islamic-sources

    1. home

    2. article

    3. नहजुल बलाग़ा बाज़ मुतअस्सिबीन की नज़र में

    नहजुल बलाग़ा बाज़ मुतअस्सिबीन की नज़र में

    Rate this post

    अल्लामा सैयद रज़ी के बाद तक़रीबन दो ढाई सौ बरस पहले तक नहजुल बलाग़ा के ख़िलाफ़ कोई आवाज़ उठते हुए नही नज़र आई है बल्कि मुतअद्दिद अहले सुन्नत उसकी शरहें लिखी हैं। जैसे अबुल हसम अली बिन अबिल क़ासिम बैहक़ी मुतवफ़्फ़ा 565 हिजरी क़मरी, इमाम फ़ख़रुद्दीन मुतवफ़्फ़ा 606 हिजरी क़मरी, इब्ने अबिल हदीदे मोतज़ेली मुतवफ़्फ़ा 655 हिजरी क़मरी व अल्लामा सअदुद्दीन तफ़ताज़ानी वग़ैरह…… उन्ही शरहों के नतीजे में अवाम नहजुल बलाग़ा से आशना हुए हैं।

    और यह बात क़ाबिले लिहाज़ है कि नहजुल बलाग़ा के बारे में तअस्सुबी आवाज़ नहजुल बलाग़ा के मरकज़े तालीफ़ यानी बग़दाद या इराक़ के किसी शहर से बुलंद नही हुई बल्कि मग़रिब की ममलकत जहां बनी उमय्या की सल्तनत थी। वहां इब्ने ख़लक़ान मग़रिबी की ज़बान से यह आवाज़ बुलंद हुई है:

    इब्ने ख़लक़ान मुतवफ़्फ़ा 681 हिजरी क़मरी, सैयद मुर्तुज़ा के हालात में लिखता हैं कि लोगों ने इस सिलसिले में इख़्तेलाफ़ किया है कि नहजुल बलाग़ा जो अली बिन अबी तालिब (अलैहिस सलाम) के कलाम का मजमूआ है। उसका का जामेअ कौन है?

    आया उसे सैयद मुर्तुज़ा ने जमा किया है या उनके भाई सैयद रज़ी ने। और क़ौले क़ीला है कि यह अली बिन अबी तालिब अलैहिस सलाम का कलाम नही है बल्कि जिन्हे इसका जामे समझा जाता है वही इसके मुसन्निफ़ हैं वल्लाहो अअलम।

    डूबते को तिन्के का सहारा काफ़ी होता है लिहाज़ा इब्ने ख़लक़ान से बढ़ चढ़ कर दीगर मुतअस्सिब अफ़राद को यह हिम्मत पैदा हुई कि बग़ैर किसी क़ीला व क़ाल के नहजुल बलाग़ा के कलामे अमीरुल मोमिनीन अलैहिस सलाम होने का इंकार करने लगे। जैसे सैयद मुर्तुज़ा के हालात में ज़हबी मुतवफ़्फ़ा 748 हिजरी क़मरी ने लिखा है:

    अगर कोई किताब नहजुल बलाग़ा का मुतालआ करे तो उसे यक़ीन हो जायेगा कि यह कलाम अमीरुल मोमिनीन अलैहिस सलाम का नही है क्योंकि इस में खुल्लम खुल्ला इज़हारे बेज़ारी और शैख़ैन की तन्कीस है।

    इस तअस्सुबी अंदाज़े पर तअज्जुब है कि पहले उसे सैयद मुर्तुज़ा का कारनामा क़रार देता है और फिर एक दम से यक़ीनी हालत में इज़हार करता है कि अमीरुल मोमिनीन अलैहिस सलाम की तरफ़ इस किताब व कलाम की निस्बत झूठी है और साथ ही साथ दलील भी देता है कि इस में कोई ऐसी ऐनक मिल गई जो, उनसे पहले किसी के पास न थी।

    इल्मी दुनिया में दो शैख़ की तंकीस की वजह से यक़ीनी निस्बत के झूठ कहने कही क़ीमत है। यह बिल्कुल ऐसे ही है जैसे क़ुरआन के नाज़िल होने के बाद मुशरेकीन का एक तबक़ा उसके इलाही होने का इंकार इस लिये करे कि उस में अल्लाह की मज़म्मत व तंक़ीस है।

