islamic-sources

  • ALL
    E-Books
    Articles

    date

    1. date
    2. title
    • सवेरे-सवेरे-20
      Rate this post

      सवेरे-सवेरे-20

      सवेरे-सवेरे-20Rate this post रमज़ान के पवित्र महीने में प्रतिदिन कुछ विशेष दुआएं पढ़ी जाती हैं। इन्हीं दुआओं में से एक का अनुवाद इस प्रकार हैः “हे ईश्वर! आज के दिन मुझको चेतान व ज्ञान प्रदान कर और इस दिन मुझे बुद्धिहीनता और असत्य से दूर कर दे।  हर भलाई जो आज के दिन तू उतारे […]

    • मानवाधिकार-3
      Rate this post

      मानवाधिकार-3

      मानवाधिकार-3Rate this post मार्गदर्शन में हम विभिन्न विषयों पर इस्लामी क्रान्ति के वरिष्ठ नेता का विचार पेश करते हैं। इस कार्यक्रम में हम मानवाधिकार के विषय पर इस्लामी क्रान्ति के वरिष्ठ नेता आयतुल्लाहिल उज़्मा सैयद अली ख़ामेनई के विचार पेश करेंगे। हम बात करेंगे मानवाधिकार के संबंध में पश्चिमी देशों के झूठे दावों की। यह […]

    • इस्लामी चेतना-3
      Rate this post

      इस्लामी चेतना-3

      इस्लामी चेतना-3Rate this post विभिन्न विषयों पर वरिष्ठ नेता आयतुल्लाहिल उज़मा सैयद अली ख़ामेनई के विचारों पर आधारित एक नयी श्रंखला मार्गदर्शन आपकी सेवा में प्रस्तुत है। प्रस्तुत है इस्लामी चेतना के विषय पर इस्लामी क्रान्ति के वरिष्ठ नेता के विचार जो उनके विभिन्न भाषणों से लिए गए हैं। *** यह एक महत्वपूर्ण वास्तविकता है […]

    • सवेरे-सवेरे-10
      Rate this post

      सवेरे-सवेरे-10

      सवेरे-सवेरे-10Rate this post हज़रत अली अलैहिस्सलाम कहते हैं कि सबसे अधिक प्रसन्नचित व्यक्ति वह है जिसका आचरण शिष्ट हो।   शिष्ट आचरण तभी होता है जब मनुष्य की मानसिक व हार्दिक स्थिति शांत हो।  यूं तो हर मनुष्य यह चाहता है कि उसका जीवन और जिस स्थान पर वह जीवन व्यतीत कर रहा है उसका […]

    • मानवाधिकार-2
      Rate this post

      मानवाधिकार-2

      मानवाधिकार-2Rate this post मानवाधिकार का विषय एसा है जिसपर राजनैतिक, प्रचारिक और सामाजिक गलियारों में बहुत बढ़ चढ़कर चर्चा होती है किंतु यह विषय भी दूसरे बहुत से विषयों की भांति अलग अलग परिभाषाओं में पेश किया जाता है जिसके कारण भ्रांतियां भी उत्पन्न हो जाती हैं। कार्यक्रम मार्गदर्शन में हम विभिन्न विषयों पर इस्लामी […]

    • सवेरे सवेरे-15
      Rate this post

      सवेरे सवेरे-15

      सवेरे सवेरे-15Rate this post इमाम सज्जाद अलैहिस्सलाम का कहना है कि ईश्वर में पूर्ण विश्वास रखने वाला व्यक्ति, ज्ञान तथा विनम्रता को एक-दूसरे से मिश्रित रखता है। इस कथन के अनुसार वास्तविक ज्ञानी वह होता है जो विनम्र हो। ज्ञानी की विनम्रता बताती है कि वह ज्ञान की किस सीढ़ी पर है क्योंकि नया-नया ज्ञान […]

    • सवेरे-सवेरे-२६
      1 (20%) 2 votes

      सवेरे-सवेरे-२६

      सवेरे-सवेरे-२६1 (20%) 2 votes चुटकुले हमारे प्रतिदिन के जीवन में महत्वपूर्ण स्थान रखते हैं। यह मनुष्य को प्रसन्नचित करते, उन्हें हंसाते और लोगों के बीच निकटता और स्नेह भावना उत्पन्न करते हैं। परन्तु इन सारी सकारात्मक बातों के लिये आवश्यक है कि आप अपने चुटकुलों में आयु , समय, वातावरण, सम्मान और उनलोगों के मानसिक […]

