islamic-sources

Languages
ALL
E-Books
Articles

date

  1. date
  2. title
  •  इमाम हसन (अ.) की शहादत
    Rate this post

    इमाम हसन (अ.) की शहादत

    Rate this post इमाम हसन अलैहिस्सलाम ने अपनी ज़िंदगी, इस्लामी इतिहास के संवेदनलशील हिस्से में गुज़ारी है। इमाम हसन अलैहिस्सलाम ने अपनी ज़िंदगी में केवल 48 वसंत देखे लेकिन इस कम अवधि में वह बातिल व असत्य के ख़िलाफ़ लगातार संघर्ष करते रहे। इमाम हसन अलैहिस्सलाम ने अपने बाप हज़रत अली अलैहिस्सलाम की शहादत के […]

  •  इमाम हसन मुज्तबा अलैहिस्सलाम
    Rate this post

    इमाम हसन मुज्तबा अलैहिस्सलाम

    Rate this post इमाम हसन अलैहिस्सलाम के व्यक्तित्व का महत्व पैग़म्बरे इस्लाम के इस कथन से होता है जिसमें आपने कहाः जान लो कि हसन ईश्वर की ओर से मेरे लिए उपहार है पंद्रह रमज़ान उस महान हस्ती का शुभ जन्म दिवस है जो नैतिक मूल्यों व दया की खज़ाना था। तीन हिजरी को आज […]

  •  इमाम जाफ़र सादिक़ (अ.) का जीवन परिचय
    Rate this post

    इमाम जाफ़र सादिक़ (अ.) का जीवन परिचय

    Rate this post इमाम जाफ़र सादिक़ अलैहिस्सलाम हज़रत इमाम जाफ़र सादिक़ (अ.ह) पैग़म्बरे इस्लाम हज़रत मुहम्मद (स.अ) के छठे उत्तराधिकारी और आठवें मासूम हैं आपके वालिद (पिता) इमाम मुहम्मद बाक़िर (अ.) थे….. इमाम जाफ़र सादिक़ अलैहिस्सलाम हज़रत इमाम जाफ़र सादिक़ (अ.ह) पैग़म्बरे इस्लाम हज़रत मुहम्मद (स.अ) के छठे उत्तराधिकारी और आठवें मासूम हैं आपके वालिद […]

  •  पैग़म्बरे इस्लाम स.अ. की वफ़ात
    Rate this post

    पैग़म्बरे इस्लाम स.अ. की वफ़ात

    Rate this post इलाही पैग़म्बरों ने दीन के नेहाल की सिंचाई की क्योंकि उन्हें इंसानी समाजों में भलाई फैलाने की ज़िम्मेदारी सौंपी गई थी। उनका उद्देश्य समाज में तौहीद को फैलाना, अद्ल व न्याय की स्थापना और अंधविश्वास व जेहालत से लोगों को दूर कर कमाल (परिपूर्णतः) की ओर मार्गदर्शन करना था। इलाही पैग़म्बरों की […]

  •  इमाम हसन अ. की शहादत
    Rate this post

    इमाम हसन अ. की शहादत

    Rate this post इमाम हसन अलैहिस्सलाम ने अपनी ज़िंदगी, इस्लामी इतिहास के संवेदनलशील हिस्से में गुज़ारी है। इमाम हसन अलैहिस्सलाम ने अपनी ज़िंदगी में केवल 48 वसंत देखे लेकिन इस कम अवधि में वह बातिल व असत्य के ख़िलाफ़ लगातार संघर्ष करते रहे। इमाम हसन अलैहिस्सलाम ने अपने बाप हज़रत अली अलैहिस्सलाम की शहादत के […]

  •  अमीरूल मोमिनीन हज़रत अली अ.ह
    Rate this post

    अमीरूल मोमिनीन हज़रत अली अ.ह

    Rate this post 13 रजब को अमीरूल मोमिनीन हज़रत अली अलैहिस्सलाम का शुभ जन्म हुआ, आप पैगम्बरे इस्लाम सल्लल्लाहो अलैहे व आलिही वसल्लम के चचाज़ाद भाई हैं और वह इसी नुबूव्वत की छाया में पले बढ़े और ख़ुद पैग़म्बर की देखरेख में आपका प्रशिक्षण हुआ। हज़रत अली अलैहिस्सलाम पहले आदमी थे जिन्होंने इस्लाम क़ुबूल किया […]

  •  पैग़म्बरे इस्लाम (सलल्लाहो अलैह व आलेही व सल्लम) की बेअसत
    Rate this post

    पैग़म्बरे इस्लाम (सलल्लाहो अलैह व आलेही व सल्लम) की बेअसत

    Rate this post पैग़म्बरे इस्लाम (सलल्लाहो अलैह व आलेही व सल्लम) की बेअसत की पैग़म्बरी की आधिकारिक ऐलान का दिन है। इस दिन अल्लाह ने अपनी कृपा व दया के अथाह समंदर के माध्यम से इंसान को लापरवाही और गुमराही के अंधेरे से निकाला। पैग़म्बरे इस्लाम (सलल्लाहो अलैह व आलेही व सल्लम) को यह महान […]

