islamic-sources

  • Rate this post

    अमर ज्योति-16

    Rate this post क़ुरआने मजीद का एक चमत्कारिक आयाम, वर्षों बाद घटने वाली घटनाओं के बारे में भविष्यवाणी है। उदाहरण स्वरूप वर्ष 615 ईसवी में ईरान के सासानी शासन को रोम द्वारा पराजित करने की घटना की भविष्यवाणी क़ुरआने मजीद ने बड़े स्पष्ट शब्दों में की थी। क़ुरआन ने कहा है कि कुछ वर्षों बाद […]

  • Rate this post

    अमर ज्योति-15

    Rate this post क़ुरआने मजीद मार्गदर्शन की एक ऐसी किताब है जिसका पूरे संसार में प्रति दिन बड़ी संख्या में लोग अध्ययन करते हैं। दसियों लाख मुसलमान, यहां तक कि काफ़ी संख्या में ग़ैर मुस्लिम भी क़ुरआने मजीद की विषय वस्तु या विभिन्न भाषाओं में उसके अनुवाद को पढ़ते हैं। यह ईश्वरीय पुस्तक सदैव ही […]

  • Rate this post

    अमर ज्योति-14

    Rate this post क्या आपने कभी सोचा है कि जब भूमिगत मीठा पानी, समुद्र के साथ मिलता है तो समुद्र के पानी का नमक मीठे पानी को प्रभावित व नमकीन क्यों नहीं करता? निश्चित रूप से आप जानते हैं कि यदि ऐसा होता तो भूमिगत पानी, पीने योग्य नहीं रह जाता। मीठे और खारे पानी […]

  • Rate this post

    अमर ज्योति-13

    Rate this post संसार की सृष्टि एक लक्ष्यपूर्ण एवं समन्वित व्यवस्था के साथ तथा ईश्वरीय ज्ञान व तत्वदर्शिता के आधार पर की गई है और इस ज्ञान व तत्वदर्शिता के चिन्ह संपूर्ण सृष्टि में अत्यंत स्पष्ट रूप से देखे जा सकते हैं। धरती पर ईश्वर के उत्तराधिकारी के रूप में मनुष्य, सृष्टि की अर्थपूर्ण व्यवस्था […]

  • Rate this post

    अमर ज्योति-12

    Rate this post मनुष्य के पास वस्तुओं की पहचान व ज्ञान के लिए दो महत्वपूर्ण स्रोत हैं जिनमें से एक ईश्वर का विशेष संदेश वहि है। इस अर्थ में कि ईश्वर ने पैग़म्बरों व आसमानी किताबों को भेज कर मनुष्य को संसार की गुप्त व प्रकट वास्तविकताओं से अवगत कराया है। दूसरा स्रोत बुद्धि है […]

  • Rate this post

    अमर ज्योति-6

    Rate this post दयावान ईश्वर ने अपने अंतिम दूत को भेज कर पूरे विश्व के लिए अपनी दया व कृपा को संपूर्ण कर दिया तथा क़ुरआन नामक किताब के माध्यम से कल्याण का मार्ग सभी को दिखा दिया। धार्मिक आदेश, उपासना, नैतिक सिद्धांत, जीवन के संस्कार और जो कुछ मनुष्य के सौभाग्य का कारण बनता […]

  • Rate this post

    अमर ज्योति-11

    Rate this post क़ुरआने मजीद ईश्वर का कथन तथा उसकी महानता का प्रतिबिंबन है जो वास्तविकता की खोज में रहने वाली बुद्धियों और सच्चे विचारों को सोच-विचार एवं चिंतन मनन का निमंत्रण देता है। सूरए साद की आयत नंबर उनतीस में कहा गया है कि (हे पैग़म्बर!) क़ुरआन वह किताब है जिसे हमने आप पर […]

  • Rate this post

    अमर ज्योति-10

    Rate this post क़ुरआने मजीद एक ईश्वरीय चमत्कार है जो शताब्दियां बीत जाने के बावजूद यथावत जीवित है और अपने अस्तित्व से वास्तविकता का प्रकाश बिखेर रहा है। यह ईश्वरीय किताब, इस्लाम की निशानी और इस महान धर्म की सच्चाई का प्रमाण समझी जाती है। क़ुरआने मजीद के व्याख्याकारों तथा हदीस के विशेषज्ञों बल्कि ग़ैर […]

  • Rate this post

    अमर ज्योति-9

    Rate this post इतिहास के साक्ष्यों और क़ुरआने मजीद की आयतों के अनुसार हज़रत मुहम्मद सल्लल्लाहो अलैहे व आलेही व सल्लम ईश्वर के अंतिम दूत थे जिन्होंने ईश्वरीय पाठशाला के अतिरिक्त किसी भी पाठशाला का मुंह नहीं देखा और केवल ईश्वर के माध्यम से ही ज्ञान प्राप्त किया। वे ऐसे सुगंधित फूल हैं जिसकी सृष्टि […]

