islamic-sources

    1. home

    2. article

    3. क़ज़ा नामाजें

    क़ज़ा नामाजें

    Rate this post

    सवालः एक आदमी की बहुत ज़्यादा नमाज़ें छूट गई हैं

    क्या उन छूटी हुई नमाज़ों को इस तरतीब के साथ पढ़

    सकता है मिसाल के तौर पर पहले 20 बार सुबह

    की नमाज़ पढ़े उसके बाद ज़ुहर व अस्र की नमाज़

    को 20 बार और 20 बार मग़रिब व इशा की नमाज़ों

    को पढ़े और इसी तरीक़े से वह एक साल नमाज़ पढ़ता रहे।
    जवाबः इस तरतीब के साथ नमाज़ पढ़ने में कोई मुश्किल नहीं है।