islamic-sources

    1. home

    2. article

    3. आईये फ़ारसी सीखें – 21

    आईये फ़ारसी सीखें – 21

    Rate this post

    ईरान में लकड़ी के हस्तकला उद्योगों में से एक क़लमकारी भी है जो बहुत ही सूक्ष्म कला है। आज की चर्चा में हम आपको क़लमकारी से परिचित कराएंगे। क़लमकारी में क़लमकार, अनेक प्रकार की लकड़ियों, हाथी के दांत, हड्डी और सीप को प्रयोग करता है। इन वस्तुओं को त्रिभुज से लेकर दसभुजाओं के आकार में काटा जाता है। इन्हें बहुत ही छोटे आकार में काटा जाता है और हर भुजा से कई भुजाएं निकलती हैं जो दो से पांच मिलीमीटर की होती हैं। इन टुकड़ों को एक दूसरे से मिलाकर चिपकाया जाता है जिससे बहुत ही सुंदर आकार अस्तित्व में आता है। क़लमकार कई भुजाओं वाले टुकड़ों को बड़ी दक्षता के साथ चिपकाता है और उन्हें सान देता है ताकि एक जैसे दिखाई दें। इस विषय पर मोहम्मद और सईद के बीच बातचीत से पूर्व इससे जुड़े मुख्य शब्दों पर ध्यान दीजिए।

    बीता हुआ कल

    ديروز

    बाज़ार की मस्जिद

    مسجد بازار

    कला

    هنر

    तक्षणकला

    منبت

    लकड़ी पर चित्रकारी

    معرق

    मैं परिचित हुआ

    من آشنا شدم

    हस्तकला उद्योग

    صنايع دستي

    लकड़ी का

    چوبي

    वे हैं

    آنها هستند

    बहुत

    بسيار

    सूक्ष्म

    ظريف

    सुंदर

    زيبا

    ठीक है या सही है

    درست است

    किन्तु

    ولي

    अधिक सूक्ष्म

    ظريفتر

    हमारे पास है

    ما داريم

    नाम

    اسم

    क़लमकारी या जड़ाउ का काम

    خاتم كاري

    कलाकार

    هنرمند

    ईरानी या ईरान का

    ايراني

    लकड़ी

    چوب

    लकड़ियां

    چوبها

    छोटा

    کوچک

    कई कोणीय

    چند ضلعي

    वह चिपकाता है

    او مي چسباند

    जैसे

    مثل

    त्रिकोण

    مثلث

    एक साथ मिला कर

    كنار هم

    लगाए जाते हैं

    آنها قرار مي گيرند

    सब

    همه

    सतह

    سطح

    उसे छिपा देते हैं

    آنها مي پوشانند

    किन स्थानों पर

    چه جاهايي

    उसे प्रयोग किया जाता है

    آن به کار مي رود

    छोटा बक्सा

    صندوقچه

    क़लमदान

    قلمدان

    दूसरी वस्तुएं

    چيزهاي ديگر

    इमारत

    ساختمان

    संसद

    مجلس

    राष्ट्रीय

    ملي

    ढका हुआ

    پوشيده از

    वास्तव में

    واقعا

    क्या ऐसा नहीं है

    اين طور نيست ؟

    वह है

    او است

    उसे होना चाहिए

    او بايد باشد

    इसके साथ ही या इसके अतिरिक्त

    ضمنا

    हाल

    سالن

    आधार

    بنا

    दीवार

    ديوار

    छत

    سقف

    अन्य

    ساير

    उपकरण, औज़ार,

    وسايل

    सुंदर

    زيبا

     

     

    और अब आइए एक नज़र डालते हैं दोनों की बातचीत पर

    मोहम्मदः कल बाज़ार की मस्जिद में तक्षणकला और लकड़ी पर चित्रकारी की कला से परिचित हुए।

     

    محمد – ديروز در مسجد بازار با هنرهاي منبت و معرق آشنا شدم ..

    सईदः तक्षणकला और लकड़ी पर चित्रकारी ईरान के हस्तकला उद्योग में हैं।

    سعيد – منبت و معرق از صنايع دستي چوبي ايران هستند

     

    मोहम्मदः ये कलाएं बहुत की सूक्ष्म व सुंदर हैं।

    محمد – آنها بسيار ظريف و زيبا هستند .

    सईदः ठीक है। किन्तु तक्षकणकला और लकड़ी पर चित्रकारी से भी अधिक सूक्ष्म कलाएं मौजूद हैं।

    سعيد – درست است . ولي از منبت و معرق ، هنر ظريفتري هم داريم .

