islamic-sources

    1. home

    2. article

    3. वुज़ू का ह़ुक्म

    वुज़ू का ह़ुक्म

    Rate this post

    सवालः मैने मग़रिब की नमाज़ की नियत से वुज़ू किया है तो क्या

    इस वुज़ू से क़ुरआन को छूना और इशा की नमाज़ पढ़ना जायज़ है?
    जवाबः सह़ी वुज़ू करने बाद जब तक वुज़ू न टूटे उस वक़्त

    तक हर उस काम का करना जायज़ है जिसमें तहारत की शर्त है।