islamic-sources

    1. home

    2. article

    3. ख़तरनाक हो सकता है कम या अधिक सोना

    ख़तरनाक हो सकता है कम या अधिक सोना

    Rate this post

    मध्यम आयु वर्ग के वयस्कों के लिए बहुत कम या बहुत अधिक सोना अच्छा नहीं है। इसका सीधा प्रभाव उनके मस्तिष्क पर पड़ता है और इससे उनकी सोचने-समझने की शक्ति, सीखने की क्षमता व तर्क शक्ति प्रभावित होती है।एक नए अध्ययन के अनुसार, यदि कोई व्यक्ति हर रात छह घंटे से कम सोता है तो यह बहुत कम नींद है इसी प्रकार यदि कोई व्यक्ति हर रात आठ घंटे से अधिक समय तक सोता है तो इसका अर्थ यह है कि आप अधिक सो रहे हैं।

    शोधकर्ताओं ने यह अध्ययन दो अलग-अलग अवधियों में 1997-1999 व 2003-2004 में किया था। शोध में सम्मलित प्रतिभागियों से पूछा गया था कि उन्होंने औसतन साप्ताहिक रात में कितने घंटे की नींद ली।शोधकर्ताओं ने अध्ययन के दौरान दोनों अवधियों में कुछ प्रतिभागियों की नींद के घंटों में होने वाले परिवर्तनों और पहले की भांति नींद लेने वाले प्रतिभागियों में तुलना की।

     

    इसके बाद इन प्रतिभागियों की स्मरण शक्ति, शब्द भंडार व सोचने-समझने की शक्ति पर इसका प्रभाव देखा गया। शोध से प्राप्त परिणाम इस बात के सूचक हैं कि जिन महिलाओं ने प्रत्येक रात सात घंटे की नींद ली उनका दिमाग सबसे बेहतर ढंग से काम कर रहा था। इसके बाद छह घंटे की नींद लेने वाली महिलाओं का दिमाग भी ठीक काम कर रहा था। पुरुषों में छह, सात या आठ घंटे की नींद लेने वाले प्रतिभागियों में सभी के दिमाग समान रूप से काम कर रहे थे। वैसे छः घंटे से कम और आठ घंटे से अधिक समय तक सोने वाले प्रतिभागियों के दिमाग ठीक से काम नहीं कर रहे थे। शोधकर्ता जेन फ़ेरी का कहना है कि अधिकांश लोगों के लिए सात घंटे की नींद पर्याप्त होती है। उनका कहना है कि अब तक यह स्पष्ट नहीं हो सका है कि अधिक देर तक सोना हानिकारक क्यों होता है।

    http://hindi.irib.ir/