islamic-sources

  • Rate this post

    ईरान के समकालीन बुद्धिजीवी-1

    Rate this post उन महान हस्तियों के नाम और याद को जीवित रखना जिन्होंने राष्ट्रों के भविष्य को ईश्वरीय विचारों और अपने अथक प्रयासों से उज्जवल बनाया है, एक आवश्यक कार्य है। इस श्रंखला में हम प्रयास करेंगे कि समकालीन ईरान की धर्म व ज्ञान से संबंधित प्रभावी हस्तियों से आपको परिचित कराएं। इस्लामी गणतंत्र […]

  • Rate this post

    वाबेइज़्ज़तेकल्लति लायक़ूमो लहा शैइन 4

    Rate this post पुस्तक का नामः कुमैल की प्रार्थना का वर्णन लेखकः आयतुल्ला हुसैन अंसारीयान सभी प्राणीयो मे इज़्ज़त व सम्मान उसकी इज़्ज़त और सम्मान की एक साधारण किरण है। साधरण एंव महत्वहीन किरण कहा और अनंत तथा प्रारम्भिक एंव सदैव रहने वाला प्रकाश कहा। हां पवित्र क़ुरआन के अनुसार सारी इज़्ज़त ईश्वर के लिए […]

  • Rate this post

    वाबेइज़्ज़तेकल्लति लायक़ूमो लहा शैइन 3

    Rate this post पुस्तक का नामः कुमैल की प्रार्थना का वर्णन लेखकः आयतुल्ला हुसैन अंसारीयान   हज़रत मुहम्मद सललल्लाहोअलैहेवाआलेहिवसल्लम का कथन हैः   إِنَّ رَبَّکُم یَقُولُ کُلَّ یَوم: أَنَا العَزِیزُ فَمَن أَرَادَ عِزَّ الدَارَینِ فَلیُطِعِ العَزِیزَ इन्ना रब्बाकुम यक़ूलो कुल्ला यौमिनः अनल अज़ीज़ो फ़मन अरादा इज़्ज़द्दारैने फ़लयोतेइल अज़ीज़ा[1] प्रतिदिन तुम्हारा पालनहार कहता हैः केवल मै […]

  • Rate this post

    वाबेइज़्ज़तेकल्लति लायक़ूमो लहा शैइन 2

    Rate this post पुस्तक का नामः कुमैल की प्रार्थना का वर्णन लेखकः आयतुल्ला हुसैन अंसारीयान   وَ لِلَّهِ الْعِزَّةُ وَ لِرَسُولِهِ وَ لِلْمُؤْمِنِين‏   वालिल्लाहिल इज़्ज़तो वा लेरसूलेहि वा लिलमोमेनीना[1] इज़्ज़त और सम्मान केवल ईश्वर उसके दूत (रसूल) और विश्वासीयो (मोमेनीन) के लिए है। प्रथम छंद, इज़्ज़त और सम्मान ईश्वर से विशिष्ट होने तथा उसतक […]

  • Rate this post

    वाबेइज़्ज़तेकल्लति लायक़ूमो लहा शैइन 1

    Rate this post पुस्तक का नामः कुमैल की प्रार्थना का वर्णन लेखकः आयतुल्ला हुसैन अंसारीयान وَبِعِزَّتِكَ الَّتِى لاَيَقُومُ لَهَا شَىْءٌ वाबेइज़्ज़तेकल्लति लायक़ूमो लहा शैइन और उस इज़्ज़त व सम्मान के माध्यम से है जिसके अपेक्षा मे किसी मे मुकाबला करने की क्षमता नही है। मानव प्रकृति सम्मान एंव गौरव की इच्छुक है। ईश्वर ने पवित्र […]

  • Rate this post

    ख़ज़र सागर के ज्वार भाटे की क्षतिपूर्ति 2

    Rate this post पुस्तक का नामः कुमैल की प्रार्थना का वर्णन लेखकः आयतुल्ला हुसैन अंसारीयान   इन हवाओ की शक्ति इतनी अधिक होती है कि ख़ज़र सागर के पानी को इतना ऊपर ले जाती है कि अधिकांश नौका चालक उसका मुक़ाबला करने मे असमर्थ हो जाते है। यह हवाएं ख़ज़र सागर के उत्तर मे उपस्थित […]

