islamic-sources

    1. home

    2. article

    3. तक़लीद बदलना

    तक़लीद बदलना

    Rate this post

    सवालः उस मुक़ल्लिद (तक़लीद न करने वाले) की क्या ज़िम्मेदारी है जो एक मुज्तहिद की तक़लीद में हो जबकि उसके लिए दूसरे मुज्तहिद की आलमीयत (सबसे बड़ा आलिम) साबित हो जाये?

    जवाबः एहतेयाते वाजिब है कि उन मसाइल में अपने मरजए तक़लीद से उस मरजा (मुज्तहिद) की तरफ़ जिसकी आलमियत साबित हो चुकी है सम्पर्क करे जिनमें उसके मुज्तहिद का फ़त्वा आलम के फ़त्वे से मुख़तलिफ़ हो।