islamic-sources

  • Rate this post

    वा ख़ज़ाआलहा कुल्लो शैइन वज़ल्ला लहा कुल्लो शैइन 2

    Rate this post पुस्तक का नामः कुमैल की प्रार्थना का वर्णन लेखकः आयतुल्ला हुसैन अंसारीयान   निसंदेह तेरी कृपा सारी चीज़ो को घेर रखा है, और तेरी अनंत शक्ति सारी चीज़ो पर ग़ालिब है, केवल तेरा ही पवित्र असतित्व है जिसकी शक्ति के आगे सभी चीजे ज़लील एंव ख्वार है, इसीलिए उसके लिए यह कार्य […]

  • Rate this post

    वा ख़ज़ाआलहा कुल्लो शैइन वज़ल्ला लहा कुल्लो शैइन 1

    Rate this post पुस्तक का नामः कुमैल की प्रार्थना का वर्णन लेखकः आयतुल्ला हुसैन अंसारीयान وَخَضَعَ لَهَا كُلُّ شَىْء وَذَلَّ لَهَا كُلُّ شَىْء “वा ख़ज़ाआलहा कुल्लो शैइन वज़ल्ला लहा कुल्लो शैइन” तथा प्रत्येक वस्तु उसके लिए विनम्र है। सभी ग़ैबी ओर शहूदी प्राणी, बड़े से बड़े भौतिक एंव आध्यात्मिक प्राणी से लेकर छोटे से छोटे […]

  • Rate this post

    वा बेजबारूतेकल्लति गलबता बेहा कुल्ला शैइन

    Rate this post पुस्तक का नामः कुमैल की प्रार्थना का वर्णन लेखकः आयतुल्ला हुसैन अंसारीयान     وَبِجَبَرُوتِكَ الَّتِى غَلَبْتَ بِهَا كُلَّ شَىْء…   वा बेजबारूतेकल्लति गलबता बेहा कुल्ला शैइन जिस क्षमता तथा गरिमा से तूने प्रत्येक वस्तु पर ग़लबा कर रखा है उसके माध्यम से तुझ से विनति करता हूँ। शब्दकोण मे जबारूत का […]

  • Rate this post

    दयावान ईश्वर द्वारा कमीयो का पूरा होना

    Rate this post पुस्तक का नामः कुमैल की प्रार्थना का वर्णन लेखकः आयतुल्ला हुसैन अंसारीयान   ज्ञानी ईश्वर की ओर से कमीयो तथा त्रूठियो का पूरा होना एक महत्वपूर्ण तथा उल्लेखनीय मुद्दा है, इस संदर्भ मे कुच्छ चीज़ो को एक महत्वपूर्ण पुस्तक से नक़ल करते है जिसके कारण हमारी आस्था तथा विश्वास मे वृद्धि हो […]

  • Rate this post

    प्रार्थना पर एक दृष्टि

    Rate this post लेखक: आयतुल्लाह हुसैन अनसारियान   किताब का नाम: शरहे दुआए कुमैल   संपन्न के सामने आवश्यकता का कथन प्रार्थना है। तंगदस्ती, फ़क़्र और ग़रीबी को ग़नीए मुतलक़ एवम ब्रह्माण्ड के मालिक से बयान करना प्रार्थना है। वफादार और करीम से भीख का अनुरोध, कमज़ोर का अटूट क्षमता वाले से सहायता मांगना प्रार्थना है। कमज़ोर, ज़लील, मिसकीन बन्दे […]

  • Rate this post

    प्रस्तावना

    Rate this post लेखक: आयतुल्लाह हुसैन अनसारियान   किताब का नाम: शरहे दुआए कुमैल   यह ग़रीब 11 वर्ष की आयु मे अपने पिता के साथ रमज़ान के पवित्र महीने की रात्रियो मे तेहरान की प्रसिध्द धार्मिक बैठको मे भाग लिया करता था, उस बैठक मे स्वर्गीय आयतुल्लाह हाज सैय्यद मुहम्मद मैहदी लालेज़ारी के ज़ो आलिमे बा अमल […]