  • Rate this post

    ख़ज़र सागर के ज्वार भाटे की क्षतिपूर्ति 1

    Rate this post पुस्तक का नामः कुमैल की प्रार्थना का वर्णन लेखकः आयतुल्ला हुसैन अंसारीयान   ख़ज़र समुद्र की सतह दूसरे समुद्रो की अपेक्षा मे 27.6 मीटर नीचे है तथा इस से भी नीचे होती चली जाएगी, ख़ज़र सागर दूसरे समुद्रो से मिला हुआ नही है, इसवंश सार्वजनकि महासागरो के ज्वार भाटे के अधीन भी […]

  • Rate this post

    फ़लो की कमीयो की क्षतिपूर्ति

    Rate this post पुस्तक का नामः कुमैल की प्रार्थना का वर्णन लेखकः आयतुल्ला हुसैन अंसारीयान   जब तक फलो के बीजो को बोया ना जाए और भगवान की सिफते जबारूती विभिन्न प्रकार से उसकी कमीयो की क्षतिपूर्ति ना करे तो उस से लाभ नही उठाया जा सकता। स्वादिष्ट सेब के समबंध मे ध्यानपूर्वक अध्यन करे […]

  • Rate this post

    दयावान ईश्वर द्वारा कमीयो का पूरा होना

    Rate this post पुस्तक का नामः कुमैल की प्रार्थना का वर्णन लेखकः आयतुल्ला हुसैन अंसारीयान   ज्ञानी ईश्वर की ओर से कमीयो तथा त्रूठियो का पूरा होना एक महत्वपूर्ण तथा उल्लेखनीय मुद्दा है, इस संदर्भ मे कुच्छ चीज़ो को एक महत्वपूर्ण पुस्तक से नक़ल करते है जिसके कारण हमारी आस्था तथा विश्वास मे वृद्धि हो […]

  • Rate this post

    वा बेजबारूतेकल्लति गलबता बेहा कुल्ला शैइन

    Rate this post पुस्तक का नामः कुमैल की प्रार्थना का वर्णन लेखकः आयतुल्ला हुसैन अंसारीयान وَبِجَبَرُوتِكَ الَّتِى غَلَبْتَ بِهَا كُلَّ شَىْء… वा बेजबारूतेकल्लति गलबता बेहा कुल्ला शैइन जिस क्षमता तथा गरिमा से तूने प्रत्येक वस्तु पर ग़लबा कर रखा है उसके माध्यम से तुझ से विनति करता हूँ। शब्दकोण मे जबारूत का अर्थ क्षमता, महानता […]

  • Rate this post

    अशीष का समापन 3

    Rate this post लेखक: आयतुल्लाह हुसैन अनसारियान किताब का नाम: पश्चताप दया की आलंगन जिस पवित्रता और स्वच्छता का आदेश ईश्वर ने दिया है वह सामान्य रूप से ग़ुस्ल[1] और तयम्मुम[2] के आसार से भी समझी जाती है। इस आधार पर वुज़ू, ग़ुस्ल और तयम्मुम करने के पश्चात प्रत्येक व्यक्ति नमाज़ के लिए तैयार होता है, पवित्र क़ुरआन के अनुसार उस […]

  • Rate this post

    अशीष का समापन 2

    Rate this post लेखक: आयतुल्लाह हुसैन अनसारियान किताब का नाम: पश्चताप दया की आलंगन   हमने अशीष का समापन भाग 1 मे कहा था कि पैग़म्बर ने परमेश्वर की आज्ञा से 18 ज़िल्हिज्जा[1] को ग़दीरे ख़ुम[2] के मैदान मे अपने बाद लोगो का नेतृत्व करने हेतु अपना उतराधिकारी (ख़लीफ़ा) स्थापित किया। ईश्वर ने धर्म के पूर्ण होने, अशीष की समाप्ति, इस्लाम […]

  • Rate this post

    अशीष का समापन 1

    Rate this post लेखक: आयतुल्लाह हुसैन अनसारियान किताब का नाम: पश्चताप दया की आलंगन तबरसी की रिवायत के अनुसार सालबी, वाहेदी, क़ुरतुबी, अबुलसऊद, फ़ख़रे राज़ी, इब्ने कसीर शामी, नेशापुरी, सीउती और आलूसी ने अपनी प्रसिद्ध व्याख्याओ (तफसीरो) मे, और बिलाज़री की रिवायत के अनुसार इब्ने क़तीबा, इब्ने ज़ूलाक़, इब्ने असाकिर, इब्ने असीर, इब्ने अबिल हदीद, इब्ने ख़लकान, इब्ने हजर […]

