islamic-sources

    1. home

    2. article

    3. 110 सूरए नस्र

    110 सूरए नस्र

    Rate this post

    110 सूरए नस्र का अनुवाद

    शुरू करता हूँ अल्लाह के नाम से जो रहमान और रहीम है।

    1-जब अल्लाह की मदद और फ़तह( विजय) मिल जायेगी।

    2-तो आप देखेंगे कि असंख्यक लोग अल्लाह के दीन मे सम्मिलित होंगें।

    3-बस अपने पालने वाले की हम्द के साथ तस्बीह करो और उससे इस्तग़फ़ार करो( क्षमा याचना) वह तौबा को बहुत ज़्यादा क़बूल करने वाला है।