islamic-sources

  • ALL
    E-Books
    Articles

    date

    1. date
    2. title
    • पवित्र रमज़ान-13
      Rate this post

      पवित्र रमज़ान-13

      पवित्र रमज़ान-13Rate this post रमज़ान का पवित्र महीना बस बीतने वाला है, ईश्वर ने रमज़ान को अपने दासों के लिए आतिथ्य का विशेष अवसर कहा है। इसी रमज़ान के महीने में कुछ रातें अत्याधिक महत्व रखती हैं जिन्हें शबे क़द्र अर्थात, क़द्र की रातें कहा जाता है। क़द्र की रात या शबे क़द्र का महत्व […]

    • रमज़ानुल मुबारक – 2013 – (24)
      Rate this post

      रमज़ानुल मुबारक – 2013 – (24)

      रमज़ानुल मुबारक – 2013 – (24)Rate this post   पैग़म्बरे इस्लाम हज़रत मुहम्मद सल्लल्लाहो अलैहे व आलेही व सल्लम का कथन हैः ईश्वर कहता है कि बंदों के सभी भले कर्मों पर दस से लेकर सात सौ गुना अधिक तक पारितोषिक है सिवाए रोज़े के कि उसका पारितोषिक मैं स्वयं दूंगा। पैग़म्बरे इस्लाम सल्लल्लाहो अलैहे व आलेही व […]

    • पवित्र रमज़ान-24
      Rate this post

      पवित्र रमज़ान-24

      पवित्र रमज़ान-24Rate this post   पैग़म्बरे इस्लाम हज़रत मुहम्मद सल्लल्लाहो अलैहे व आलेही व सल्लम का कथन हैः ईश्वर कहता है कि बंदों के सभी भले कर्मों पर दस से लेकर सात सौ गुना अधिक तक पारितोषिक है सिवाए रोज़े के कि उसका पारितोषिक मैं स्वयं दूंगा।   पैग़म्बरे इस्लाम सल्लल्लाहो अलैहे व आलेही व […]

    • सृष्टि ईश्वर और धर्म 76
      Rate this post

      सृष्टि ईश्वर और धर्म 76

      सृष्टि ईश्वर और धर्म 76Rate this post बुद्धि तथा अन्य मार्गों से परलोक के बारे में हमें जो जानकारियां प्राप्त हुई हैं उनके आधार पर हम लोक व परलोक की कई आयामों से एक दूसरे से तुलना कर सकते हैं यद्यपि दोनों के मध्य बहुत अधिक अंतर है। इस संसार और परलोक के मध्य सब […]

    • सृष्टि ईश्वर और धर्म 49 चमत्कार एवं ईश्वरीय दूत
      Rate this post

      सृष्टि ईश्वर और धर्म 49 चमत्कार एवं ईश्वरीय दूत

      सृष्टि ईश्वर और धर्म 49 चमत्कार एवं ईश्वरीय दूतRate this post इस संसार में घटने वाली घटनाएं मूल रूप से उन कारकों का परिणाम होती हैं जो प्राकृतिक रूप से निर्धारित होती हैं और उन्हें प्रयोगों द्वारा समझा जा सकता है उदाहरण स्वरूप रसायन व भौतिक शास्त्र द्वारा प्रयोगों से बहुत से प्रक्रियाओं को पूर्ण […]

    • सृष्टि ईश्वर और धर्म 69 – प्रलय है क्या?
      Rate this post

      सृष्टि ईश्वर और धर्म 69 – प्रलय है क्या?

      सृष्टि ईश्वर और धर्म 69 – प्रलय है क्या?Rate this post परलोक पर विश्वास के लिए क़यामत व प्रलय का अत्यधिक महत्व है किंतु वास्तव में क़यामत या प्रलय है क्या? प्रलय उस दिन को कहते हैं जिस दिन लोगों के कर्मों का हिसाब होगा और कर्म के अनुसार दंड या पुरस्कार दिया जाएगा किंतु […]

    • सृष्टि ईश्वर और धर्म-20 रचयिता ही पालनहार
      Rate this post

      सृष्टि ईश्वर और धर्म-20 रचयिता ही पालनहार

      सृष्टि ईश्वर और धर्म-20 रचयिता ही पालनहारRate this post यह सिद्ध होने के बाद कि आत्मभू अस्तित्व, सभी अन्य अस्तित्वों का मूल कारक है और इस बात के दृष्टिगत के पूरी सृष्टि को उसकी आवश्यकता है स्वयंभू अस्तित्व अर्थात ईश्वर का रचयिता और उसके अतिरिक्त हर वस्तु का उसकी रचना होना सिद्ध होता है। रचना […]

