islamic-sources

    1. home

    2. article

    3. जन्नतुल बक़ीअ कि तबाही – 21

    जन्नतुल बक़ीअ कि तबाही – 21

    Rate this post

    (31)   शोहदाए ओहद

    यूँ तो मैदाने ओहद में शहीद होने वाले फ़क़त सत्तर अफ़राद थे मगर कुछ ज़्यादा ज़ख़्मों की वजह से मदीने में आकर शहीद हुए। उन शहीदों को बक़ी में एक ही जगह दफ़न किया गया जो जनाबे इब्राहीम की क़ब्र से तक़रीबन 20 मीटर की दूरी पर है। अब फ़क़त इन शोहदा की क़ब्रों का निशान बाक़ी रह गया है।