islamic-sources

    1. home

    2. article

    3. हज़रत अली (अ) और कूफे के अनाथ

    हज़रत अली (अ) और कूफे के अनाथ

    हज़रत अली (अ) और कूफे के अनाथ
    Rate this post

    एक दिन हज़रत अली अलैहिस्सलाम ने देखा किएक औरत अपने कंधे पर पानी की मश्क उठाए हुएले जा रही है आपने इस औरत से मश्क ले ली और मश्क उसके घर पहुंचा दी. पानी की मश्क उसके घरतक पहुंचाने के बाद आपने उसका हाल चाल भी पूछा.
    महिला ने कहा: अली इब्ने अबी् तालिब ने मेरे पतिको कहीं काम से भेजा गया था जहां वह मार डालेगए अब में यतीम बच्चों की पालन पोषण कर रहीहूँ हालांकि उनकी सरपरस्ती और पालन पोषण मेरेबस से बाहर है हालात से मजबूर होक्रर लोगों केघरों में जाकर सेवा करती हूँ
     .
    अली अलैहिस्सलाम यह सुन कर अपने घर वापसआ गए और पूरी रात आप नहीं सोए अगली सुबह आपने एक टोकरी में खाने पीने का सामान रखा औरऔरत के घर की ओर चल पडे,रास्ते में कुछ लोगों ने हज़रत अली अलैहिस्सलाम से अनुरोध किया कि खाने कीचीजों से भरी हुई टोकरी उन्हें दे दें वह पहुँचा देंगें मगर हज़रत अली यह कहते जाते थेः

    क़यामत के दिन मेरे कार्यों का बोझ कौन उठाएगा
    ?
    उस स्त्री के घर के दरवाजे पर पहुँचने के बाद आपने दरवाजा खटखटाया. महिला ने पूछा कौन है
    ?
    हज़रत ने जवाब दिया:

    जिसने कल तुम्हारी मदद की थी और पानी की मश्क तुम्हारे घर तक पहुँचाई थीतुम्हारे बच्चों के लिए खानालाया हूंदरवाज़ा खोलो!
    महिला ने दरवाजा खोला और कहा:
    ईश्वर आपको ِइस काम का अच्छा बदला दे और मेरे और अली के बीच खुद फैसला करे.
    हज़रत अली अलैहिस्सलाम उसके घर में दाखिल हुए और उस से कहा:
    रोटी पकाओगी या बच्चों की देखभाल करोगी?
    महिला ने कहा: मैं रोटी पकाने में अधिक प्रवीण हों आप मेरे बच्चों को दीख लीजिए!

     

    महिला ने आटा गूंधा. अली अलैहिस्सलाम जो गोश्त लेकर आये थे उसको भून रहे थे और साथ साथ ख़ुरमे भीबच्चों को खिलाते जा रहे थे
    आप पिदराना स्नेह के साथ कझूरबच्चों के मुंह में रखते जा रहे थे और हर बार यही कहते जा रहे थे:

    मीरे बच्चों: अगर अली ने तुम्हारे पक्ष में कोई कोताही की है तो उसे क्षमा कर दो.
    जब आटा तैयार हो गया तो हज़रत अली अलैहिस्सलाम ने तनूर जलाया, तनूर जला रहे थे और अपना चेहरातनूर की आग के पास बार बार ले जाकर फरमाते थे:
    ऐ अली! आग का मजा चखो! यह व्यक्ति की सज़ा है जो यतीमों की ओर ध्यान ना दे. अचानक एक और औरतजो हज़रत अली अलैहिस्सलाम को पहचानती थी घर में दाखिल हुई.
    उसने जैसे ही आप को देखा तेजी के साथ घर की औरत के पास दौड़ती हुई गयी और कहा
    यह तुम क्या कर रही हो! यह व्यक्ति मुसलमानों का अगुवा तथा देश का शासक अर्थात अली अलैहिस्सलाम हैं.

    विधवा औरत जो अपने कहे पर लज्जित थी कहने लगी:
    ऐ अमीरुल मोमिनीन! मैं आपसे बहुत शर्मिंदा हूँमुझे माफ कर दीजीए!
    हज़रत ने फ़रमाया: नहीं मैं तुमसे शर्मिंदा हूँ कि मैंने तुम्हारे और तुम्हारे बच्चों के पक्ष में कोताही की है.