islamic-sources

  • Rate this post

    जन्नतुल बक़ीअ कि तबाही – 5

    Rate this post (3)    हज़रत इमाम मुहम्मद बाक़र (अ॰) आप रिसालत मआब के पांचवे जानशीन व वसी और इमाम सज्जाद अ॰ के बेटे हैं नीज़ इमाम हसन अ॰ के नवासे और इमाम हुसैन अ॰ के पोते हैं। 56 हि0 में विलादत और शहादत हुई। वाक़-ए कर्बला में आपकी उमरे मुबारक चार साल की थी, इब्ने हजर हेसमी (अलसवाइक़ अलमुहर्रिक़ा के […]

  • Rate this post

    जन्नतुल बक़ीअ कि तबाही – 4

    Rate this post (2)    हज़रत इमाम ज़ैनुल आबेदीन सज्जाद (अ॰) आपका नाम अली है और इमाम हुसैन अ॰ के बेटे हैं और शियों के चैथे इमाम हैं। आपकी विलादत 38 हिजरी में हुई। आपके ज़माने के मशहूर सुन्नी मुहद्दिस व फ़क़ीह मुहम्मद बिन मुस्लिम ज़हरी आपके बारे में कहते हैं किः मैंने क़ुरैश में से किसी को आपसे […]

  • Rate this post

    जन्नतुल बक़ीअ कि तबाही -3

    Rate this post (1)    इमाम हसन मुजतबा (अ॰) आप पैग़म्बरे अकरम स॰ के नवासे और हज़रत अली व फ़ात्मा के बड़े साहबज़ादे हैं। मन्सबे इमामत के एतेबार से दूसरे इमाम और इसमत के लिहाज़ से चैथे मासूम हैं। आपकी शहादत के बाद हज़रत इमाम हुसैन ने आपको पैग़म्बरे इस्लाम स॰ के पहलू में दफ़न करना चाहा […]

  • Rate this post

    जन्नतुल बक़ीअ कि तबाही -2

    Rate this post यानी इस किताब के लिखने वाले ‘‘उलमा’’ की निगाह में बक़ीअ में जनाबे उसमान,शोहदाए ओहद और हज़रत हमज़ा की क़ब्रों के अलावा कोई और ज़्यारत गाह नहीं है जबकि तारीख़े इस्लाम को पढ़ने वाला एक मामूली तालिबे इल्म भी यह बात बख़ूबी जानता है कि इस क़ब्रिस्तान में आसमाने इल्म व इरफ़ान के ऐसे […]

  • Rate this post

    जन्नतुल बक़ीअ कि तबाही -1

    Rate this post इन्सानियत के क़ाफले ने हर ज़माने में इस बात का नज़ारा किया है कि मज़लूम के सर को तन से अलग कर देने के बाद भी ज़ालिमों को चैन नहीं मिलता बल्कि उनकी सारी कोशिश यह होती है कि दुनिया से मज़लूम और मज़लूमियत का जि़क्र भी ख़त्म हो जाये, इस कोशिश में […]

  • पेज2 से 212