islamic-sources

  •  इमाम ख़ुमैनी की रचनाएं
    इमाम ख़ुमैनी की रचनाएं
    Rate this post

    इमाम ख़ुमैनी की रचनाएं

    इमाम ख़ुमैनी की रचनाएंRate this post समकालीन विश्व में ईरान की इस्लामी क्रान्ति के स्थान और इमाम ख़ुमैनी के प्रभाव के दृष्टिगत, उनकी आध्यात्मिक विशेषताओं, उनके व्यक्तित्व के आयामों तथा उनके धार्मिक व राजनैतिक विचारों को समझने के लिए सबसे अच्छी शैली उनके भाषणों, राजनैतिक व सामाजिक मामलों पर उनके लेखों और उनके व्यक्तित्व व […]

  •  ईरान के समकालीन बुद्धिजीवी-4
    ईरान के समकालीन बुद्धिजीवी-4
    Rate this post

    ईरान के समकालीन बुद्धिजीवी-4

    ईरान के समकालीन बुद्धिजीवी-4Rate this post उथल-पुथल भरे वर्तमान काल में इस्लामी गणतंत्र ईरान के संस्थापक स्वर्गीय इमाम ख़ुमैनी को एक विशेष स्थान प्राप्त है। वे ऐसे दूरदर्शी और होशियार राजनेता तथा अद्वितीय परिज्ञानी या तत्वदर्शी थे जिन्होंने नैतिक शास्त्र, परिज्ञान, दर्शनशास्त्र, धर्मशास्त्र, राजनीति यहां तक कि साहित्य के क्षेत्रों में बहुत ही समृद्ध पुस्तकें […]

  •  ईरान के समकालीन बुद्धिजीवी-3
    ईरान के समकालीन बुद्धिजीवी-3
    Rate this post

    ईरान के समकालीन बुद्धिजीवी-3

    ईरान के समकालीन बुद्धिजीवी-3Rate this post समकालीन विश्व में ईरान की इस्लामी क्रान्ति के स्थान और इमाम ख़ुमैनी के प्रभाव के दृष्टिगत, उनकी आध्यात्मिक विशेषताओं, उनके व्यक्तित्व के आयामों तथा उनके धार्मिक व राजनैतिक विचारों को समझने के लिए सबसे अच्छी शैली उनके भाषणों, राजनैतिक व सामाजिक मामलों पर उनके लेखों और उनके व्यक्तित्व व […]

  • इमाम ख़ुमैनी की रचनाएं
    Rate this post

    इमाम ख़ुमैनी की रचनाएं

    इमाम ख़ुमैनी की रचनाएंRate this post समकालीन विश्व में ईरान की इस्लामी क्रान्ति के स्थान और इमाम ख़ुमैनी के प्रभाव के दृष्टिगत, उनकी आध्यात्मिक विशेषताओं, उनके व्यक्तित्व के आयामों तथा उनके धार्मिक व राजनैतिक विचारों को समझने के लिए सबसे अच्छी शैली उनके भाषणों, राजनैतिक व सामाजिक मामलों पर उनके लेखों और उनके व्यक्तित्व व […]

  • ईरान के समकालीन बुद्धिजीवी-4
    Rate this post

    ईरान के समकालीन बुद्धिजीवी-4

    ईरान के समकालीन बुद्धिजीवी-4Rate this post उथल-पुथल भरे वर्तमान काल में इस्लामी गणतंत्र ईरान के संस्थापक स्वर्गीय इमाम ख़ुमैनी को एक विशेष स्थान प्राप्त है।  वे ऐसे दूरदर्शी और होशियार राजनेता तथा अद्वितीय परिज्ञानी या तत्वदर्शी थे जिन्होंने नैतिक शास्त्र, परिज्ञान, दर्शनशास्त्र, धर्मशास्त्र, राजनीति यहां तक कि साहित्य के क्षेत्रों में बहुत ही समृद्ध पुस्तकें […]

  • ईरान के समकालीन बुद्धिजीवी-3
    Rate this post

    ईरान के समकालीन बुद्धिजीवी-3

    ईरान के समकालीन बुद्धिजीवी-3Rate this post समकालीन विश्व में ईरान की इस्लामी क्रान्ति के स्थान और इमाम ख़ुमैनी के प्रभाव के दृष्टिगत, उनकी आध्यात्मिक विशेषताओं, उनके व्यक्तित्व के आयामों तथा उनके धार्मिक व राजनैतिक विचारों को समझने के लिए सबसे अच्छी शैली उनके भाषणों, राजनैतिक व सामाजिक मामलों पर उनके लेखों और उनके व्यक्तित्व व […]

  • ईरान के समकालीन बुद्धिजीवी-2
    Rate this post

    ईरान के समकालीन बुद्धिजीवी-2

    ईरान के समकालीन बुद्धिजीवी-2Rate this post 1970 के दशक में तेल के उत्पादन और उसके मूल्य में वृद्धि के साथ ही ईरान के अत्याचारी शासक मुहम्मद रज़ा पहलवी को अधिक शक्ति का आभास हुआ और उसने अपने विरोधियों के दमन और उन्हें यातनाए देने में वृद्धि कर दी। शाह की सरकार ने पागलपन की सीमा […]