  • Rate this post

    अशीष समाप्ती के कारण 2

    Rate this post लेखक: आयतुल्लाह हुसैन अनसारियान किताब का नाम: पश्चताप दया की आलंगन इसी विषय मे कुच्छ बाते बताई थी बाकी बाते आपके सामने है। ईश्वरीय मार्ग मे ख़ुम्स[1], ज़कात[2], सदक़ा[3] और दान देने मे लोभ से काम लेना, थोडा सा धन हाथ लगने पर परमेश्वर से अनावश्यकता का ढोल बजाना, न्याय के दिन का अस्वीकारना जैसे अर्थ निम्नलिखित […]

  • Rate this post

    अशीष समाप्ती के कारण 1

    Rate this post लेखक: आयतुल्लाह हुसैन अनसारियान किताब का नाम: पश्चताप दया की आलंगन पवित्र क़ुरआन के स्पष्ट छंदो से क्रमशः सुरए इसरा के छंद (आयत) 83, सुरए क़िस्स के छंद 76 से 79, सुरए अलफ़ज्र छंद 17 से 20 तथा सुरए अल्लैल के छंद 8 से 10 तक निम्नलिखित बाते समझ मे आती है, जोकि अशीषो मे गिरावट […]

  • Rate this post

    गुरूवार रात्रि 4

    Rate this post लेखक: आयतुल्लाह हुसैन अनसारियान किताब का नाम: शरहे दुआ ए कुमैल   हमने इस से पूर्व गुरुवार रात्रि 3 के लेख मे शिया समप्रदाय के इमाम ने गुरुवार रात्रि के महत्तव को बयान किया है।और इमाम सादिक ने महत्व का इस प्रकार उल्लेख किया है। इमाम सादिक़ (अ.स.) ने कहाः गुरूवार रात्रि मे पाप से बचो क्योकि […]

  • Rate this post

    गुरूवार रात्रि 3

    Rate this post लेखक: आयतुल्लाह हुसैन अनसारियान किताब का नाम: शरहे दुआ ए कुमैल   हमने इस से पूर्व गुरुवार रात्रि 2 के लेख मे याक़ूब नबी से संम्बंधित बात बताइ थी परन्तु इस भाग 3 मे गुरुवार रात्रि के महत्तव को शिया समप्रदाय के इमाम ने इस प्रकार बयान किया है। इमाम बाकिर[१] (अ.स.) ने कहाः प्रत्येक गुरुवार […]

  • Rate this post

    गुरूवार रात्रि 2

    Rate this post लेखक: आयतुल्लाह हुसैन अनसारियान किताब का नाम: शरहे दुआ ए कुमैल   हमने इस से पूर्व गुरुवार रात्रि के लेख मे गुरुवार रात्रि का महत्व बताते हुए कहा था कि प्रार्थना के लिए रात्रियो मे सबसे अच्छी एवं उपयुक्त गुरुवार रात्रि को जाना है, और गुरूवार रात्रि के महत्व एवं उसकी महानता को रमज़ान महीने की […]

  • Rate this post

    गुरूवार रात्रि 1

    Rate this post लेखक: आयतुल्लाह हुसैन अनसारियान किताब का नाम: शरहे दुआ ए कुमैल   ईश्वरीय दूत के पवित्र परिवार वालो (अहलेबैत अ.स.) के कथनो मे प्रार्थना के लिए रात्रियो मे सबसे अच्छी एवं उपयुक्त गुरुवार रात्रि को जाना है, और गुरूवार रात्रि के महत्व एवं उसकी महानता को रमज़ान महीने की विशेष रात्रि (शबे क़द्र) के बराबर […]

  • Rate this post

    आशीषो को असंख्य होना 6

    Rate this post लेखक: आयतुल्लाह हुसैन अनसारियान किताब का नाम: तोबा आग़ोश   ऊपरी ब्राह्मांड के अंतरिक्ष और प्रकाश प्रदान करने द्वारा की गई सेवाओ, परिसंचरण, अवशोषण और आकर्षण, और मानव जीवन मे उतार चढ़ाव, और उसके अधिकांश तत्व इस प्रकार है कि यदि हम सितारो से घिरे हुए आकाश को तीन सौ सितारे प्रति मिनट गणना करें […]

  • पेज4 से 12« आखिरी...23456...10...पहला »