islamic-sources

    1. home

    2. article

    3. वह चीज़ें जो रोज़ेदार के लिए मकरूह हैं

    वह चीज़ें जो रोज़ेदार के लिए मकरूह हैं

    Rate this post

    (1666) रोज़े दार के लिए कुछ चीज़ें मकरूह हैं जिन में से बाज़ यह हैं-

    (1) आँख में दवा डालना और सुरमा लागाना जब कि उस का मज़ा या बू हलक़ में पहुँचे।

    (2) हर ऐसा काम करना जो कि कमज़ोरी का बाइस हो मसलन फ़स्द खुलवाना और हम्माम जाना।

    (3) (नाक से) निसवार खींचना इस शर्त के साथ कि यह इल्म न हो कि हलक़ तक पहुँचेगी और अगर यह इल्म हो कि हलक तक पहुँचेगी तो उस का इस्तेमाल जायज़ नहीं है। (4) ख़ुशबूदार जड़ी बूटियां सूंघना। (5) औरत का पानी में बैठना।

    (6) शियाफ़ इस्तेमाल करना यानी किसी ख़ुश्क चीज़ से इनेमा लेना।

    (7) जो लिबास पहन रखा हो उसे तर करना।

    (8) दाँत निकलवाना और हर वह काम करना जिस की वजह से मुँह से खून निकले।

    (9) तर लकड़ी से मिसवाक करना।

    (10) बिलावजह पानी या कोई और सय्याल(द्रव) चीज़ मुँह में डालना। और यह भी मकरूह है कि मनी के क़स्द के बग़ैर इंसान अपनी बीवी का बोसा ले या कोई शहवत अंगेज़ काम करे और अगर ऐसा काम करना मनी निकालेने के क़स्द से हो और मनी न निकले तो एहतियाते लाज़िम की बिना पर रोज़ा बातिल हो जाता है।