  • ईरान के समकालीन बुद्धिजीवी-1
    Rate this post

    ईरान के समकालीन बुद्धिजीवी-1

    ईरान के समकालीन बुद्धिजीवी-1Rate this post उन महान हस्तियों के नाम और याद को जीवित रखना जिन्होंने राष्ट्रों के भविष्य को ईश्वरीय विचारों और अपने अथक प्रयासों से उज्जवल बनाया है, एक आवश्यक कार्य है। इस श्रंखला में हम प्रयास करेंगे कि समकालीन ईरान की धर्म व ज्ञान से संबंधित प्रभावी हस्तियों से आपको परिचित […]

  • इमाम ख़ुमैनी की ज़िंदगी पर एक नज़र
    Rate this post

    इमाम ख़ुमैनी की ज़िंदगी पर एक नज़र

    इमाम ख़ुमैनी की ज़िंदगी पर एक नज़रRate this post चार जून सन 1989 ईसवी को दुनिया एक ऐसी महान हस्ती से बिछड़ हो गई जिसने अपने चरित्र, व्यवहार, हिम्मत, समझबूझ और अल्लाह पर पूरे यक़ीन के साथ दुनिया के सभी साम्राज्यवादियों ख़ास कर अत्याचारी व अपराधी अमरीकी सरकार का डटकर मुक़ाबला किया और इस्लामी प्रतिरोध […]

  • इमाम ख़ुमैनी रहमतुल्लाह अलैह
    Rate this post

    इमाम ख़ुमैनी रहमतुल्लाह अलैह

    इमाम ख़ुमैनी रहमतुल्लाह अलैहRate this post 1970 के दशक में तेल के उत्पादन और उसके मूल्य में वृद्धि के साथ ही ईरान के अत्याचारी शासक मुहम्मद रज़ा पहलवी को अधिक शक्ति का आभास हुआ और उसने अपने विरोधियों के दमन और उन्हें यातनाए देने में वृद्धि कर दी। शाह की सरकार ने पागलपन की सीमा […]

  • स्वर्गीय इमाम खुमैनी
    Rate this post

    स्वर्गीय इमाम खुमैनी

    स्वर्गीय इमाम खुमैनीRate this post आज स्वर्गीय इमाम खुमैनी की बरसी है। इस्लामी गणतंत्र ईरान के संस्थापक इमाम ख़ुमैनी का स्वर्गवास वर्ष १९८९ में हुआ था।  संयोग से आज ही कल इस्लाम के महापुरूष हज़रत अली अलैहिस्सलाम का भी शुभ जन्म दिवस है। इमाम ख़ुमैनी जैसे महापुरूष की बरसी पर हम उनकी दृष्टि से हज़रत […]

  • इमाम ख़ुमैनी के जीवन में पैग़म्बरे इस्लाम की विशेषताओं की झलक
    Rate this post

    इमाम ख़ुमैनी के जीवन में पैग़म्बरे इस्लाम की विशेषताओं की झलक

    इमाम ख़ुमैनी के जीवन में पैग़म्बरे इस्लाम की विशेषताओं की झलकRate this post चौदह खुरदाद वर्ष 1368 हिजरी शम्सी अर्थात चार जून वर्ष 1989 ईसवी को विश्व एक ऐसे महापुरूष से हाथ धो बैठा जिसने अपने चरित्र, व्यवहार,अदम्य साहस, समझबूझ और ईश्वर पर पूर्ण विश्वास के साथ संसार के सभी साम्राज्यवादियों विशेषकर अत्याचारी व अपराधी अमरीकी सरकार का डटकर मुक़ाबला किया […]

  • इमाम खुमैनी और इस्लामी क्रांति
    Rate this post

    इमाम खुमैनी और इस्लामी क्रांति

    इमाम खुमैनी और इस्लामी क्रांतिRate this post ईरान की जिस इस्लामी कांति ने वर्तमान विश्व में जो परिवर्तन किये और जिस की सफलता व शक्ति ने विश्ववासियों को दांतों तले उंगुली दबाने पर विवश कर दिया उस का नेतृत्व करने वाली हस्ती अर्थात इमाम खुमैनी का व्यक्तित्व संभवतः इस क्रांति से भी अधिक आश्चर्य जनक […]

  • अन्य धर्मों को मानने वाले इमाम खुमैनी की दृष्टि में
    Rate this post

    अन्य धर्मों को मानने वाले इमाम खुमैनी की दृष्टि में

    अन्य धर्मों को मानने वाले इमाम खुमैनी की दृष्टि मेंRate this post यहूदी ईसाई और इस्लाम को इब्राहीमी या आसमान से उतरे दीन (REVEALED RELGONS) कहा जाता है जो पैग़म्बरों और आसमानी किताबों की छोड़ी निशानी हैं यह दीन जहाँ यह कहते हैं कि उनसे पहले के दीन में उन की सच्चाई बयान हुई और […]

  • इमाम खुमैनी (रह) के दस बड़े कारनामे
    Rate this post

    इमाम खुमैनी (रह) के दस बड़े कारनामे

    इमाम खुमैनी (रह) के दस बड़े कारनामेRate this post साम्राजी राजनेताओं के एक सम्मेलन में यह एलान किया था कि हमें चाहिए कि इस्लाम को इस्लामी देशों में गोशा नशीन कर दें। इससे पहले भी और इसके बाद भी इस काम के लिए बहुत ज़्यादा पैसे खर्च किए गए लेकिन वह कामयाब न हो सके। […]