islamic-sources

    1. home

    2. article

    3. 111 सूरए मसद

    111 सूरए मसद

    Rate this post

    111 सूरए मसद का अनुवाद

    शुरू करता हूँ अल्लाह के नाम से जो रहमान और रहीम है।

    1-अबु लहब के दोनों हाथ टूट जायें और वह मर जाये।

    2-उसके माल और कमाये हुए सामान ने उसे कोई फ़ायदा नही दिया।

    3-वह जल्दी ही भड़कती हुई आग मे डाला जायेगा।

    4-और उसकी पत्नी भी जो लकडियाँ उठाय फ़िरती है।

    5-जिसके गले मे (खजूर की पत्तियों से) बटी हुई रस्सी पड़ी है।