islamic-sources

    1. home

    2. article

    3. यज़ीद रियाही के पुत्र हुर की पश्चाताप 4

    यज़ीद रियाही के पुत्र हुर की पश्चाताप 4

    यज़ीद रियाही के पुत्र हुर की पश्चाताप 4
    Rate this post

    पुस्तक का नामः पश्चाताप दया की आलंग्न

    लेखकः आयतुल्ला हुसैन अंसारीयान

     

    परन्तु हुर की सेना की यह नमाज़ कूफ़े वालो के विरोधाभास एंव टकराव की प्रतिबिंबित कर रही थी क्योकि एक और इमाम हुसैन अलैहिस्सलाम के साथ नमाज़ पढ़ रहे है और इमाम हुसैन अलैहिस्सलाम के नेतृत्व को स्वीकार कर रहे है, दूसरी ओर यज़ीद की आज्ञाकारिता कर रहे है और इमाम हुसैन अलैहिस्सलाम की हत्या करने के लिए तैयार है।

    कूफ़े वालो ने असर की नमाज़ इमाम हुसैन अलैहिस्सलाम के साथ पढ़ी, नमाज़ मुसलमान होने तथा पैग़म्बरे इसलाम के पालन का संकेत है।

    कूफ़ीयो ने नमाज़ पढ़ी, क्योकि मुसलमान थे, क्योकि पैगम्बरे इसलाम के आज्ञाकारी थे, परन्तु रसूल के पुत्र, रसूल के खलीफ़ा तथा रसूले अकरम की अंतिम निशानी की हत्या कर दी! इसका क्या अर्थ? क्या यह विरोधाभास एंव टकराव दूसरो लोगो मे भी पाया जाता है?

    अस्र की नमाज़ के पश्चात इमाम हुसैन अलैहिस्सलाम ने कूफ़े के लोगो को समबोधित करते हुए कहाः

    “ईश्वर से डरो, और यह जान लो कि हक़ किधर है ताकि ईश्वर की खुशी प्राप्त कर सको हम पैगम्बर के परिवार वाले है, शासन करना हमारा हक़ है ना कि ज़ालिम और अत्याचारी का हक़ है, यदि हक़ नही पहचानते और हमे पत्र लिख कर उस पर वफ़ा नही करते तो मुझे तुम से कोई मतलब नही है, मै वापस चला जाता हूँ”।