    • पवित्र रमज़ान-४
      Rate this post

      पवित्र रमज़ान-४

      पवित्र रमज़ान-४Rate this post पैग़म्बरे इस्लाम हज़रत मुहम्मद सल्लल्लाहो अलैहे व आलेही व सल्लम के पौत्र हज़रत इमाम जाफ़र सादिक़ अलैहिस्सलाम का कथन है कि जब कभी कोई अनाथ रोता है तो आकाश हिल जाता है और ईश्वर कहता है कि किसने मेरे दास और माता पिता को खो देने वाले बच्चे को रुलाया है? […]

    • ईश्वरीय आतिथ्य-5 रोज़ा और जनसेवा
      Rate this post

      ईश्वरीय आतिथ्य-5 रोज़ा और जनसेवा

      ईश्वरीय आतिथ्य-5 रोज़ा और जनसेवाRate this post सैद्धांतिक रुप से हर समाज को भलाई और परोपकार की आवश्यकता होती है।  उस समाज को उत्तम समाज कहा जाता है जिसमें लोगों के संबंध आपस में प्रेम, सदभावना और सदगुणों पर आधारित होते हैं। ऐसे समाज में लोग एक दूसरे के निकट होते हैं और समस्याओं के […]

    • सृष्टि ईश्वर और धर्म ३० मनुष्य और परिपूर्णता
      Rate this post

      सृष्टि ईश्वर और धर्म ३० मनुष्य और परिपूर्णता

      सृष्टि ईश्वर और धर्म ३० मनुष्य और परिपूर्णताRate this post इससे पहले वाली चर्चा में हमने कहा था कि कर्मों के संबंध में पैग़म्बरे इस्लाम के परिजनों ने तीसरा मार्ग सुझाया है अर्थात न ही ईश्वर मनुष्य के समस्त कामों में पूर्ण रूप से हस्तक्षेप करता है और न ही पूर्ण रूप से उसने समस्त […]

    • पवित्र रमज़ान-28
      Rate this post

      पवित्र रमज़ान-28

      पवित्र रमज़ान-28Rate this post पवित्र रमज़ान के महीने के अंतिम दिन हैं और इन दिनों में हम भली भांति यह समझ सकते हैं कि रोज़ा, मनुष्य की आतंरिक इच्छाओं के सामने एक मज़बूत ढाल की भांति हैं। मनुष्य रोज़ा रख कर अपने मन को, अनुचित इच्छाओं से रोकता है और अपने मन मस्तिष्क को हर […]

    • सृष्टि ईश्वर और धर्म 39-मृत्यु और न्याय
      Rate this post

      सृष्टि ईश्वर और धर्म 39-मृत्यु और न्याय

      सृष्टि ईश्वर और धर्म 39-मृत्यु और न्यायRate this post ईश्वर के न्याय और उसकी सूझबूझ व उसके तत्वज्ञान पर आपत्ति करने वाले कुछ लोगों का यह कहना है कि यदि ईश्वर के तत्वज्ञान व सूझबूझ के अनुसार इस धरती पर मनुष्य का जीवन ईश्वर का उद्देश्य है तो फिर वह मनुष्य को मृत्यु क्यों देता […]

    • सृष्टि, ईश्वर और धर्म-23 नास्तिकता और भौतिकता
      Rate this post

      सृष्टि, ईश्वर और धर्म-23 नास्तिकता और भौतिकता

      सृष्टि, ईश्वर और धर्म-23 नास्तिकता और भौतिकताRate this post नास्तिकता और भौतिकता का इतिहास बहुत प्राचीन है और ऐतिहासिक तथ्यों के आधार पर यह सिद्ध होता है कि जिस प्रकार प्राचीन काल से ही ईश्वर पर विश्वाश रखने वाले लोग थे, उसी प्रकार उसका इन्कार करने वाले भी लोग मौजूद थे किंतु उनकी संख्या बहुत […]

