islamic-sources

  • Rate this post

    काफ़ी के स्वास्थ्य संबंधी गुण

    Rate this post ख़ुशबूदार भाप उड़ाती काफ़ी लोगों का बड़ा मनपसंद पेय होने के साथ ही स्वास्थ्य के लिए बहुत लाभदायक है।नए अनुसंधान में पता चला है कि काफ़ी का उचित प्रयोग महिलाओं में हृदय रोगों तथा पक्षाघात की आशंकाओं को बहुत कम कर सकता है। स्वीडन में दस वर्षों तक जारी रहने वाले शोध […]

  • Rate this post

    गन्दगी से आजीविका कम होती है

    Rate this post प्राकृतिक रूप से मनुष्य स्वच्छता और सुन्दरता को पसंद करता है। वह स्वच्छ घर, सुन्दर परिधान और अच्छी सुगंध से आन्दित होता है और इसके मुक़ाबले में गंदगी से दूर रहना चाहता है। इस्लामी शिक्षाओं में भी स्वच्छता की ओर विशेष ध्यान दिया गया है। इस्लाम पवित्र मन और आत्मा को सम्मान […]

  • Rate this post

    भारी नवजात और मां के पर्याप्त मात्रा में लौह ग्रहण करने के बीच संबंध।

    Rate this post नए शोध में यह बात सामने आई है कि मां बनने वाली महिलाएं यदि गर्भाधारण के आरंभिक तीन महीनों में पर्याप्त मात्रा में आएरन का सेवन करें तो अधिक भार के नवजात के जन्म लेने की संभावना प्रबल होती है। तेरह सौ गर्भवति महिलाओं पर किए गए शोध में यह तथ्य सामने […]

  • Rate this post

    भोजन करने के शिष्टाचार

    Rate this post ज़मीन पर दस्तरख़ान बिछाकर खाना पैग़म्बरे इस्लाम सल्लललाहो अलैहे व आलेही व सल्लम और उनके परिजनों के शिष्टाचार में था। पैग़म्बरे इस्लाम के परिजनों का मानना है कि ऐसा करने से व्यक्ति में विनम्रता आती है और इसमें नैतिक बिन्दु निहित हैं। दस्तरख़ान से खाद्य पदार्थ उठाना इस बिन्दु की ओर संकेत […]

  • Rate this post

    ज़ैतून व खजूर के लाभदायक गुण

    Rate this post क़ुरआन में छः बार ज़ैतून शब्द का प्रयोग किया गया है और पैग़म्बरे इस्लाम (स) और उनके परिजनों के कथनों में ज़ैतून की चमत्कारिक विशेषता की ओर संकेत किया गया है। ज़ौतून लघु एशिया की स्थानीय वनस्पति है जो लगभग 6000 वर्ष पूर्व ऐसे क्षेत्र में उगती थी जिसकी जलवायु भूमध्य सागरीय […]

  • Rate this post

    प्रकृति का अमृत-मधु

    Rate this post पूरे इतिहास में मधुमक्खी का सम्मान मनुष्य करते रहे हैं। क़ुरआने मजीद, इन्जील और तौरैत जैसी सभी ईश्वरीय ग्रंथों में इसी प्रकार हिन्दुओं की पुस्तकों में और इसी प्रकार यूनान और रूम के प्राचीन आलेखों में एक प्रयत्नशील और लाभ दायक कीड़े के रूप में मधु मक्खी को और बहुत बीमारियों की […]

  • Rate this post

    अंगूर के लाभ

    Rate this post अंगूर एक ऐसा फल है जो विश्व के लगभग सभी क्षेत्रों में दिखायी पड़ता है और बहुत से लोग इसे अत्याधिक पसन्द करते हैं। अंगूर बेल में फलता है। तथा मांसल और पौष्टिता से भरा होता है। इस का ७९ प्रतिशत भाग पानी होता है तथा इसमें विभिन्न प्रकार की शर्करा, लवण […]

  • Rate this post

    सूअर के मांस की हानियां

    Rate this post सभी को स्वस्थ्य रहना अच्छा लगता है और कोई भी यह नहीं चाहता कि उसे किसी प्रकार का रोग लगे। सही रूप से विकास, शक्ति और प्रफुल्लता आदि सब कुछ शारीरिक स्वास्थ्य और उचित आहार पर निर्भर है। पैग़म्बरे इस्लाम सल्लल्लाहो अलैही व आलेही व सल्लम इस संदर्भ में कहते हैं कि […]

  • Rate this post

    माइग्रेन और मिरगी की दवा से नवजात को ख़तरा

    Rate this post उन गर्भवति महिलाओं के बच्चों के मुंह में ऐब होने का ख़तरा बढ़ जाता है जो माइग्रेन और मिरगी की दावा खाती है। इस दवा को टोपामैक्स कहा जाता है। अमरीका के खाद्य व दवा नियंत्रण बोर्ड एफ़डीए के अनुसार जो गर्भवति महिलाएं टोपामैक्स दवा खाती हैं उनके नवजात के होटों में […]

  • Rate this post

    आंखों की रक्षक मछली

    Rate this post चिकित्सा विशेषज्ञों का कहना है कि मछली के तेल में पाया जाने वाला प्राकृतिक भाग ओमेगा थ्री त्वचा को स्वस्थ रखने के साथ ही आंखों की ज्योति की भी रक्षा करता है। अमरीका में किए गए अनुसंधान के अनुसार मछली के तेल में पाया जाने वाले ओमेगा थ्री एक आश्चर्यजनक पदार्थ है। […]

