islamic-sources

    1. home

    2. article

    3. वह जगहें जहाँ नमाज़ पढ़ना मकरूह है

    वह जगहें जहाँ नमाज़ पढ़ना मकरूह है

    Rate this post

    907. कुछ जगहों पर नमाज़ पढ़ना मकरूह है:

    1- हम्माम

    2- खारी ज़मीन

    3- किसी इंसान के मुक़ाबिल

    4- उस दरवाज़े के मुक़ाबिल जो खुला हो।

    5- सड़कों पर, गली और कूचे में इस शर्त के साथ कि गुज़रने वालों के लिए बाईसे ज़हमत न हो और अगर उन्हें ज़हमत हो तो उनके रास्ते में रुकावट डालना हराम है।

    6- आग और चिराग़ के मुक़ाबिल।

    7- बावर्ची ख़ाने में हर उस जगह जहाँ आग की भट्टी हो।

    8- कुएँ के और ऐसे गढ़े के मुक़ाबिल जिसमें पेशाब किया जाता हो।

    9- जानवर की तस्वीर या मुजस्समे के सामने, मगर यह कि उसे ढाँप दिया जाये।

    10- ऐसे कमरे में जिसमें जुनुब इंसान मौजूद हो।

    11- जिस जगह फ़ोटो हो चाहे वह नमाज़ पढ़ने वाले के सामने न हो।

    12- क़ब्र के मुक़ाबिल।

    13- क़ब्र के ऊपर।

    14- दो क़ब्रो के बीच ।

    15- क़ब्रिस्तान में।

    908. अगर कोई इंसान लोगों की आने जाने के रास्ते पर नमाज़ पढ़ रहा हो या कोई और इंसान उसके सामने खड़ा हो तो नमाज़ी के लिए मुस्तहब है कि अपने सामने कोई चीज़ रख ले और अगर वह चीज़ लकड़ी या रस्सी हो तो भी काफ़ी है।