  •  अमीरूल मोमिनीन हज़रत अली अलैहिस्सलाम का जन्मदिन
    Rate this post

    अमीरूल मोमिनीन हज़रत अली अलैहिस्सलाम का जन्मदिन

    Rate this post सलाम हो उस जन्म लेने वाले पर कि जिसके लिए ईश्वर ने अपने घर को जन्म स्थली बनाया और अपने सर्वश्रेष्ठ दूत पैग़म्बरे इस्लाम को उसका सरपरस्त व प्रशिक्षक बनाया ताकि उसका वुजूद मानवता के लिए आदर्श बन सके और उसके अस्तित्व से ईश्वरीय कृपा के द्वार बंदों के लिए खुल सकें। […]

  •  अमीरुल मोमिनीन अली (अ) का जीवन परिचय  व आपकी विशेषताऐं
    Rate this post

    अमीरुल मोमिनीन अली (अ) का जीवन परिचय व आपकी विशेषताऐं

    Rate this post आपका नाम अली व आपके अलक़ाब अमीरुल मोमेनीन, हैदर, कर्रार, कुल्ले ईमान, सिद्दीक़,फ़ारूक़, अत्यादि हैं। आपके पिता हज़रतअबुतालिब पुत्र हज़रत अब्दुल मुत्तलिब व आपकी माता आदरनीय फ़तिमा पुत्री हज़रतअसद थीं। आप का जन्म रजब मास की 13वी तारीख को हिजरत से 23वर्ष पूर्व मक्का शहर के विश्व विख्यात व अतिपवित्र स्थान काबे […]

  •  13 रजब, अमीरूल मोमिनीन हज़रत अली (अ.) का शुभ जन्मदिवस
    Rate this post

    13 रजब, अमीरूल मोमिनीन हज़रत अली (अ.) का शुभ जन्मदिवस

    Rate this post 13 रजब को अमीरूल मोमिनीन हज़रत अली अलैहिस्सलाम का शुभ जन्म हुआ, आप पैगम्बरे इस्लाम सल्लल्लाहो अलैहे व आलिही वसल्लम के चचाज़ाद भाई हैं और वह इसी नुबूव्वत की छाया में पले बढ़े और ख़ुद पैग़म्बर की देखरेख में आपका प्रशिक्षण हुआ। हज़रत अली अलैहिस्सलाम पहले आदमी थे जिन्होंने इस्लाम क़ुबूल किया […]

  •  इमाम मोहम्मद तक़ी (अ.) की ज़िंदगी पर एक संक्षिप्त नज़र
    Rate this post

    इमाम मोहम्मद तक़ी (अ.) की ज़िंदगी पर एक संक्षिप्त नज़र

    Rate this post हिजरी क़मरी कैलेंडर के सातवें महीने रजब को उपासना और अराधना का महीना कहा जाता है जबकि इस पवित्र महीने के कुछ दिन पैग़म्बरे इस्लाम के परिजनों में कुछ महान हस्तियों से जुड़े हुए हैं जिनसे इस महीने की शोभा और भी बढ़ गई है। इस प्रकार की तारीख़ें बड़ा अच्छा अवसर […]

  •  इमाम अली नक़ी (अ.) की ज़िंदगी पर एक संक्षिप्त नज़र
    Rate this post

    इमाम अली नक़ी (अ.) की ज़िंदगी पर एक संक्षिप्त नज़र

    Rate this post इमाम अली नक़ी (अ.) ने इस्लामी अहकाम के प्रसारण व प्रकाशन और जाफ़री मज़हब के प्रचार के लिए महत्वपूर्ण क़दम उठाये। और हमेशा लोगों को धार्मिक तथ्यों से अवगत करने में प्रयत्नशील रहे। हज़रत इमाम अली नक़ी (अ.) 15 ज़िलहिज्जा 212 हिजरी या 5 रजब को मदीना में पैदा हुए। आपके पिता […]

  •  इमाम हसन (अ) के दान देने और क्षमा करने की कहानी
    Rate this post

    इमाम हसन (अ) के दान देने और क्षमा करने की कहानी

    Rate this post एक दिन इमाम हसन (अ) घोड़े पर सवार कहीं जा रहे थे कि शाम अर्थात मौजूदा सीरिया का रहने वाला एक इंसान रास्ते में मिला। उस आदमी ने इमाम हसन को बुरा भला कहा और गाली देना शुरू कर दिया। इमाम हसन (अ) चुपचाप उसकी बातें सुनते रहे, जब वह अपना ग़ुस्सा […]