    मोहम्मदः इस कला का क्या नाम है?

    محمد – اسم اين هنر چيست ؟

    सईदः क़लमकारी, इस कला में ईरानी कलाकार बहुत ही छोटी व कई कोणीय आकार में कटी हुयी लकड़ियों को एक साथ चिपकाते हैं।

    سعيد – هنر خاتم کاري . در اين هنر ، هنرمند ايراني چوبهاي بسيار کوچک و چند ضلعي را به هم مي چسباند

    मोहम्मदः लकड़ी पर चित्रकारी की भांति

    محمد – مثل معرق ؟

    सईदः नहीं। क़लमक़ारी में बहुत ही छोटे छोटे त्रिकोण एक के बाद एक इस प्रकार एक साथ चिपकाए जाते हैं कि पूरी सतह छिप जाती है।

    سعيد – نه . در خاتم کاري ، مثلثهاي بسيار کوچک کنار هم قرار مي گيرند و همه ي سطح کار را مي پوشانند .

    मोहम्मदः इस सूक्ष्म कला को कहां कहां प्रयोग किया जाता है?

    محمد – اين هنر ظريف در چه جاهايي به کار مي رود ؟

    सईदः छोटे छोटे बक्सों, क़लमदानों सहित दूसरी वस्तुओं पर। ईरान की राष्ट्रीय संसद की इमारत पर क़लमकारी की गयी है।

    سعيد – در صندوقچه ها ، قلمدانها و چيزهاي ديگر . ساختمان مجلس ملي ايران پوشيده از خاتم کاري است . .

    सईदः जी हां। इस इमारत के हाल की दीवारों के साथ ही, छत सहित अन्य सुंदर वस्तुओं पर क़लमकारी की गयी है।

    سعيد – بله . ضمنا” در سالن اين بنا ، خاتم كاري ديوارها ، سقف و ساير وسايل زيبا است

    मोहम्मदः वास्तव में यह इमारत तो बहुत बड़ी होगी? क्या ऐसा नहीं है?

    محمد : واقعا” ؟ اين ساختمان بايد بزرگ باشد . اين طور نيست ؟

    मोहम्मद और सईद के बीच फ़ारसी वार्तालाप पर एक बार फिर नज़र डालते हैं,

    محمد – ديروز در مسجد بازار با هنرهاي منبت و معرق آشنا شدم . سعيد – منبت و معرق از صنايع دستي چوبي ايران هستند . محمد – آنها بسيار ظريف و زيبا هستند . سعيد – درست است . ولي از منبت و معرق ، هنر ظريفتري هم داريم . محمد – اسم اين هنر چيست ؟ سعيد – هنر خاتم کاري . در اين هنر ، هنرمند ايراني چوبهاي بسيار کوچک و چند ضلعي را به هم مي چسباند . محمد – مثل معرق ؟ سعيد – نه . در خاتم کاري ، مثلثهاي بسيار کوچک کنار هم قرار مي گيرند و همه ي سطح کار را مي پوشانند . محمد – اين هنر ظريف در چه جاهايي به کار مي رود ؟ سعيد – در صندوقچه ها ، قلمدانها و چيزهاي ديگر . ساختمان مجلس ملي ايران پوشيده از خاتم کاري است . محمد : واقعا” ؟ اين ساختمان بايد بزرگ باشد . اين طور نيست ؟ سعيد – بله . ضمنا” در سالن اين بنا ، خاتم كاري ديوارها ، سقف و ساير وسايل زيبا است .

    क़लमकारी बहुत ही प्रशंसनीय कला है। इस सूक्ष्म कला का इतिहास ईरान में बहुत पुराना है। उदाहरण के लिए इस्फ़हान की अतीक़ जामा मस्जिद का मिंबर जिस पर क़लमकारी की गयी है, एक हज़ार से अधिक पुराना है। इस मस्जिद के मुख्य बरामदे की पूरी छत पर क़लमकारी की गयी जो कम से कम 600 वर्ष पुरानी है। क़लमकारी में अनेक प्रकार के रंगों का प्रयोग किया है। इसी प्रकार सीप हाथी दांत, हड्डी, धात के तारों की इस प्रकार प्रयोग किया गया है कि इस कला में चार चांद लग गया है। अच्छी क़लमकारी उसे कहा जाता है जिसमें छोटे आकार के चित्र चित्र हों और शीराज़, इस्फ़हान व तेहरान को इस कला का केन्द्र समझा जाता है।अलबत्ता तेहरान में अधिकांश क़लमकार शीराज़ और इस्फ़हान के हैं।