  • Rate this post

    प्रकाशक का कथन

    Rate this post लेखक: आयतुल्लाह हुसैन अनसारियान   किताब का नाम: शरहे दुआए कुमैल   मनुष्य का परमेशवर से बात करना, प्राणी के निर्माता और आदमी के बीच का रिश्ता प्रार्थनाकहलाता है। महान मनीषियों ने प्रार्थना को व्यवहारिक उपाधि मे एकता (तौहीद) बताया है, इसलिए अनबियाए एज़ाम एवम अहलेबैत अलैहेमुस्सलाम एकता (तौहीद) का बहुत ज़्यादा महत्व बयान करते थे। वारिद शुदा प्रार्थनाओ मे प्रार्थनाए कुमैल (दुआए कुमैल) के उच्च […]

  • Rate this post

    निर्देशिता बेमिस्ल वरदान (नेमत) -2

    Rate this post पुस्तकः कुमैल की प्रार्थना का वर्णन लेखकः आयतुल्ला अनसारीयान   यदि मनुष्य ईश्वर की भौतिक एंव आध्यात्मिक वरदानो को देखे तथा उनपर सोच विचार करे तो उसे पता चलेगा कि ईश्वर की कृपा तथा उसके विशेष एंव सार्वजनिक फ़ैज़ ने उस पर चारो ओर से छाया कर रखा है और परमात्मा की […]

  • Rate this post

    निर्देशिता बेमिस्ल वरदान (नेमत)-1

    Rate this post पुस्तकः कुमैल की प्रार्थना का वर्णन लेखकः आयतुल्ला अनसारीयान   जब ईश्वर की दया एंव कृपा ने यह निश्चित कर लिया कि मनुष्य को कुच्छ दिनो हेतु संसार मे भेजे, और उसे सूर्य चंद्रमा तथा धरती एंव आकाश जैसे विभिन्न वरदान प्रदान किए, ताकि उनसे लाभ उठाए और सब्ज़ी, अनाज तथा फल […]

  • Rate this post

    कुमैल की प्रार्थना की प्रमाणकता – 2

    Rate this post पुस्तक का नामः दुआए कुमैल का वर्णन लेखकः आयतुल्लाह अनसारीयान इस से पहले वाले लेख मे हमने बताया था कि कुमैल ने अमीरुल मोमेनीन को सजदे मे इस दुआ को पढते हुए देखा था इस लेख मे जिस बात का वर्णन अमीरुल मोमेनीन ने कुमैल को किया है उसको आपके लिए प्रस्तुत […]

  • Rate this post

    दुआए कुमैल का वर्णन -1

    Rate this post पुस्तक का नामः दुआए कुमैल का वर्णन लेखकः आयतुल्लाह अनसारीयान   بِسمِ أللہ ألرَّحمٰنِ ألرَّحِیم أَللَّھُمَّ إِنِّی أَسأَلُکَ بِرَحمَتِکَ أَلَّتِی وَسِعَت کُلَّ شَیئ وَ بِقُوَّتِکَ أَلَّتِی قَھَرتَ بِھَا کُلَّ شَیئ وَ خَضَعَ لَھَا کُلُّ شَیئ وَ ذَلَّ لَھَا کُلُّ شَیئ وَ بِجَبَرُوتِکَ أَلَّتِی غَلَبتَ بِھَا کُلَّ شَیئ وَ بِعِزَّتِکَ ألَّیِی لَا یَقُومُ […]

  • Rate this post

    बिस्मिल्लाह से आऱम्भ करने का कारण -1

    Rate this post पुस्तक का नामः दुआए कुमैल का वर्णन लेखकः आयतुल्लाह अनसारीयान بِسمِ أللہ ألرَّحمٰنِ ألرَّحِیم बिस्मिल्लाहिर्रहमानिर्राहीम उस ईश्वर के नाम से जिसकी कृपा का अनुमान नही तथा दया सदैव है बिस्मिल्लाह से आऱम्भ करने का कारण प्रकाशी एवं अनंत सोत्र (बिस्मिल्ला) के साथ कुमैल की प्रार्थना का आरम्भ निम्न लिखित दलीलो के कारण […]

  • पेज5 से 512345