    • सृष्टि ईश्वर और धर्म 54
      Rate this post

      सृष्टि ईश्वर और धर्म 54

      सृष्टि ईश्वर और धर्म 54Rate this post पाठको! पिछले कार्यक्रम में हमने चर्चा की थी कि यदि ईश्वरीय दूत होने का दावा करने वाला पाप करता हो तो उसके झूठ का पता लगाना अत्याधिक सरल होता है किंतु यदि वह पाप न करता हो तो फिर उसकी सत्यता का पता लगाना कठिन होगा। ईश्वरीय दूतों […]

    • सृष्टि ईश्वर और धर्म-60
      Rate this post

      सृष्टि ईश्वर और धर्म-60

      सृष्टि ईश्वर और धर्म-60Rate this post दसियों हज़ार पैग़म्बरों ने विभिन्न कालों में विश्व के विभिन्न क्षेत्रों में ईश्वरीय संदेश लोगों तक पहुंचाया तथा लोगों के मार्गदर्शन के अपने अतिमहत्वपूर्ण दायित्व का निर्वाह किया और कुछ दूत, अपनी शिक्षाओं के आधार पर नये समाज के गठन में भी सफल हुए पिछले ईश्वरीय दूतों द्वारा लाए […]

    • ईश्वरीय आतिथ्य-7 ईश्वर पर भरोसा
      Rate this post

      ईश्वरीय आतिथ्य-7 ईश्वर पर भरोसा

      ईश्वरीय आतिथ्य-7 ईश्वर पर भरोसाRate this post रमज़ान का पवित्र महीना ईश्वरीय दया के अथाह सागर में डुबकी लगाने का अवसर प्रदान करता है। आशा है कि इस महीने के बाक़ी बचे दिनों में हमें इस बात का सामर्थ्य प्राप्त हो सकेगा कि हम इस ईश्वरीय आतिथ्य के उचित और समर्थ अतिथि बन सकें। कार्यक्रम […]

    • रमज़ानुल मुबारक – 2013 – (25)
      Rate this post

      रमज़ानुल मुबारक – 2013 – (25)

      रमज़ानुल मुबारक – 2013 – (25)Rate this post हज़रत इमाम सज्जाद अलैहिस्सलाम दुआ के इस भाग में कहते हैं” पालनहार! यदि मैं दुःखी होता हूं तो तू मेरा आश्रय है और यदि मैं वंचित होता हूं तू मेरी आशा व भरोसा है” इमाम सज्जाद अलैहिस्सलाम ने अपनी दुआ में उद्दा शब्द का प्रयोग किया है […]

    • रमज़ानुल मुबारक – 2013 – (20)
      Rate this post

      रमज़ानुल मुबारक – 2013 – (20)

      रमज़ानुल मुबारक – 2013 – (20)Rate this post इमाम सज्जाद(अ) दुआ के इस भाग में ईश्वर से विनती करते हुये कहते हैः “हे पालनहार, मोहम्मद और उनके परिजनों पर सलाम भेज तथा मुझे जीवन के सभी कामों में सन्तुलन एवं मध्यमार्ग से लाभान्वित कर।” सन्तुलन एवं मध्य मार्ग, अतिवाद से दूरी का नाम है और यही वह सीधा रास्ता है जिसकी […]

    • सृष्टि ईश्वर और धर्म- 64
      Rate this post

      सृष्टि ईश्वर और धर्म- 64

      सृष्टि ईश्वर और धर्म- 64Rate this post यह कहना सही नहीं है कि पैग़म्बरे इस्लाम का संदेश केवल एक क्षेत्र से विशेष था क्योंकि इतिहासिक तथ्यों से यह सिद्ध होता है कि उनका संदेश पूरी मानव जाति के लिए था। यदि पैग़म्बरे इस्लाम के काल में कुछ अन्य धर्म इस्लामी सरकार के साथ लेन देन […]

    • पवित्र रमज़ान-15
      Rate this post

      पवित्र रमज़ान-15

      पवित्र रमज़ान-15Rate this post ईश्वरीय दूतों का कहना है कि रमज़ान के महीने में शैतान के हाथ पैर बांध दिए जाते हैं कि वह दूसरों को बहका न सके। दूसरे शब्दों में यह कहना चाहिए कि जब ईश्वर के सदाचारी बंदे रोज़ा रखते हैं तो उनके भीतर शैतान के बहकावों का मुक़ाबला करने की शक्ति […]

    more