हूं

    من می دانم
    हलुवा

    حلوا
    खाने वाली वस्तु

    خوردنی
    आटा

    آرد
    घी

    روغن
    वे तैयार करते हैं

    آنها تهیه می کنند
    समय

    اوقات
    अन्य

    دیگر
    उसका प्रयोग किया जाता है

    آن استفاده می شود
    महीना

    ماه
    रमज़ान

    رمضان
    दस्तरख़ान

    سفره
    इफ़्तार

    افطار
    वे सजाते हैं

    آنها زینت می دهند
    नगर

    شهر
    वह पकता है

    آن پخته می شود
    स्वाद

    طعم
    स्वाद या मज़ा

    مزه
    विभिन्न

    مختلف
    अलग-अलग

    متفاوت
    मैं पसंद करता हूं

    من دوست دارم
    इसके अतिरिक्त

    علاوه بر آن
    शक्तिशाली

    مقوّی
    शक्तिवर्घक

    انرژی زا

    और अब आप

    मुहम्मदः वाह भई वाह। कितने स्वादिष्ट खाने!

    محمد – بَه بَه ! چه خوردنیهای خوشمزه ای !
    रामीनः यह स्वादिष्ट व्यंजन, अधिकतर धार्मिक आयोजनों से विशेष हैं।

    رامین – این غذاهای خوش طعم ، بیشتر مخصوص مراسم مذهبی است .
    मुहम्मदः शोलेज़र्द कितना मीठा और स्वादिष्ट है! यह किस चीज़ से बना है?

    محمد – شله زرد چه قدر شیرین و خوشمزه است ! از چه تهیه می شود ؟
    रामीनः इसे चावल, शकर और केसर से बनाया जाता है।

    رامین – شله زرد با برنج و شکر و زعفران پخته می شود .
    मुहम्मदः क्या तुमको इस खाने का नाम पता है? यह हलुवा है।

    محمد – اسم این غذا را هم می دانم . این حلوا است .
    रामीनः हां। इसे आटे, घी, शकर और केसर से तैयार किया जाता है।

    رامین – بله . این خوردنی را با آرد ، روغن ، شکر و زعفران تهیه می کنند .
    मुहम्मदः क्या अन्य अवसरों पर भी इन चीज़ों को प्रयोग किया जाता है?

    محمد – آیا در اوقات دیگری هم از این خوردنیها استفاده می شود ؟
    रामीनः हां। रमज़ा में भी यह व्यंजन, इफ़तार की शोभा बढ़ाते हैं।

    رامین – بله . در ماه رمضان هم این غذاها ، سفره های افطار را زینت می دهند .
    मुहम्मदः क्या सभी नगरों में यह खाद्य पदार्थ तैयार किये जाते हैं?

    محمد – آیا در همه شهرها این خوردنیها پخته می شود ؟
    रामीनः हां। हालांकि अन्य नगरों में इनके स्वाद में थोड़ा अंतर होता है।

    رامین – بله . البته طعم و مزه آنها در شهرهای مختلف ، متفاوت است .
    मुहम्मदः मैं मीठी चीज़ें बहुत पसंद करता हूं।

    محمد – من غذاهای شیرین را خیلی دوست دارم .
    रामीनः इनके अतिरिक्त यह व्यंजन शक्तिवर्धक भी हैं।

    رامین – علاوه بر آن ، این غذاها مقوّی و انرژی زا هستند .

    धार्मिक समारोहों में सामान्यतः विभिन्न प्रकार के व्यंजन और मिठाइयां बांटी जाती हैं।
    कभी-कभी कुछ लोग अपनी मन्नतों के पूरा होने पर खाने या मिठाई पकाकर लोगों के बीच मिठाइयां बांटते हैं। यह परंपरा ईरान के समस्त गावों और नगरों में प्रचलित है।

    इस प्रकार के खाने बहुत ही श्रद्धा के साथ पकाए जाते हैं जो बहुत ही स्वादिष्ट होते हैं। यह खाने ईरानियों के बीच बहुत लोकप्रिय हैं। यदि किसी शबे जुमा अर्थात गुरूवार की रात तेहरान में हों तो आपको वहां पर एसे बहुत से लोग हाथों में खजूर, मिठाई, हुलआ या टाफ़ियां लोगों के बीच बांटते हुए दिखाई देंगे। यह ईरान की एक बहुत ही प्राचीन परंपरा है।

    http://hindi.irib.ir/