islamic-sources

    1. home

    2. article

    3. हराम चीज़ों का व्यापार

    हराम चीज़ों का व्यापार

    Rate this post

    सवालः अगर एक इंसान ने किसी ग़ैर इस्लामी मुल्क में होटल बनवाया है और वह कुछ ह़राम

    चीज़ें जैसे शराब आदि भी बचने पर मजबूर हो क्योंकि उस मुल्क में ज़्यादा लोग मसीह़ी हैं जो कि

    आमतौर से खाने के साथ शराब भी पीते है और जिस होटल में खाने के साथ शराब नहीं होती उस

    होटल में नहीं जाते हैं और होटल का मालिक यह इरादा रखता है कि ह़राम चीजों से जो कमाई होगी

    उसे इस्लामी शासक को देगा तो क्या उसके लिए यह काम जाएज़ है?
    जवाबः ग़ैरे इस्लामी मुल्कों में होटल के बनवाने में कोई मुश्किल नहीं है

    लेकिन उसमें शराब और ह़राम खानों को बेचना जाएज़ नहीं है चाहे

    ख़रीदने वालों की निगाह में जाएज़ ही क्यों न हो और उससे कमाया

    हुआ पैसा जाएज़ नहीं है चाहे उसके मालिक यह इरादा भी रखता हो

    कि पैसा इस्लामी शासक को देगा।