islamic-sources

  • Rate this post

    पारंपरिक चिकित्सा-5

    Rate this post ईरान के पारंपरिक प्राचीन चिकित्सा की थ्योरियों के अनुसार मनुष्य का शरीर चार मूल पदार्थों से बनता है और वह हैं तात्विक मिट्टी, तात्विक जल, तात्विक हवा और तात्विक आग। यह चार पदार्थ मनुष्य के शरीर में उचित मात्रा में मौजूद रहें तो उसका स्वभाव संतुलित रहता है और उसे कोई बीमारी […]

  • Rate this post

    पारम्परिक चिकित्सा-4

    Rate this post चिकित्सा की हर विचारधारा या थ्योरी अपने विशेष दृष्टिकोण से चिकित्सा के विषय अर्थात मनुष्य के शरीर को देखता है और अपनी विशेष परिभाषा और शब्दकोश रखता है। इन विचाधाराओं से अवगत होने के लिए इन शब्दावलियों, परिभाषाओं और शब्दकोशों का जानना आवश्यक है। डाक्टर नासीरी का कहना है कि ईरान का […]

  • Rate this post

    पारम्परिक चिकित्सा-3

    Rate this post आज के औद्योगिक संसार में विकास और प्रगति का एक महत्त्वपूर्ण मापदंड समाज का स्वास्थ और तन्दुरूस्ती है। स्वास्थ और तन्दुरूस्ती के यह अर्थ नहीं हैं कि देश के निवासी हर बीमारी और हर प्रकार के रोग से दो हों बल्कि शारीरिक और मानसिक सुख चैन भी स्वास्थ के अर्थ में शामिल […]

  • Rate this post

    पारम्परिक चिकित्सा 2

    Rate this post पानी चाहे वह ज़मीन के भीरत या ऊपर से गुज़रते समय खनिज पदार्थों व विभिन्न प्रकार के नमक को अपने भीतर विलय कर लेता है। इस प्रकार ज़मीन में पानी किन क्षेत्रों से गुज़र कर आया है इस आधार पर मनुष्य के शरीर पर उसके प्रभाव पड़ते हैं। विशेषज्ञ डाक्टर मीनाईः हम […]

  • Rate this post

    पारम्परिक चिकित्सा-1

    Rate this post मानवीय जीवन के आरंभ से ही मनुष्य को अपने स्वास्थ की चिंता होने लगी। जब से मनुष्य ने दुख और दर्द को पहचाना है, मृत्यु से अवगत हुआ है वह अपने शारीरिक व अध्यात्मिक दुखों का उपचार की चिंता में पड़ा हुआ है। उसने अपनी समस्याओं के समाधान के लिए प्रकृति से […]

  • पेज4 से 41234