    • सवेरे-सवेरे-६
      Rate this post

      सवेरे-सवेरे-६

      सवेरे-सवेरे-६Rate this post हज़रत अली अलैहिस्सलाम का कथन है कि ज्ञान तुम्हे मुक्ति दिलाता है और अज्ञानता तुमको नष्ट कर देती है। जी हां इसीलिए कहा गया है कि अधिक से ज्ञान प्राप्त करने का प्रयास करो ताकि अज्ञानता के अंधकार से निकलें और संसार को खुली आखों से देख सको। ज्ञान प्राप्त करने का […]

    • सवेरे-सवेरे-२४
      Rate this post

      सवेरे-सवेरे-२४

      सवेरे-सवेरे-२४Rate this post पैग़म्बरे इस्लाम सल्लल्लाहो अलैहे व आलेही व सल्लम का कथन है कि “जो व्यक्ति पाप करता है तो बुद्धि का कुछ भाग उसके हाथ से निकल जाता है जो कभी वापस नहीं आता।“ यह कथन देखने के बाद हमें बहुत से लोगों से सुने यह शब्द याद आ गये कि मेरी मत […]

    • मशवेरे का महत्व
      Rate this post

      मशवेरे का महत्व

      मशवेरे का महत्वRate this post जो सिर्फ़ अपनी राय पर अमल करता है वह बर्बाद हो जाता है और जो बड़ों से सलाह-मशवेरा करता है वह उनकी बुद्धि में शामिल हो जाता हैः हज़रत अली अलैहिस्सलाम ईश्वर से मांगने का तरीक़ा जब भी ईश्वर से दुआ करो तो उससे पहले नमाज़ पढ़ो, या दान करो, […]

    • इस्लामी संस्कृति व इतिहा – 9
      Rate this post

      इस्लामी संस्कृति व इतिहा – 9

      इस्लामी संस्कृति व इतिहा – 9Rate this post मिस्र की कला, वास्तुकला और प्रसिद्ध इमारतों एवं सांस्कृतिक धरोहरों के बारे में बात किये बिना इस्लामी कला के बारे में बातचीत अधूरी है। क़ाहिरा इस्लामी कला केंद्रों में से एक है। फ़ातिमियों ने एक विशाल पुस्तकालय की मिस्र में स्थापना की जिसमें सैंकड़ों सुशोभित पवित्र क़रआन […]

    • एकता सप्ताह का महत्त्व-2
      Rate this post

      एकता सप्ताह का महत्त्व-2

      एकता सप्ताह का महत्त्व-2Rate this post इस्लाम धर्म, एकता, समरस्ता और एकजुटता का धर्म है और इस्लामी गणतंत्र ईरान के संस्थापक स्वर्गीय इमाम ख़ुमैनी ने इन्हीं आधारों पर सदैव लोगों के मध्य एकता की रक्षा और उसके महत्त्व पर बल दिया है। इस्लामी गणतंत्र ईरान की क्रांति और इस्लामी व्यवस्था का आधार भी लोगों के […]

    • सवेरे-सवेरे-9
      Rate this post

      सवेरे-सवेरे-9

      सवेरे-सवेरे-9Rate this post प्रातःकाल अर्थात जीवन का नया आरंभ, अतः इसे ईश्वर की याद से आरंभ होना चाहिए। आप कहेंगे कि ईश्वर की याद तो हमने सूर्योदय से पहले ही कर ली है। बहुत अच्छा किया है आपने, किन्तु हमारे मन में इस समय जो बात ईश्वर के संबंध में है वह भी कम महत्त्वपूर्ण […]