  • Rate this post

    अमर ज्योति-8

    Rate this post क़ुरआने मजीद ऐसी आसमानी किताब है जो तर्कशक्ति और मानवता की रक्षा के लिए पैग़म्बरे इस्लाम हज़रत मुहम्मद सल्लल्लाहो अलैहे व आलेही व सल्लम के हृदय पर उतारी गई है और जिसने मानवता को इस्लाम धर्म का उपहार दिया है। इतिहासकारों का मानना है कि क़ुरआन, ईश्वर की ओर भेजी गई ऐसी […]

  • Rate this post

    अमर ज्योति-7

    Rate this post दयावान ईश्वर ने अपने अंतिम दूत को भेज कर पूरे विश्व के लिए अपनी दया व कृपा को संपूर्ण कर दिया तथा क़ुरआन नामक किताब के माध्यम से कल्याण का मार्ग सभी को दिखा दिया। धार्मिक आदेश, उपासना, नैतिक सिद्धांत, जीवन के संस्कार और जो कुछ मनुष्य के सौभाग्य का कारण बनता […]

  • Rate this post

    अमर ज्योति-5

    Rate this post प्रोफ़ेसर मॉरिस ब्यूकेल का जन्म वर्ष 1920 में एक फ़्रान्सीसी घराने में हुआ। वे अपने माता-पिता की भांति ईसाई धर्म के अनुयाई थे। उन्होंने चिकित्सा के क्षेत्र में पढ़ाई की और शिक्षा पूरी करने के बाद पैरिस विश्वविद्यालय के सर्जरी विभाग के प्रमुख नियुक्त हुए। प्रोफ़ेसर ब्यूकेल ने कई वर्षों तक पवित्र […]

  • Rate this post

    अमर ज्योति-४

    Rate this post ईश्वर, क़ुरआने मजीद के सूरए रहमान में मनुष्य को दी जाने वाली आध्यात्मिक एवं भौतिक अनुकंपाओं तथा सृष्टि की रचनाओं की एक रोचक सूचि का वर्णन करता है। इसके बाद वह सृष्टि की आश्चर्यजनक वस्तुओं की ओर संकेत करते हुए, सभी को उसके द्वारा प्रदान की गई अनुकंपाओं की स्वीकारोक्ति का निमंत्रण […]

  • Rate this post

    अमर ज्योति-३

    Rate this post क़ुरआने मजीद, अंतिम ईश्वरीय किताब है जो मनुष्य के लिए उपहार स्वरूप भेजी गई है और बुद्धिजीवियों व चिंतनकर्ताओं के मतानुसार इस किताब की रचना मनुष्य की क्षमता से बाहर है। चूंकि यह किताब अनंतकालीन है और सभी कालों से संबंधित है अतः इसके चमत्कारिक आयाम भी अमर हैं। यही कारण है […]

  • Rate this post

    अमर ज्योति-2

    Rate this post क़ुरआने मजीद, मुसलमानों का धर्म ग्रंथ है जो ईश्वर द्वारा पैग़म्बरे इस्लाम सल्लल्लाहो अलैहे व आलेही व सल्लम के पास भेजा गया है। क़ुरआने मजीद के आने का समय, अरबों में साहित्य, शब्दालंकारों तथा शेर-शायरी की चरम सीमा का काल था। उकाज़ नामक बाज़ार में शब्दों संस्कृति तथा साहित्य के कलाकार अपनी […]

  • Rate this post

    अमर ज्योति़- १

    Rate this post पवित्र क़ुरआन ईश्वर का ऐसा अमर व अमिट चमत्कार है कि उससे जब भी लाभ उठाया जाए, अपने संसार में उतरने के समय की ही भांति जीवनदायक व आकर्षक है और यह पुस्तक संस्कृति व सभ्यता के पैदा होने का स्रोत रही है। इतिहास साक्षी है कि कोई भी दूसरी पुस्तक अपने […]

  • Rate this post

    जवानों को इमाम अली(अ)की वसीयतें

    Rate this post इस लेख की सनद नहजुल बलाग़ा का 31 वा पत्र है। सैयद रज़ी के कथन के अनुसार सिफ़्फ़ीन से वापसी पर हाज़रीन नाम की जगह पर आप ने यह पत्र अपने पुत्र इमाम हसन (अ) को लिखा है। हज़रत अली (अ) ने इस पत्र के ज़रिये से जो ज़ाहिर में तो इमाम […]

  • पेज2 से 212