  • Rate this post

    दो भाषाओं के ज्ञान से अल्ज़हाइमर के ख़तरे में कमी

    Rate this post दो भाषाओं का ज्ञान या जीवन में बहुत बाद में दूसरी भाषा सीखने से मानसिक ह्रास या अल्ज़हाइमर रोग के पनपने की प्रक्रिया धीमी पड़ जाती है। टोरंटो में यार्क विश्वविद्यालय में शोधकर्ताओं ने इस बात का पता लगाया कि जो व्यक्ति एक से अधिक भाषा बोलता है उसमें एक भाषा बोलने […]

  • Rate this post

    तिब्बे इमामे सदिक़(अ)

    Rate this post मन्सूर दवानीक़ी के दरबार में सादिक़े आले मोहम्मद अलैहिस्सलाम तशरीफ़ फ़रमा थे, एक हिन्दी तबीब ने अपने इल्म पर नाज़ किया, मालूमात का इज़हार किया, इमाम ख़ामोशी से सुनते रहे, हिन्दी ने जराअत की और कहा के आप इस इल्म से ज़रूर इस्तेफ़ादा करें। इरशाद हुआ के मुझे तेरे इल्म की कोई […]

  • Rate this post

    नींबू खाइये और बीमारियों से सुरक्षित रहिए

    Rate this post ताज़ा ताज़ा नींबू केवल रस भरा ही नहीं होता बल्कि इसमें भरी हैं ढेर सारी विशेषताएं भी, जिसके कारण बीमारियां आपसे दूर भागती हैं। दो चम्मच बादाम के तेल में नींबू की दो बूंद मिलाएं और रूई की सहायता से दिन में कई बार घाव पर लगाएं, घाव बहुत जल्द ठीक हो […]

  • Rate this post

    पारंपरिक चिकित्सा शैली-21

    Rate this post नवजात शिशु अत्यंत कोमल एवं कमज़ोर होता है और उसे अत्यधिक देख-भाल की आवश्यकता होती है। ईरान के पारंपरिक चिकित्सकों के अनुसार नवजात शिशु की देख-भाल का समय तभी से आरंभ हो जाता है जब माता-पिता उसे संसार में लाने का निर्णय करते हैं। माता पिता का स्वास्थ्य, बच्चे की स्वास्थ्य की […]

  • Rate this post

    पारंपरिक चिकित्सा शैली-20

    Rate this post जैसा कि आप जानते हैं कि ईरान की पारंपरिक चिकित्सा शैली के बहुत से समर्थक हैं और यह शैली मानसिक स्वास्थय को बहुत महत्व देती है। विशेषज्ञ डाक्टर शीरवान इस बारे में कहते हैं कि प्राचीन ईरान के चिकित्सकों व वैधों के अनुसार खाने भी उन चीज़ों में शामिल हैं जिनसे मन […]

  • Rate this post

    पारंपरिक चिकित्सा शैली-19

    Rate this post पानी चाहे वह ज़मीन के भीरत या ऊपर से गुज़रते समय खनिज पदार्थों व विभिन्न प्रकार के नमक को अपने भीतर विलय कर लेता है। इस प्रकार ज़मीन में पानी किन क्षेत्रों से गुज़र कर आया है इस आधार पर मनुष्य के शरीर पर उसके प्रभाव पड़ते हैं। विशेषज्ञ डाक्टर मीनाई कहते […]

  • Rate this post

    पारंपरिक चिकित्सा शैली-18

    Rate this post ईरान की पारंपरिक चिकित्सा शैली में स्वस्थ जीवन के छह आवश्यक सिद्धांत में खाने और पीने को विशेष स्थान प्राप्त है। पानी के प्रयोग की शैली और उसकी आहार उपयोगिता स्वास्थय की रक्षा और विभिन्न स्वभावों में संतुलन लाने में बहुत प्रभावी होती है। विशेषज्ञ डाक्टर मीनाई का कहना है कि लोगों […]

  • Rate this post

    पारंपरिक चिकित्सा शैली-17

    Rate this post जैसा कि आप जानते हैं कि शरीर का एक तिहाई भाग पानी और द्रव से मिलकर बनता है। हम जो पानी का प्रयोग करते हैं उसकी विशेषताएं क्या हैं, कहां से आता है? इन समस्त बातों पर भी ईरान के प्राचीन पारंपरिक चिकित्सकों ने विशेष रूप से ध्यान दिया है। इस संबंध […]

  • Rate this post

    पारंपरिक चिकित्सा शैली-16

    Rate this post ईरान की प्राचीन पारंपरिक चिकित्सा मनुष्य के स्वास्थ्य के लिए उसके सक्रिय रहने को आवश्यक समझती है। प्राचीन चिकित्सा की दृष्टि में मनुष्य के शरीर की गतिविधियों से चाहे वह प्रतिदिन के कामों के लिए गतिविधियां हो या फिर व्यायाम हो, मनुष्य के शरीर पर लाभदायक प्रभाव पड़ते हैं। अलबत्ता हर व्यक्ति […]

  • Rate this post

    पारंपरिक चिकित्सा शैली-15

    Rate this post साधारणतः यह देखा गया है कि मनुष्य अपने जीवन का एक तिहाई भाग नींद में बिताता है। ईरान की प्राचीन पारंपरिक चिकित्सा ने मनुष्य की आयु के इस भाग पर भी विशेष ध्यान दिया है और नींद से बेहतरीन ढंग से लाभ उठाने की उत्तम बेहतरीन युक्ति बयान की है। इस संबंध […]

  • पेज2 से 41234