islamic-sources

  • ALL
    E-Books
    Articles

    date

    1. date
    2. title
    • इस्लाम धर्म व शिया समप्रदाय का संक्षिप्त परिचय
      Rate this post

      इस्लाम धर्म व शिया समप्रदाय का संक्षिप्त परिचय

      इस्लाम धर्म व शिया समप्रदाय का संक्षिप्त परिचयRate this post यह विश्वास के साथ कहा जा सकता है कि मानव समाज व संस्कृति पर सदैव आसमानी धर्मो का प्रभाव रहा है। पिछली शताब्दी के बारे में कहा जाता है कि इस में मानव “वही” को छोड़ कर “बुद्धि” की ओर उन्मुख हुआ है। परन्तु वास्तविक्ता […]

    • इस्माईलिया सम्प्रदाय
      Rate this post

      इस्माईलिया सम्प्रदाय

      इस्माईलिया सम्प्रदायRate this post एक हज़ार चौरानवे ई0 में फ़ातेमी बादशाह अल मुस्तन्सिर की मौत के बाद उन के युवराज के लिये इस्माईलिया सम्प्रदाय में मतभैद पैदा हो गये, मुस्तन्सिर ने अपने बड़े बेटे अबू मंसूर नज़ार के अपना युवराज बनाया था लेकिन उन के वज़ीर (मंत्री) अफ़्ज़ल ने उन की म्रत्यु के बाद विद्रोह […]

    •  फ़िरक़ ए इमामिया जाफ़रिया
      फ़िरक़ ए इमामिया जाफ़रिया
      Rate this post

      फ़िरक़ ए इमामिया जाफ़रिया

      फ़िरक़ ए इमामिया जाफ़रियाRate this post 1. दौरे हाज़िर में इमामिया फ़िरक़ा मुसलमानों का बड़ फ़िरक़ा है, जिसकी कुल तादाद मुसलमानों की तक़रीबन एक चौथाई है और इस फ़िरक़े की तारीख़ी जड़ें सदरे इस्लाम के उस दिन से शुरु होती हैं कि जिस सूर ए बय्यनह की यह आयत नाज़िल हुई थी: (सूर ए बय्यना […]

    • मातुरिदिया सम्प्रदाय
      Rate this post

      मातुरिदिया सम्प्रदाय

      मातुरिदिया सम्प्रदायRate this post मातुरिदिया सम्प्रदाय (फिर्क़ा) माविराउन्नहर की सर ज़मीन पर वजूद में आया। जब माविराउन्नहर को मुसलमानों ने जीत लिया मातुरिदिया सम्प्रदाय का संस्थापक अबु मंसूर मातुरिदिया है जिसका जन्म 238 हिजरी और देहान्त 333 हिजरी में हुआ। अबु मंसूर बहुत प्रतिभा और तेज़ बुद्धि वाला आदमी था वह बहस और मुनाज़रा में […]

    • अशाइरा सम्प्रदाय
      Rate this post

      अशाइरा सम्प्रदाय

      अशाइरा सम्प्रदायRate this post अशाइरा, अबुल हसन अशअरी (260-324 हिजरी) के मानने वालों को कहते हैं। अबुल हसन अशअरी ने अक़्ल (बुद्धी) से काम लेने में तफरीत से काम लेते हुए दरमियान का एक तीसरा रास्ता चुना है। दूसरी सदी हिजरी के दौरान इन दोनों फिकरी मकतबों नें बहुत ज़्यादा शोहरत हासिल की। मोअतज़ला अक़ाइद […]

    • इस्माईलियों के फ़िर्क़े
      Rate this post

      इस्माईलियों के फ़िर्क़े

      इस्माईलियों के फ़िर्क़ेRate this post मुस्ताली के मानने वाले फ़ातेमी थे उनकी इमामत मिस्र के फ़ात्मी ख़लीफ़ाओं में बाक़ी रही, इस के कुछ समय बाद यहा सम्प्रदाय हिन्दुस्तान में “बोहरा” नाम से अस्तित्व में आया और अभी तक बाक़ी है। ओबैदुल्लाह मेहदी 296 हिजरी में अफ़रीक़ा में प्रकट हुआ और उसने इस्माईलियों को अपनी इमामत […]

    •  फ़िरक़ ए इमामिया जाफ़रिया
      फ़िरक़ ए इमामिया जाफ़रिया
      4 (80%) 1 vote

      फ़िरक़ ए इमामिया जाफ़रिया

      फ़िरक़ ए इमामिया जाफ़रिया4 (80%) 1 vote 1. दौरे हाज़िर में इमामिया फ़िरक़ा मुसलमानों का बड़ फ़िरक़ा है, जिसकी कुल तादाद मुसलमानों की तक़रीबन एक चौथाई है और इस फ़िरक़े की तारीख़ी जड़ें सदरे इस्लाम के उस दिन से शुरु होती हैं कि जिस सूर ए बय्यनह की यह आयत नाज़िल हुई थी: (…………………….) (सूर […]

    • अहले हदीस
      Rate this post

      अहले हदीस

      अहले हदीसRate this post अहले हदीस का तरीक़ा अस्ल में एक फ़िक्ही और इज्तिहादी तरीक़ा था। दूसरे शब्दों में कहा जाए तो अहले सुन्नत के फक़ीह अपने तौर तरीक़े की वजह से दो गुरूप में बटे हैं। एक गुरुप वह है जिसका सेन्टर इराक़ था और वह हुक्मे शरई को हासिल करने के लिए क़ुरआन […]

    more