  •  इमाम जाफ़र सादिक़ (अलैहिस्सलाम) ग़ैरों की ज़बानी
    Rate this post

    इमाम जाफ़र सादिक़ (अलैहिस्सलाम) ग़ैरों की ज़बानी

    Rate this post विलायत पोर्टलः शियों के छठे इमाम का नाम, जाफ़र कुन्नियत (उपनाम), अबू अब्दुल्लाह, और लक़ब (उपाधि) सादिक़ है। आपके वालिद इमाम मोहम्मद बाक़िर अलैहिस्सलाम और माँ जनाबे उम्मे फ़रवा हैं। आप 17 रबीउल् अव्वल 83 हिजरी में पैदा हुए और 114 हिजरी में इमाम बने। आपके ज़माने में बनी उमय्या के बादशाहों […]

  •  चेहलुम, इमाम हुसैन की ज़ियारत पर पैदल जाने का सवाब
    Rate this post

    चेहलुम, इमाम हुसैन की ज़ियारत पर पैदल जाने का सवाब

    Rate this post संभव है कि किसी के दिमाग़ में यह सवाल उठे कि आख़िर क्यों चेहलुम के दिन इमाम हुसैन अलैहिस्सलाम की ज़ियारत को इतना अधिक महत्व दिया गया है? आख़िर क्यों हमें इस दिन को इतने सम्मान और जोश के साथ मनाना चाहिये इस सवाल के जवाब के लिये हम आपके सामने इमाम […]

  •  इमाम हुसैन (अ.) की मुहब्बत
    Rate this post

    इमाम हुसैन (अ.) की मुहब्बत

    Rate this post क्या इमाम हुसैन (अ) उनकी अज़ादारी और मुहर्रम के पवित्र स्मारक मुसलमानों में मतभेद और विवाद का विषय बन सकता है? वह कौन सा मुसलमान है, हुसैन (अ) जिसके ईमान का हिस्सा न हों?रसूले इस्लाम (स.अ) का वह कौन सा कलमा पढ़ने वाला होगा जिसकी नसों में इमाम हुसैन (अ) का इश्क़ […]

  •  हज़रत ज़ैनब सलामुल्लाह अलैहा ने कर्बला को अमर बना दिया
    Rate this post

    हज़रत ज़ैनब सलामुल्लाह अलैहा ने कर्बला को अमर बना दिया

    Rate this post अबनाः हज़रत ज़ैनब इस्लामी इतिहास में एक महान महिला का नाम है जो आसमान पर जगमगा रहा है कि जिसका व्यक्तित्व उच्चतम नैतिक गुणों का संपूर्ण आदर्श है। ऐसी महिला जिसने अपने नर्म, दयालु व मेहरबानी दिल के साथ मुसीबतों के पहाड़ों को सहन किया। लेकिन इस महान हस्ती की प्रतिबद्धता, हक़ […]

  •  इमाम हुसैन अ.ह. के दोस्तों और दुश्मनों पर एक निगाह
    Rate this post

    इमाम हुसैन अ.ह. के दोस्तों और दुश्मनों पर एक निगाह

    Rate this post हारून रशीद पहला ख़लीफ़ा था कि जिसने इमाम हुसैन अ.ह. की पाक क़ब्र और उसके आसपास के घरों पर हमला किया और आज आईएसआईएस के आतंकवादी चाहते हैं कि इतिहास को दोहरायें लेकिन इमाम और उनकी बारगाह से लोगों की मुहब्बत और उनका प्यार, इमाम से लड़ने वालों के कीने की आग […]

  •  इमाम मोहम्मद बाक़िर अलैहिस्सलाम का जन्म दिवस
    Rate this post

    इमाम मोहम्मद बाक़िर अलैहिस्सलाम का जन्म दिवस

    Rate this post आज पवित्र नगर मदीना में इमाम सज्जाद अलैहिस्सलाम का घर प्रकाशवान है। पूरा मदीना नगर इमाम ज़ैनुल आबेदीन अलैहिस्सलाम के सुपुत्र इमाम मोहम्मद बाक़िर अलैहिस्सलाम के आगमन से प्रकाशमय है। इमाम मोहम्मद बाक़िर अलैहिस्सलाम का नाम मोहम्मद था और उनकी उपाधि बाक़िरूल उलूम अर्थात ज्ञानों को चीरने वाला है। इस उपाधि का […]

  •  पैग़म्बर के बाद हज़रत फ़ातेमा ज़हरा का मर्सिया
    Rate this post

    पैग़म्बर के बाद हज़रत फ़ातेमा ज़हरा का मर्सिया

    Rate this post हज़रत फ़ातेमा ज़हरा पर दुखों के पहाड़ कब से टूटना आरम्भ हुए इसके बारे में यही कहा जा सकता है कि जैसे ही पैग़म्बरे इस्लाम ने इस संसार से अपनी आखें मूंदी, मुसीबतें आना आरम्भ हो गईं, और इन मुसीबतों का सिलसिला एक के बाद एक बढ़ता ही चला गया। इतिहासकारों ने […]

more