islamic-sources

    1. home

    2. article

    3. माइग्रेन और मिरगी की दवा से नवजात को ख़तरा

    माइग्रेन और मिरगी की दवा से नवजात को ख़तरा

    Rate this post

    उन गर्भवति महिलाओं के बच्चों के मुंह में ऐब होने का

    ख़तरा बढ़ जाता है जो माइग्रेन और मिरगी की दावा खाती है।

    इस दवा को टोपामैक्स कहा जाता है। अमरीका के खाद्य व दवा

    नियंत्रण बोर्ड एफ़डीए के अनुसार जो गर्भवति महिलाएं टोपामैक्स

    दवा खाती हैं उनके नवजात के होटों में दरार पड़ने या तालू में ख़राबी

    की आशंका बीस गुना अधिक होती है। अमरीका के एफ़डीए के न्यूरोलाजी

    प्रोडक्ट विभाग के प्रमुख रसल कैट्ज़ का कहना है कि डाक्टरों को चाहिए

    कि वे गर्भवति महिला को टोपामैक्स दवा लिखते समय इसके लाभ और

    ख़तरों पर ध्यान दें बल्कि वैकल्पिक दवा लिखें जिसमें नवजात में जन्मजात

    कमियों का ख़तरा कम हो।

    http://hindi.irib.ir/