islamic-sources

  • Rate this post

    बिस्मिल्लाह के प्रभाव 2

    Rate this post पुस्तक का नामः कुमैल की प्रार्थना का वर्णन लेखकः आयतुल्लाह अनसारियान اَللَّهُمَّ إِنِّى أَسْأَلُكَ بِرَحْمَتِكَ الَّتِى وَسِعَتْ كُلَّ شَىْء अल्लाहुम्मा इन्नी असअलोका बेराहमतेकल लति वसेअत कुल्लो शैएन हे ईश्वर, मै तुझ से अनुरोध करता हूँ, कि तेरी कृपा ने सभी चीजो को घेर रखा है मलाकूती कलाम, उत्कृष्ट ख़ज़ाने तथा नभमंडली वाक्य […]

  • Rate this post

    बिस्मिल्लाह के प्रभाव 1

    Rate this post पुस्तक का नामः कुमैल की प्रार्थना का वर्णन लेखकः आयतुल्लाह अनसारियान   इस उज्जवल शब्द और दिव्य फ़ैज़ के ख़ज़ाने का जपन, हर समय तथा प्रत्येक कार्य के प्रारम्भ मे अच्छा और लोकप्रिय है; जैसे ही वक्ता उसके अर्थ को ध्यानपूर्वक और स्वच्छ इरादे के साथ ईश्वर से उपाश्रय के कसद से अपने […]

  • Rate this post

    अर्रहीम 3

    Rate this post पुस्तक का नामः कुमैल की प्रार्थना का वर्णन लेखकः आयतुल्लाह अनसारियान   हमने इस के पूर्व लेख मे इस बात का वर्णन किया था कि मानव के लिए तीन स्थितिया (प्रथमः अनुपस्थिति की हालत जिसे अस्तित्व प्रदान करने की आवश्यकता है। द्वितीयः उपस्थिती तथा अस्तित्व की हालत जिसे बाक़ी रहने के कारणो […]

  • Rate this post

    अर्रहीम 2

    Rate this post पुस्तक का नामः कुमैल की प्रार्थना का वर्णन लेखकः आयतुल्लाह अनसारियान   हमने इस के पूर्व के लेख मे यह बात स्पष्ट करने का प्रयास किया था कि रहमानियत और रहीमियत मे आफ़ियत का अर्थ निहित है, एक दुनयावी आफ़ियत और दूसरे परलोक की आफ़ियत। रहमते रहिमिया पूजा और अच्छे कर्मो के […]

  • Rate this post

    अर्रहीम 1

    Rate this post पुस्तक का नामः कुमैल की प्रार्थना का वर्णन लेखकः आयतुल्लाह अनसारियान   रहीम शब्द अर्बी विद्वानो के अनुसार सिफ़ते मुश्ब्बाह है, इस आधार पर सदैव रहीम होने को दर्शाती है, अर्थातः ऐसा ईश्वर जिसकी दया और कृपा निरंतर तथा स्थिर है। आस्था रखने वाले लोगो का कहना है कीः रहमते रहीमिया विशेष […]

  • Rate this post

    अल्लाह 2

    Rate this post पुस्तक का नामः कुमैल की प्रार्थना का वर्णन लेखकः आयतुल्लाह अनसारियान हमने इसके पूर्व के लेख मे इस बात का स्पष्टीकरण किया था कि नास्तिक लाएलाहा इललल्लाह कहने से दुनयावी प्रमाद, अपवित्रता, अकेलेपन तथा भयानक एरेना से निकल कर चेतना और सदभावना, पवित्रता, उन्स तथा सुरक्षा की शरण मे आ जाता है। […]

  • Rate this post

    अल्लाह 1

    Rate this post पुस्तक का नामः कुमैल की प्रार्थना का वर्णन लेखकः आयतुल्लाह अनसारियान   ईश्वर के लिए शब्द अल्लाह एक व्यापक तथा पूर्ण नाम है, जिसमे पूर्णता सौंदर्य तथा महिमा के सभी गुण एकत्रित है। कहते है किः अल्लाह शब्द मे तीन अर्थ सूचिबद्ध है। 1- अनंत काल से स्थाई, शाश्वता से मौजूद एंव […]

