islamic-sources

    1. home

    2. article

    3. 83- मुतफ़्फ़िफ़ीन

    83- मुतफ़्फ़िफ़ीन

    Rate this post

    83- मुतफ़्फ़िफ़ीन का हिन्दी अनुवाद

    शुरू करता हूँ अल्लाह के नाम से जो रहमान और रहीम है।

    1- वैल(धिक्कार) है उनके लिए जो नाप तोल में कमी करने वाले हैं। 2- जब वह लोगों से नाप कर लेते हैं तो पूरा माल ले लेते हैं। 3- और जब दूसरों को नाप या तोल कर देते हैं तो कम देते हैं। 4- क्या उन्हें यह ख़्याल नही है कि वह एक दिन उठाये जायेंगे। 5- बड़े सख्त दिन में। 6- जिस दिन सब रब्बुल आलःमीन की बारगाह में हाज़िर होंगे। 7- याद रखो कि बदकार लोगों का नामा-ए-आमाल सिज्जीन में होगा। 8- और तुम क्या जानों कि यह सिज्जीन क्या है। 9- यह एक लिखी हुई किताब है। 10- आज के दिन झुटलाने वालों के लिए बर्बादी है। 11- वह जो क़ियामत को झुटलाते हैं। 12- और इसको सिर्फ़ वही झुटलाते हैं जो हद से गुज़र जाने वाले गुनाहगार हैं। 13- जब उनके सामने आयात की तिलावत की जाती है तो कहते हैं कि यह तो पुराने अफ़साने हैं। 14- नही नही बल्कि इन के दिलों पर इनके आमाल का ज़ंग लग गया है। 15- याद रखो कि यह लोग उस दिन अल्लाह से महजूब होंगे। 16- फिर इसके बाद वह जहन्नम में दाखिल होंगे। 17- फिर उनसे कहा जायेगा कि तुम जिसको झुटलाते थे वह यही है। 18- याद रखो कि नेक लोगों का नामा-ए-आमाल इल्लीयीन में होगा। 19- और तुम क्या जानों कि यह इल्लीयीन क्या है। 20- यह एक लिखी हुई किताब है। 21- जिस पर मुक़र्रबीन गवाह हैं। 22- बेशक नेक लोग नेअमतों में होंगे। 23- तख्तों पर बैठे नज़ारा कर रहे होंगे। 24- तुम उनके चेहरों पर नेअमत की शादाबी को देखोगे। 25- उन्हें सील की हुई खालिस शराब पिलाई जायेगी। 26- इस शराब पर मुश्क की सील लगी होगी। और बहिश्त की इन नेअमतो में राग़िब लोगों को एक दूसरे पर सबक़त लेनी चाहिए। 27- इस शराब में तसनीम का पानी मिला होगा। 28- यह एक चश्मा है जिस से मुक़र्रब बन्दे ही पानी पीते हैं। 29- बेशक यह मुजरिम लोग ईमानदारों का मज़ाक़ उड़ाया करते थे। 30- और जब उनके पास से गुज़रते थे तो इशारे किया करते थे। 31- और जब अपने घरवालों की तरफ़ पलटते थे तो खुश हाल होते थे। 32- और जब मोमेनीन को देखते थे तो कहते थे कि यह सब असली गुमराह हैं। 33- जबकि इनको मोमेनीन पर निगरां(देख रेख करने वाला) बना कर नही भेजा गया था। 34- आज ईमानदार भी काफ़िरों का मज़ाक़ उड़ायेंगे।