islamic-sources

  • नामज़े आयात
    4 (80%) 1 vote[s]

    नामज़े आयात

    नामज़े आयात4 (80%) 1 vote[s] नामज़े आयात (हज़रत आयतुल्लाह ख़ामेनई की नज़र में) सवाल 708:  नमाज़ आयात क्या है और शरीयत के एतबार से उस के वाजिब होने के असबाब क्या हैं? जवाब:  ये दो रकअत है और हर रकअत में पांच रुकू और दो सज्दे हैं, शरीयत के लिहाज़ से इसके वाजिब होने के असबाब […]

  • Rate this post

    हद्दे तरख्खु़स क्या है?

    Rate this post (हज़रत आयतुल्लाह ख़ामेनई की नज़र में) सवाल 672:  जर्मनी और यूरोप के कुछ शहरों का दर्मियानी फ़ासला (यानी एक शहर से निकलने और दूसरे शहर में दाख़िल हो जाने के साइन बोर्ड की दूरी) एक सौ मीटर से ज़्यादा नहीं है तो दूसरे शहरों की कुछ जगाहें और रास्ते तो एक दूसरे […]

  • Rate this post

    जिस शख़्स का पेशा या पेशे की शुरुआत सफ़र हो

    Rate this post सवाल 638:  जिस शख़्स का सफ़र उसके पेशे की शुरुआत हो क्या वोह सफ़र में पूरी नमाज़ पढ़ेगा और उसका रोज़ा भी सही है या ये (पूरी नमाज़ पढ़ना) उस शख़्स से मख़सूस है जिसका पेशा ही यक़ीनी तौर पर सफ़र हो और, इमाम ख़ुमैनी के इस क़ौल के क्या माना हैं जिसका पेशा सफ़र […]

  • Rate this post

    अहले सुन्नत की इक़तेदा

    Rate this post अहले सुन्नत की इक़तेदा (यानी अहले सुन्नत के पीछे नमाज़ पढ़ना) (हज़रत आयतुल्लाह ख़ामेनई की नज़र में) सवाल 596: क्या अहले सुन्नत के पीछे नमाज़ जाएज़ है? जवाब:  इस्लामी इत्तेहाद के तहफ़्फ़ुज़ के लिये उनके पीछे नमाज़े जमाअत पढ़ना जाएज़ है। सवाल 597:  मैं कुरदों के इलाक़े में सरविस करता हूं वहां […]

  • Rate this post

    नमाज़े जमाअत में औरतों की शिरकत

    Rate this post नमाज़े जमाअत में औरतों की शिरकत (हज़रत आयतुल्लाह ख़ामेनई की नज़र में) सवाल 592: क्या शारेअ मुक़द्दस ने औरतों को भी मस्जिदों में नमाज़े जमाअत या नमाज़े जुमा में शरीक होने की उसी तरह ताकीद दिलाई है जिस तरह मर्दों को दिलाई है, या औरतों का घर में नमाज़ पढ़ना अफ़ज़ल है? […]

  • Rate this post

    नमाज़े जमाअत

    Rate this post नमाज़े जमाअत : (आयतुल्लाह ख़ामेनई की नज़र में) सवाल 548: इमामे जमाअत नमाज़ में क्या नियत करे ? जमाअत की नियत करे या फुरादा की? जवाब: अगर जमाअत की फ़जी़लत हासिल करना चाहता है तो वाजिब है के इमामत व जमाअत का इरादा करे और अगर इमामत के इरादे के बग़ैर नमाज़ […]

  • Rate this post

    क़ज़ा नमाज़़

    Rate this post सवाल 521:  मैं 17 साल की उम्र तक एहतेलाम और ग़ुस्ल वग़ैरह के बारे में नहीं जानता था और उन उमूर के मुताल्लिक़ किसी से भी कोई बात नहीं सुनी थी ख़ुद भी जनाबत और गु़स्ल वाजिब होने के मानी नहीं समझता था लिहाज़ा क्या उस उमर तक मेरे रोज़े और नमाज़ों […]

  • Rate this post

    माँ बाप की क़ज़ा नमाज़ें

    Rate this post सवाल 536:  मेरे वालिद बीमार हुए और उसके बाद दो साल तक मरीज़ रहे, इस मर्ज़ की बिना पर अच्छे बुरे में तमीज़ नहीं कर पाते थे यानि उन से सोचने समझने की कु़व्वत ही ख़त्म हो गई थी, चुनांचे दो बर्सो के दौरान उन्होंने न रोज़ा रखा और न ही नमाज़ अदा की, मैं उनका बड़ा […]

  • Rate this post

    क़िराअत और उसके अहकाम

    Rate this post सवाल 455:  उस नमाज़ का क्या हुक्म है जिसमें क़िराअते जम्हूरी (बुलन्द आवाज़ से) न हो? जवाब: मर्दो पर वाजिब है के सुब्ह मग़रिब और इशा की नमाज़ में हम्दो सूरा को बुलन्द आवाज़ से पढ़े लेकिन अगर भूले से या लाइल्मी की वजह से आहिस्ता पढ़लें तो नमाज़ सही और अगर […]

  • Rate this post

    अज़ान व इक़ामत:

    Rate this post सवाल 447: माहे रमज़ानुल मुबारक में हमारे गांव का मोअजि़्ज़़न हमेशा सुबह की अज़ान के वक़्त से कुछ मिनट पहले ही दे देता है ताकि लोग अज़ान के दर्मियान या इसके ख़त्म होने तक खाने पीने से फ़ारिग़ हों लें क्या ये अमल सही है? जवाब: अगर अज़ान देना लोगों को शक में न […]