    काश यह लोग हक़ीक़त को हक़ीक़त के ऐतेबार से देखते न कि ज़ज़्बात के लिहाज़ से। मगर उनका तुर्र ए इम्तियाज़ ही यह है कि वह हर क़ानूने शरीयत को जज़्बात के तहत देखते हैं।

    मुनाज़ेरे के मैदान का सबसे आसान हथियार बन गया है कि जब नहजुल बलाग़ा का कोई कलाम बतौरे दलील पेश हो तो उसका यह कह कर इंकार कर दिया जाये कि अमीरुल मोमिनीन अलैहिस सलाम का कलाम नही है।

    उन्ही की पैरवी करते हुए अल्लामा याफ़ई मुतवफ़्फ़ा 768 हिजरी क़मरी व इब्नुल एमार मुतवफ़्फ़ा 808 हिजरी क़मरी, इब्ने हजरे असक़लानी मुतवफ़्फ़ा 852 हिजरी क़मरी बग़ैर किसी तहक़ीक़ के यह कह डाला कि यह किताब या सैयद रज़ी की तसनीफ़ है या सैयद मुर्तुज़ा की।

    अल्लामा सैयद ज़ीशान हैदर जवादी ने अपनी मुतर्जेमा नहजुल बलाग़ा के मुक़द्देमे में तक़रीबन 68 ऐसी किताबों के हवाले दिये हैं जो ख़ुतबात व फ़रामीने अमीरुल मोमिनीन अलैहिस सलाम के हवाले से सैयद रज़ी की विलादत से सालहा साल पहले लिखी गई हैं। इस मौक़े पर वह तहरीर करते हैं कि क्या इसका भी इमकान है कि इंसान दुनिया में आने से पहले अपने कलेमात मुवल्लेफ़ीन के अज़हान तक मुन्तक़िल कर दे। अगर ऐसा हो सकता है तो यह सैयद रज़ी के मोजेज़ात में से शुमार होगा। जिसका इस्लामी दुनिया में कोई इमकान नही पाया जाता है।

    इब्ने अबिल हदीदे मोतज़ेली कहते हैं कि बाज़ हवस परस्तों का यह गुमान है कि नहजुल बलाग़ा का उम्दा हिस्सा बाज़ शियों का गढ़ा हुआ कलाम है और बहुत से लोग उसके बाज़ हिस्सों को सैयद रज़ी और बाज़ दूसरे अफ़राद की तरफ़ से गढ़ा हुआ तसव्वुर करते हैं।

    लेकिन यह लोग इस क़दर मुतअस्सिब हैं कि तअस्सुब की वजह से उनके दिल की आंखें अंधी हो गई हैं और वह सीधे रास्ते से मुन्हरिफ़ हो गये हैं और क़िल्लते मारेफ़त व मीज़ाने कलाम से ना आशना होने की वजह से बे राह रवी का शिकार हो गये हैं।

    सैयद रज़ी ने अपनी किताब अल मुजाज़ातुन नबविया के इन सफ़हों 387, 195, 36, 35 पर वज़ाहत की है कि नहजुल बलाग़ा को मैंने जमा किया है। इसी तरह अपनी किताब हक़ायक़ुत तावील सफ़हा 287 पर और किताब ख़साएसुल अइम्मा के दीबाचे में भी इसी मतलब को तहरीर किया है।

    और अहले सुन्नत के मुसन्निफ़ शेनास व हक़ीक़त पसंद उलामा व उदबा व हुफ़्फ़ाज़ ने नहजुल बलाग़ा को कलामें अमीरुल मोमिनीन मानते रहे हैं और उसका इज़हार करते रहे हैं और उस पर शरहें व मसादिर भी लिखी हैं।

    नहजुल बलाग़ा उलामा ए अहले सुन्नत की नज़र में

     

    1. अल्लामा अबू हामिद अब्दुल हमीद बिन हिबतुल्लाह मारुफ़ इब्नुल हदीद मदाएनी बग़दादी मुतवफ़्फ़ा 655 हिजरी क़मरी ने नहजुल बलाग़ा की मबसूत शरह लिखी है। वह हज़रत अमीर अलैहिस सलाम के फ़ज़ायले ज़ातिया में फ़साहत के ज़ैल में लिखते हैं:

    आप फ़साहत में फ़ुसाहा के इमाम, बुलाग़ा में बलाग़त में सरदार हैं। आप ही के कलाम के     बारे में कहा गया है कि ख़ालिक़ के कलाम से नीचे और मख़लूक़ के कलाम से बालातर है। और आप ही से दुनिया ए इल्म ने ख़िताबत ने किताबत सीखी है।

    1. अल्लामा सअदुद्दीन तफ़ताज़ानी मुतवफ़्फ़ा 791 हिजरी क़मरी शरहे मक़ासिद में लिखते हैं:

    अमीरुल मोमिनीन (अलैहिस सलाम) सबसे ज़्यादा फ़सीहुल लिसान हैं। जिसकी गवाही किताब नहजुल बलाग़ा की सूरत में मौजूद है।

    1. अल्लामा अलाउद्दीन क़ौशजी मुतवफ़्फ़ा 875 हिजरी क़मरी, शरहे अत तजरीद में क़ौले मुहक़्क़िक़े तूसी अफ़सहुम लिसान की शरह में लिखते हैं कि किताब नहजुल बलाग़ा गवाह है और बुलग़ा का कहना है कि आं हज़रत अलैहिस सलाम का कलाम ख़ालिक़ के कलाम से नीचे और मख़लूक़ के कलाम से बालातर है।
    2. मुहम्मद बिन अली तबा तबा मारुफ़ बे इब्ने तक़तक़ी अपनी किताब तारीख़ुल फ़ख़री फ़िल अदबिस सुलतानिया वद दुवलिल इस्लामिया मतबूआ मिस्र के 9 वें सफ़हे पर लिखते हैं:

    बहुत से लोगों ने नहजुल बलाग़ा की तरफ़ तवज्जो की, जो अमीरुल मोमिनीन अलैहिस सलाम के कलाम पर मुश्तमिल है। इसी तरह इसी किताब से हेकम व मवाएज़े तौहीद व शुजाअत व ज़ोहद, बुलंद हिम्मती का दर्स हासिल किया जा सकता है और इस किताब का सबसे मुख़्तसर फ़ायदा फ़साहत व बलाग़त है।

    1. इब्ने अबिल हदीदे मोतज़ेली कहते हैं कि अगर अरब के तमाम फ़ुसहा को जमा किया जाये और कलेमाते अमीरुल मोमिनीन अलैहिस सलाम, बिल ख़ुसूस ख़ुतबा नंबर 221 की तिलावत की जाये तो बेहतर यह है कि सब इस कलाम के सामने सजदा रेज़ हों। जिस तरह आयाते सजद ए क़ुरआनी के सामने सजदा रेज़ होते हैं।
    1. अब्दुल हमीद यहया, जो फ़न्ने किताबत व ख़िताबत में अरबों के दरमियान ज़रबुल मसल था। उससे पूछा गया कि फ़साहत व बलाग़त के इस मरतबे पर कैसे पहुचे? तो उसने जवाब दिया कि बिल हिफ़ज़िल कलामिल असलअ यानी ऐसे इंसान के कलाम को हिफ़्ज़ कर के, जिसके सर के अगले हिस्से पर बाल नही थे। (इससे उसकी मुराद इमाम अमीरुल मोमिनीन अलैहिस सलाम हैं।)

    इस ज़मीर फ़रोश ने मौला का नाम इस लिये नही लिया कि वह मरवान बिन मुहम्मद आख़िरी उमवी ख़लीफ़ा के दरबार का कातिब था।