  • Rate this post

    पाप का नुक़सान

    Rate this post जो भी कोई पाप (गुनाह )करता है तो उसकी बुद्धि (अक़्ल) का एक भाग उससे अलग हो जाता है और फिर उस तक नहीं लौटताः पैग़म्बरे इस्लाम सल्लल लाहो अलैहे व आलेही व सल्लम मन की पवित्रता मन की पवित्रता ईश्वर की याद से हासिल होती हैः हज़रत अली अलैहिस्सलाम आत्मसुधार के बिना सुधार […]

  • Rate this post

    बिस्मिल्लाह के संकेतो पर एक दृष्टि 3

    Rate this post पुस्तक का नामः दुआए कुमैल का वर्णन लेखकः आयतुल्लाह अनसारीयान   रहस्यवादीयो के एक समूह ने कहा है कि (बा) सदैव भलाई और नेकी की ओर संकेत है जो अधिकांश मानव से समबंधित है, तथा (सा) उसके रहस्य की ओर संकेत है जो उसके विशेष भक्तो के लिए है, तथा (मीम) उसके […]

  • Rate this post

    बिस्मिल्लाह के संकेतो पर एक दृष्टि 2

    Rate this post पुस्तक का नामः दुआए कुमैल का वर्णन लेखकः आयतुल्लाह अनसारीयान   ईश्वर पवित्रता एवं सच्चाई के सर्वोत्तम स्तर पर है जबकि मनुष्य झूठा एवं अपवित्र है, और यह न्युनतम स्तर बिना किसी बिचौलिया के धुर्तता से निकलकर गरीमा और महिमा के शिखर तक नही पहुँच सकती, इसी कारण कृपालु एवं दयालु ईश्वर […]

  • Rate this post

    बिस्मिल्लाह के संकेतो पर एक दृष्टि 1

    Rate this post पुस्तक का नामः दुआए कुमैल का वर्णन लेखकः आयतुल्लाह अनसारीयान इस्म शब्दकोश के विद्बानो के अनुसार “इस्म” शब्द ”समुव” से लिया गया है जिसका अर्थ ऊँचाई, महान है। दयालु परमेश्वर ने इस्म शब्द को बा अक्षर के साथ इस प्रकाशी वाक्य मे प्रभाव शाली प्रयोग किया है ताकि मनुष्य जबान से उसका प्रयोग करते समय इस […]

  • Rate this post

    बिस्मिल्लाह से आऱम्भ करने का कारण 4

    Rate this post पुस्तक का नामः दुआए कुमैल का वर्णन लेखकः आयतुल्लाह अनसारीयान   हमने इस से पहले लेख मे इस बात का स्पष्टीकरण किया था कि बिस्मिल्लाह से आरम्भ करने का एक कारण यह है कि हजरत मुहम्मद के मानने वालो के अच्छे कर्मो का पडला पुनरुत्थान के दिन भारी रहेगा उसके भारी रहने […]

  • Rate this post

    बिस्मिल्लाह से आऱम्भ करने का कारण 3

    Rate this post पुस्तक का नामः दुआए कुमैल का वर्णन लेखकः आयतुल्लाह अनसारीयान 5. रसूले ख़ुदा (स.अ.व.आ.व.) से रिवायत हैः जब कोई शिक्षक अपने शिष्य को (बिस्मिल्लाहिर्रहमानिर्राहीम) की शिक्षा देता है तो ईश्वर उस छात्र के माता पिता तथा उसके अध्यापक हेतु नरक से मुक्ति का पंजीकरण करता है।[1] 6. पैग़म्बरे इस्लाम (स.अ.व.आ.व.) से रिवायत हैः […]

  • Rate this post

    बिस्मिल्लाह से आऱम्भ करने का कारण – 2

    Rate this post पुस्तक का नामः दुआए कुमैल का वर्णन लेखकः आयतुल्लाह अनसारीयान   इस से पूर्व लेख मे यह बात स्पष्ट की थी कि बिस्मिल्लाहिर्रहमानिर्राहीम कहने से कार्य पूरे होते है अधूरे नही रहते तथा उसका दूसरा लाभ यह भी है कि यदि कोई व्यक्ति क्रोधित है तो बिस्मिल्लाहिर्रहमानिर्राहीम कहने से क्रोध समाप्त हो जाता […]

