islamic-sources

    1. home

    2. article

    3. 1- तौहीद

    1- तौहीद

    Rate this post

    तौहीद के सम्पूर्ण व परिपूर्ण प्रसंसा यह है किः इंसान को जान लेना चाहीए, कि ख़ूदा वन्दे आलम इस पृथ्वी को सृष्ट किया है. और इस पृथ्वी को अनुपस्थित से उपस्थित में लाया है। और उस पृथ्वी को समस्त प्रकार के निर्देश उस अल्लाह के हाथ में है, रुज़ी, ज़िन्दगी, मौत देना,सही व सालिम रख़ना, व्याधि वगैरह…. उस के हाथ में है। कभी उसके इरादे और इख़तियार में ख़ल्ल वाक़े नहीं होता। ….. इस पृथ्वी के समस्त प्रकार मख़लूक़ पर चाहे वह छोटे हो या बढ़े (समस्त प्रकार मख़लूक़ पर) निर्देशन करता है और अक़्ल भी यही कहती है, कि पृथ्वी को उपस्थित में लाने वाला ख़ूदा वन्दे आलम है. जो हाकिम व आलिम है। और इस सम्पर्क क़ुरआन में अधिक से अधिक आयतें उपस्थित है जो इंसानों के अक़्ल की ताईद करती है।

    हाँ, यह सब प्रमाण पर्वरदिगार की अज़मत का पहचान है, और हम सब अपनी अक़्ल व गुणावली के बुनयाद पर यक़ीन करते है (कि वह अल्लाह इस पृथ्वी को वजूद में लाया है) हम सब को चाहिए उनका पैरुवी करे, उस से सहायता मागें, उस पर यक़ीन करें।