    1. हाफ़िज़ मुतवफ़्फ़ा 255 हिजरी क़मरी कहते हैं कि अली कर्रमल्लाहो वजहहु, रसूले ख़ुदा सल्लल्लाहो अलैहे व आलिहि वसल्लम के बाद सबसे ज़्यादा फ़सीह व दानिशमंद व ज़ाहिद थे। उमूर शरीयत व हक़ में सख़्तगीर और पैग़म्बरे इस्लाम के बाद बतौरे मुतलक़ ख़ुतबा ए अरब के इमाम जाने जाते थे।
    1. अल्लामा अहमद बिन मंसूर काज़रदुनी अपनी किताब मिफ़ताहुल फ़ुतूह में अमीरुल मोमिनीन अलैहिस सलाम के हालात में लिखते हैं। जो भी अमीरुल मोमिनीन अली बिन अबी तालिब अलैहिस सलाम के कलाम व ख़ुतूत व ख़ुतबों व रिसालों पर ग़ौर व फ़िक्र करे, उसे मालूम हो जायेगा कि रसूले इस्लाम सल्लल्लाहो अलैहि व आलिहि वसल्लम के बाद कोई भी इल्म व फ़ज़ायल में अली बिन अबी तालिब के बराबर नही है और उन ही में से किताब नहजुल बलाग़ा है।
    1. मुफ़्ती ए दयारे मिस्र अल्लामा शेख़ मुहम्मद अबदहु मुतवफ़्फ़ा 1332 हिजरी क़मरी, अपनी शरह के मुक़द्दमे में लिखते हैं कि नहजुल बलाग़ा के असना ए मुतालआ मुझे ऐसा तसव्वुर हो रहा था कि जैसे लड़ाईयों छिड़ी हुई हैं, नबर्द आज़माईयां हो रही हैं। बलाग़त का ज़ोर है और फ़साहत पूरी ताक़त से हमलावर है। तवह्हुमात शिकस्त खा रहे हैं, शुकूक व शुबहात पीछे हट रहे हैं। ख़िताबत के लश्कर सफ़ बस्ता हैं। ताक़ते लिसान की फ़ौजें शमशीर ज़न और नौज़ा बाज़ी में मसरुफ़ हैं। वसवसों का ख़ून बहाया जा रहा है, तवह्हुमात की लाशें गिर रही हैं और एकदफ़ा ऐसा महसूस होता है कि बस हक़ ग़ालिब आ गया है और बातिल हार गया है। तसव्वुराते बातिल का ज़ोर ख़त्म हो गया है और इस फ़तह व नुसरत का सेहरा असदुल्लाहे ग़ालिब अमीरुल मोमिनीन अली बिन अबी तालिब अलैहिस सलाम के सर है।

    (नक़्ल अज़ मुक़द्दम ए नहजुल बलाग़ा मुफ़ती जाफ़र हुसैन मरहूम)

    1. हुज्जतुल इस्लाम वल मुसलेमीन आक़ा ए मरवी ने हुज्जतुल इस्लाम वल मुसलेमीन, ख़तीबे तवाना आक़ा ए फ़लसफ़ी बरसी पर एक वाक़ेया बयान किया है जिसे आयतुल्लाह जवाद मुग़निया ने अपनी किताब में ज़िक्र किया है कि हर साल शबे ईदे ग़दीर मुल्के लेबनान में शिया सुन्नी मिल कर एक महफ़िल मुनअक़िद किया करते थे और मशहूर व मारुफ़ ख़तीबों में से किसी एक को दावत देते थे।

    एक साल मिस्र के बहुत मशहूर ख़तीब अमीर शकीब को दावत दी गई। नाज़िमे महफ़िल ने जब प्रोग्राम का ऐलान करना शुरु किया तो ख़तीब का ऐलान इस तरह से किया कि हज़रात अभी अमीर शकीब रौनक़ अफ़रोज़े मिन्बर होगें और सुनें कि उन्हे अमीर क्यों कहा जाता है, उन्हे अमीर इस लिये कहा जाता है कि यह अमीरुल मोमिनीन अलैहिस सलाम के बयान से शबाहत रखते हैं।

    इस ऐलान और तशबीह के सुनते ही अमीर शकीब की पेशानी पर बल पड़ गये और जब वह मिन्बर पर पहुचे तो बग़ैर बिस्मिल्लाह कहे। यह जुमला कहा जब से मैं पैदा हुआ हूं, मुझे किसी ने इतना शर्मिंदा नही किया जितना आज और यह कहा कि ख़ुदा की क़सम, इस कायनाते हस्त व बूद की तमाम अशया को अमीरुल मोमिनीन के सवारी की टापों से भी निस्बत नही दी जा सकती।

    अल मुख़्तसर यह कि नहजुल बलाग़ा पर उंगली उठाने वाले उंगुश्त शुमार हैं और उसकी अज़मत के मोतरेफ़ीन की तादाद बहुत ज़्यादा है।

    http://www.balaghah.net