islamic-sources

    1. home

    2. article

    3. सच्चा व्यक्ति और पश्चाताप करने वाला चोर

    सच्चा व्यक्ति और पश्चाताप करने वाला चोर

    सच्चा व्यक्ति और पश्चाताप करने वाला चोर
    Rate this post

    पुस्तक का नामः पश्चाताप दया की आलंग्न

    लेखकः आयतुल्ला हुसैन अंसारियान

     

    सज्जन पुरूष अबू उमर ज़जाजी कहते हैः मेरी माता का स्वर्गवास हो गया उनकी वीरासत से मुझे एक घर प्राप्त हुआ, मै उस घर को बेचकर हज के लिए चल पड़ा, जिस समय मै नैनवा नामी धरती पर पहुंचा तो एक चोर सामने आकर मुझ से कहता हैः कि तुम्हारे पास क्या है?

    मेरे हृदय मे विचार आया कि सत्य एक पसंदीदा वस्तु है, और जिसका ईश्वर ने आदेश दिया है, अच्छा है कि इस चोर से भी हक़ीक़त और सच्चाई से बात करूं, इसीलिए मैने कहाः मेरी थैली मे पचास दीनार से अधिक नही है, यह सुनकर उस चोर ने कहाः लाओ वह थैली मुझे दे दो, मैने वह थैली उस चोर को दे दी चोर ने भी उन दीनारो की गणना करने के पश्चात मुझे वापस लौटा दी, मैने उस से कहाः क्यो क्या हुआ? चोर ने उत्तर दियाः मै तुम्हारे पैसे ले जाना चाहता था, किन्तु तुम मुझे ले चले, उसके ललाट पर शर्मिंदगी और प्राश्चताप के प्रभाव प्रकट थे जिससे यह स्पष्ट हो रहा था कि उसने अपने अतीत से पश्चाताप कर ली है अपनी सवारी से पैदल होकर उसने मुझ से सवार होने का आग्रह किया, मैने उत्तर दियाः कि मुझे सवारी की कोई आवश्यकता नही है, परन्तु उसने ज़ोर दिया, इस कारण मै सवार हो गया और वह मेरे पीछे पीछे पैदल चल दिया, मीक़ात[1] पहुंचकर अहराम बांधा और मस्जिदुल एहराम[2] की और चल पड़े, उसने हज के सम्पूर्ण आमाल मेरे साथ किए और उसी स्थान पर इस संसार से प्रलोक की ओर प्रस्थान कर गया।[3]


    [1] मीक़ात उस स्थान को कहते है जहाँ से हाजी लोग हज के लिए विशेष प्रकार के वस्त्र धारण करते है। (अनुवादक)

    [2] मस्जिदुल एहराम ख़ाना ए काबा को कहते है, जिसकी ओर मुसलमान मुह करके नमाज़ पढ़ते है। (अनुवादक)

    [3] रौज़ातुल बयान, भाग 2, पेज 235