    • आत्मसुधार के बिना सुधार का प्रयास
      Rate this post

      आत्मसुधार के बिना सुधार का प्रयास

      आत्मसुधार के बिना सुधार का प्रयासRate this post जो ख़ुद को सुधार नहीं सकता वह दूसरों को नहीं सुधार सकताः हज़रत अली अलैहिस्सलाम लांछन लगाना निराधार आरोप व लांछन लगाने से अधिक नीचता और कुछ नहीं हैः हज़रत अली अलैहिस्सलाम दूसरों की कमियां ढूंढने का सामाजिक नुक़सान लोगों की कमियां मत ढूंढो वरना कोई दोस्त […]

    • सेवेर-सवेरेः५
      Rate this post

      सेवेर-सवेरेः५

      सेवेर-सवेरेः५Rate this post वे देश और वे स्थान जहां पर सफ़ाई विशेषकर जल की सफ़ाई का ध्यान नहीं रखा जाता वहां पर यकृत की बीमारियां बहुत अधिक होती हैं। प्रदूषित जल के अतिरिक्त खानों में चिकनाई और मिर्च-मसालों का प्रयोग भी यकृत को ख़राब करने में महत्वूपर्ण भूमिका निभा रहा है। यकृत को स्वस्थ्य रखने […]

    • सवेरे-सवेरे – 11
      Rate this post

      सवेरे-सवेरे – 11

      सवेरे-सवेरे – 11Rate this post हज़रत अली अलैहिस्सलाम का कथन है कि सौभाग्यशाली है वह व्यक्ति जो अपने ईश्वर को दृष्टिगत रखे और अपने पापों से डरता रहे। वास्तव में ईश्वर को निरंतर दृष्टिगत रखना, हमारे जीवन का महत्वपूर्ण विषय होना चाहिए।  इसका सबसे साधारण प्रभाव यह होता है कि मनुष्य पाप और बुराइयों से […]

    • मानवाधिकार-1
      Rate this post

      मानवाधिकार-1

      मानवाधिकार-1Rate this post मानवाधिकार का विषय एसा है जिसपर राजनैतिक, प्रचारिक और सामाजिक गलियारों में बहुत बढ़ चढ़कर चर्चा होती है किंतु यह विषय भी दूसरे बहुत से विषयों की भांति अलग अलग परिभाषाओं में पेश किया जाता है जिसके कारण भ्रांतियां भी उत्पन्न हो जाती हैं। कार्यक्रम मार्गदर्शन में हम विभिन्न विषयों पर इस्लामी […]

    • इस्लामी संस्कृति व इतिहास-4
      Rate this post

      इस्लामी संस्कृति व इतिहास-4

      इस्लामी संस्कृति व इतिहास-4Rate this post पैग़म्बरे इस्लाम ने अपने धर्म के प्रचार के लिए मदीना नगर में एक सुदृढ़ प्रशासनिक व्यवस्था की नींव डाली जिसमें आदर्श न्यायिक विभाग, सैनिक संस्था तथा कार्यालय तंत्र था यह इस्लामी सभ्यता धीरे धीरे फैलती गई। ज्ञान और चिंतन पर इस्लामी शिक्षाओं में विशेष रूप से बल दिया गया […]

    • इस्लामी संस्कृति व इतिहास-3
      Rate this post

      इस्लामी संस्कृति व इतिहास-3

      इस्लामी संस्कृति व इतिहास-3Rate this post पैग़म्बरे इस्लाम हज़रत मुहम्मद सल्लल्लाहो अलैहे व आलेही व सल्लम का एक महत्वपूर्ण क़दम, इस्लामी शासन के प्रशासनिक केंद्र के रूप में मस्जिद का निर्माण था। वस्तुतः इस बात की आवश्यकता थी कि एक ऐसे केंद्र का निर्माण किया जाए जो मुसलमानों का उपासना स्थल भी हो और साथ […]

    • पूर्वजों की तबाही का कारण
      Rate this post

      पूर्वजों की तबाही का कारण

      पूर्वजों की तबाही का कारणRate this post तुम्हारे पूर्वजों (बाप-दादाओं) को दिरहम व दीनारों से तबाह किया और यही दो तुम्हें भी तबाह करेंगेः पैग़म्बरे इस्लाम दुनिया की प्राप्ति के लिए मध्यमार्ग अपनाने की अहमियत दुनिया प्राप्त करने में मध्यमार्ग अपनाओ और लालच से बचो क्योंकि जिसकी क़िस्मत में जो है वह उसे मिल कर […]

    more