  • Rate this post

    सोने चांदी का इस्तेमाल

    Rate this post सवाल 429: मर्दों के बारे में सोने की अंगूठी ख़ास तौर पर नमाज़ में पहनने का क्या हुक्म है? जवाब: किसी हालत में मर्द के लिये सोने की अंगूठी पहनना जाएज़ नहीं है और ऐहतियाते वाजिब की बिना पर इस में उसकी नमाज़ भी बातिल है। सवाल 440: मर्दों के लिये सफ़ैद सोने की अंगूठी पहनने […]

  • Rate this post

    नमाज़ गुज़ार का लेबास

    Rate this post (नमाज़ पढ़ने वाले का कपड़े) सवाल 425: जिस लेबास (कपड़े) के निजासत के बारे में शक है क्या उस में नमाज़ पढ़ना सही है? जवाब: जिस लेबास (कपड़े) के नजिस होने में शक हो वो पाक है और इस में नमाज़ सही है। सवाल 426: मैंने जर्मनी में चमड़े की एक बेल्ट ख़रीदी थी क्या उसको […]

  • Rate this post

    मस्जिद के अहकाम

    Rate this post सवाल 386:  इस बात को नज़र में रखते हुए कि अपने मोहल्ले की मस्जिद में नमाज़ पढ़ना मुस्तहब है क्या अपने मोहल्ले की मस्जिद छोड़ कर जमाअत की नमाज़ पढ़ने के लिये शहर की जामा मस्जिद जाने में कोई हर्ज है? जवाब: अगर अपने मोहल्ले की मस्जिद छोड़ना दूसरी मस्जिद में नमाज़े […]

  • Rate this post

    औक़ाते नमाज़

    Rate this post सवाल 345: मज़हबे शिया पंजगाना नमाज़ों के वक़्त के बारे में किस दलील पर ऐतमाद करता है? जैसा कि आप जानते हैं कि अहले सुन्नत वक़्ते इशा के दाख़िल होने को नमाज़े़ मग़रिब के क़ज़ा होने की दलील क़रार देते हैं, ज़ोहर व अस्र की नमाज़ के बारे में भी उनका यही […]

  • Rate this post

    नेजासात के अहकामः

    Rate this post नेजासात के अहकामः (आयतुल्लाह ख़ामेनई की नज़र में) सवाल 266: क्या ख़ून पाक है? जवाबः जिन जानदारों का ख़ून उछल कर निकलता हो उनका ख़ून नजिस है। सवाल 267: वो ख़ून जो इमाम हुसैन अलैहिस्सलाम की अज़ादारी में इंसान के सर को तलवार से टकराने के बाद जारी होता है और उसे […]

  • Rate this post

    मय्यत के अहकाम

    Rate this post मय्यत के अहकाम (आयतुल्लाह ख़ामेनई की नज़र में) सवाल 226: क्या मय्यत के ग़ुस्ल, कफ़न और दफ़्न में एक जैसा और हम जिन्स होना शर्त है या नहीं बल्कि औरत व मर्द में से हर एक दूसरे की मय्यत के ये काम अंजाम दे सकते है? जवाबः मय्यत के ग़ुस्ल देने में […]

  • Rate this post

    तक़लीद की शर्तें

    Rate this post सवाल 9: क्या ऐसे मुजतहिद की तक़लीद जाएज़ है जिस ने मर्जाईयत के मरकज़ (ओहदा) को न संभाला हो और न ही उस की तौज़ीहुल मसाइल (फ़तवों की किताब) मौजूद हो? जवाब: मुजतहिद जामेउश शराइत होने के लिये ये शर्त नहीं है कि उस ने मर्जाईयत के मनसब को संभाल रखा हो और न […]

  • Rate this post

    वज़ू के सही होने की शर्तें

    Rate this post सवालः वज़ू के सही होने की क्या शर्तें हैं? जवाबः वज़ू के सही होने की तेरह शर्तें हैं….. (1)     वज़ू का पानी पाक हो। (2)     पानी मुतलक़ हो। (3)     पानी मुबाह हो (ग़स्बी न हो) (4)     वज़ू के पानी का बर्तन मुबाह हो। (5)     पानी का बर्तन सोने और चाँदी का न हो। (6)     धोते और मसह करते […]

  • Rate this post

    ग़ुस्ले तरतीबी और इरतेमासी का क्या तरीक़ा है

    Rate this post सवालः ग़ुस्ले तरतीबी और इरतेमासी का क्या तरीक़ा है? जवाबः ग़ुस्ले इरतेमासी में अगर ग़ुस्ले इरतेमासी की नियत से ब तदरीज बदन को पानी में डुबोएँ और पूरा बदन पानी के अन्दर चला जाऐ तो उसका ग़ुस्ल सही है और ऐहतियाते वाजिब यह है कि सारा बदन एक ही मरतबा पानी के […]

  • Rate this post

    वुज़ू को बातिल करने वाली चीज़ें

    Rate this post सवालः किन चीज़ों से वुज़ू टूट जाता है? जवाबः सात चीज़ें वुज़ू को बातिल कर देती हैं। (1)   पेशाब या इस्तबरा से पहले पेशाब करने की जगह से निकलने वाली वो रुतूबत जिसके बारे में न जानता हो की ये पेशाब है या कोई और चीज़। (2)   पाखाना। (3)   रियाह जो मेदा […]

  • पेज2 से 1412345...10...पहला »