islamic-sources

    1. home

    2. article

    3. पापी और पश्चाताप की आशा

    पापी और पश्चाताप की आशा

    Rate this post

    पुस्तक का नामः पश्चाताप दया की आलंग्न

    लेखकः आयतुल्ला हुसैन अंसारियान

     

    एक सज्जन पुरूष को बहुत अधिक रोता हुआ देखा गया तो लोगो ने उससे रोने का कारण पूछा उसने उत्तर दियाः यदि ईश्वर ने मुझ से कहा कि तुझे पापो के कारण गरम हम्माम मे सदैव के लिए क़ैद कर दूंगा, तो यही काफ़ी है कि मेरी आँखो के आंसू सूख ना जाए लेकिन क्या किया जाए कि उसने पापीयो को नर्क की यातना के योग्य बनाया है, वह नर्क जिसकी आग को हज़ार वर्षो तक दहकाया गया कि वह लाल हुई, हज़ार वर्षो तक सफेद किया गया, तथा हज़ार वर्षो तक उसको फूंका गया कि वह काली हो गई, तो फिर मै उसमे कैसे रह सकता हूँ इस यातना से मोक्ष की आशा केवल ईश्वर के दरबार मे पश्चाताप और माफ़ी है।[1]


    [1] रौज़ातुल बयान, भाग 2, पेज 225