islamic-sources

    1. home

    2. article

    3. 80- सूरए अबस का अनुवाद

    80- सूरए अबस का अनुवाद

    Rate this post

    शुरू करता हूँ अल्लाह के नाम से जो रहमान और रहीम है।

    1- उसने मुँह बिसूर लिया और पीठ फेर ली।

    2- इस वजह से कि उनके पास एक अँधा आ गया।

    3- और तुम्हे क्या मालूम कि शायद वह पाकीज़ा बन जाता।

    4- या नसीहत हासिल कर लेता तो यह नसीहत उसके काम आती।

    5- लेकिन जो गनी(मालदार) बन गया है ।

    6- आप उसकी फिक्र मे लगे हैं।

    7- हालाँ कि अगर वह पाकीज़ा न भी बने तो आप पर कोई ज़िम्मे दारी नही है।

    8- लेकिन जो आपके पास दौड़ कर आता है और कोशिश करता है।

    9- और खौफ़े खुदा भी रखता है।

    10- आप उससे बे रूखी करते हैं।

    11- देखिये यह क़ुरआन एक नसीहत है।

    12- जिसका दिल चाहे इस से नसीहत हासिल करे।

    13- यह बा इज़्ज़त सहीफ़ों में से है।

    14- जो बलन्दो बाला और पाकीज़ा हैं।

    15- ऐसे लिखने वालों के हाथों में है

    16- जो बा इज़्ज़त और नेक किरदार हैं।

    17- इंसान मारा गया यह कितना नाशुकरा और मुनकिर हो गया।

    18- उसको किस चीज़ से पैदा किया गया है।

    19- उसे नुत्फ़े से पैदा किया फिर उसका अन्दाज़ा मुक़र्रर किया। (यानी शक्लो सूरत बनाई गयी।)

    20- फ़िर उसके लिए रास्ते को आसान किया।

    21- फिर उसे मौत दे कर दफ़्न कर दिया गया।

    22- फिर जब चाहेगा ज़िन्दा कर के उठा लेगा।

    23- हर गिज़ नही उसने अल्लाह के हुक्म को बिल्कुल पूरा नही किया।

    24- इंसान को चाहिए कि वह अपनी ग़िज़ा (खाने) की तरफ़ देखे।

    25- बेशक हमने पानी बरसाया।

    26- फिर हमने ज़मीन को चीरा।

    27- फिर हमने उसमें दाने ऊगाये।

    28- और अंगूर व तरकारियाँ।

    29- और ज़ैतून व खजूर।

    30- और घने घने बाग़।

    31- और फल व चारा।

    32- जो तुम्हारे और तुम्हारे जानवरों के लिए सरमाया है।

    33- फिर जब कानों के पर्दे फाड़ने वाली आवाज़ आयेगी(क़ियामत)।

    34- वह दिन जब इंसान अपने भाई से बचेगा।

    35- और माँ बाप से भी।

    36- और बीवी और औलाद से भी।

    37- उस दिन हर आदमी की एक खास फिक्र होगी जो उसके लिए काफ़ी होगी।

    38- उस दिन कुछ चेहरे रौशन होंगे।

    39- मुस्कुराते हुए खिले हुए।

    40- और कुछ चेहरे धूल में अटे हुए होंगे।

    41- जिन पर ज़िल्लत की सियाही छायी हुई होगी।

    42- यह सब काफ़िर और फ़ाजिर लोग होंगे।