  • Rate this post

    बिस्मिल्लाह से आऱम्भ करने का कारण -1

    Rate this post पुस्तक का नामः दुआए कुमैल का वर्णन लेखकः आयतुल्लाह अनसारीयान بِسمِ أللہ ألرَّحمٰنِ ألرَّحِیم बिस्मिल्लाहिर्रहमानिर्राहीम उस ईश्वर के नाम से जिसकी कृपा का अनुमान नही तथा दया सदैव है बिस्मिल्लाह से आऱम्भ करने का कारण प्रकाशी एवं अनंत सोत्र (बिस्मिल्ला) के साथ कुमैल की प्रार्थना का आरम्भ निम्न लिखित दलीलो के कारण […]

  • Rate this post

    वा ख़ज़ाआलहा कुल्लो शैइन वज़ल्ला लहा कुल्लो शैइन 7

    Rate this post पुस्तक का नामः कुमैल की प्रार्थना का वर्णन लेखकः आयतुल्ला हुसैन अंसारीयान   अमीरुलमोमेनीन अलैहिस्सलाम के इस प्रकाशमय संस्करण मे इस वास्तविकता (हक़ीक़त) की ओर संकेत किया गया है कि प्रत्येक वस्तु एंव व्यक्ति भगवान की गरिमा के सामने अपमानित है। ईश्वर के सामने अपमानित होना अपने च्यन से नही है जिसको […]

  • Rate this post

    वा ख़ज़ाआलहा कुल्लो शैइन वज़ल्ला लहा कुल्लो शैइन 6

    Rate this post पुस्तक का नामः कुमैल की प्रार्थना का वर्णन लेखकः आयतुल्ला हुसैन अंसारीयान इसीवंश सैय्यदुश्शोहदा इमाम हुसैन अलैहिस्सलाम ने शत्रुओ से युद्ध मे (हय्हात मिन्नज़्ज़िल्ला) का नारा लगा कर कहाः مَوت فِی عِزّ خَیر مِن حَیات فِی ذُلّ मौतुन फ़ी इज़्ज़िन ख़ैरुन मिन हयातिन फ़ी ज़ुल्लिन[1] इज़्ज़त की मौत अपमान के जीवन से […]

  • Rate this post

    वा ख़ज़ाआलहा कुल्लो शैइन वज़ल्ला लहा कुल्लो शैइन 5

    Rate this post पुस्तक का नामः कुमैल की प्रार्थना का वर्णन लेखकः आयतुल्ला हुसैन अंसारीयान   ईश्वर का सच्चा सेवक, उसकी शक्ति एंव महीमा के सामने ज़लील एंव विनम्र होता है, तथा अपने सर को उसके सामने झुकाए होता है तथा उसके अलावा किसी दूसरे के सामने अपने सर को झुकाने की अनुमति नही देता। […]

  • Rate this post

    वा ख़ज़ाआलहा कुल्लो शैइन वज़ल्ला लहा कुल्लो शैइन 4

    Rate this post पुस्तक का नामः कुमैल की प्रार्थना का वर्णन लेखकः आयतुल्ला हुसैन अंसारीयान   यह विचार कर मै तेरी ओर आकर्षित हुआ तथा अपनी आशाओ को लेकर तेरे दरबार मे उपस्थित हो गया कि मुझे तेरे ऊपर भरोसा था और मुझे बोध था कि मै जितने अधिक प्रश्न कर रहा हूं वो तेरे […]

  • Rate this post

    वा ख़ज़ाआलहा कुल्लो शैइन वज़ल्ला लहा कुल्लो शैइन 3

    Rate this post पुस्तक का नामः कुमैल की प्रार्थना का वर्णन लेखकः आयतुल्ला हुसैन अंसारीयान   सहीफ़ए सज्जादिया की प्रार्थना नम्बर 13 मे वर्णन हुआ हैः तूने  प्राणियो को गरीबी की ओर निस्बत दी है वास्तव मे वे तेरे मोहताज है इस वंश जो व्यक्ति अपनी आवश्यकता को तेरे दरबार से पूरा करने एंव अपने नफ़्स […]

  • पेज4 से 512345