islamic-sources

    1. home

    2. article

    3. हज 1

    हज 1

    Rate this post

    (2)

    वे एक एसे मरूस्थल की ओर बढ़ रहे हैं जो चारों ओर पर्वतों और घाटियों से घिरा है।

    इस खुले मैदान में स्वच्छ आकाश, खुला क्षितिज तथा चमकता सूर्य वे दृश्य हैं जो दर्शकों को अपनी ओर आकृष्ट करते हैं।

    हाजी को अरफ़ात, मशअर और मिना तीन स्थानों पर रूकना पड़ता है। दूसरे शब्दों में हज के संस्कारों में से एक अरफ़ात में ठहरना है।

    अरफ़ात नामक विस्तृत मैदान, मक्का नगर के उत्तर में स्थित है। यह विस्तृत मैदान, जबलुर्रहमा नामक पर्वतांचल में स्थित है।

    मक्का नगर से अरफ़ात की दूरी २५ किलोमीटर है।

    अरफ़ात वह पवित्र भूमि है जिसे ईश्वर ने अपने अतिथियों के अतिथि सत्कार के लिए विशेष किया है।

    ईश्वर ने अपने घर के समस्त यात्रियों को यह निर्देश दिया है कि वे एक निर्धारित समय पर उस स्थान पर एकत्रित हों और प्रत्येक अपनी क्षमता के अनुसार उसकी

    दया एव कृपा के ठाठे मारते समुद्र से लाभान्वित हो। अरफ़ात, पहचान और चिंतन-मनन की भूमि है। यह चिंतन और उच्चता की भूमि है।

    अरफ़ात में ९ जि़लहिज्जा की दोपहर से सूर्यास्त तक ठहरा जाता है। यह कार्य बहुत ही भव्य एवं रोमांचक होता है।

    यहां पर हाजी तंबुओं में रहते हैं और चिंतन-मनन एवं प्रार्थना में व्यस्त रहते हैं।

    जीवन में पहचान और होशियारी, सफलता का रहस्य है। जिस प्रकार से मनुष्य को जीवन में अपने कर्तव्यों और दायित्वों के प्रति सचेत रहना चाहिए

    उसी प्रकार उसे उन ख़तरों से भी अवगत रहना चाहिए जो उसके मन तथा उसकी आत्मा को क्षति पहुंचा सकते हैं क्योंकि इस्लामी शिक्षाओं में होशियारी

    और दूरदर्शिता पर विशेष ध्यान दिया गया है। मनुष्य को अपने इर्दगिर्द घटने वाली घटनाओं और भविष्य में घटने वाली घटनाओं के प्रति सदा ही सचेत रहना चाहिए।

    हज़रत अली अलैहिस्सलाम के कथनानुसार उसपर ईश्वर की कृपा हो जो सोच-विचार करे और उसी के आधार पर मामलों को परखें।

    अरफ़ात में हाजी को पहचान और दूरदर्शिता प्राप्त करने के लिए चिंतन-मनन करना चाहिए। उसे अपने बारे में और जीवन में उसने जो कुछ भी किया है उसके बारे में सोचना चाहिए।

    अरफ़ात में प्रार्थना करते हुए उसे ईश्वरीय दूतों की प्रार्थनाओं को याद करना चाहिए। अरफ़ात में हर ओर से प्रार्थना की आवाज़ें सुनाई देती हैं।

    वहां पर उपस्थित सारे ही लोग ईश्वर से प्रार्थना करते हैं और उससे क्षमायाचना करते हैं।

    इस्लामी इतिहास के अनुसार अरफ़ात, प्रथम मनुष्य के रूप में हज़रत आदम अलैहिस्सलाम के धरती पर उतरने का स्थल है।

    उन्होंने अपनी उच्चता के लिए इसी स्थान से प्रयास आरंभ किया था।

    यह हज़रत इब्राहीम, हज़रत मुहम्मद मुस्तफ़ा (स) की भूमि और इमाम हुसैन अलैहिस्सलाम की आध्यात्मिक ढंग से की गई दुआओं का स्थल है।

    कहा जाता है कि यदि अरफ़ात में मनुष्य की आत्मा और उसका हृदय परिवर्तित हो जाए और मशअर में ठहरकर वह अपनी इस स्थिति को परिपूर्णता के शिखर की ओर ले जाए तो फिर

    उसका हज ईश्वर के निकट स्वीकार्रय है। अरफ़ात मरूस्थल में प्रलय के दिन की याद ताज़ा होती है और अपने किये गए कार्मों को याद करके हाजी के भीतर विच्छेद की स्थिति उत्पन्न होती है

    जो उसके लिए सार्थक और लाभदायक है।

    पैग़म्बरे इस्लाम हज़रत मुहम्मद मुस्तफ़ा (स) अपने अन्तिम हज के दौरान जब अरफ़ात से विदा हो रहे थे तो उन्होंने हज़रत बेलाल से कहा, हे बेलाल, लोगों से कहो कि वे शांत हो जाएं।

    जब सब लोग शांत हो गए तो हज़रत मुहम्मद (स) ने कहा कि तुम्हारे ईश्वर ने तुमपर उपकार किया है तुम्हारे पूर्वजों को अपनी क्षमा में सम्मिलित किया है

    और फिर तुम्हारी बुराई को भी तुम्हारी अच्छाइयों की सिफ़ारिश से माफ़ कर दिया। अब आगे बढ़ो जबकि तुम सामान्यतः ईश्वर की कृपा और उसकी क्षमा में सम्मिलित हो चुके हो।