islamic-sources

Languages
ALL
E-Books
Articles

date

  1. date
  2. title
  •  नन्हे – मुन्ने शिशुओं की समस्याओ
    Rate this post

    नन्हे – मुन्ने शिशुओं की समस्याओ

    Rate this post आप का शिशु जब जन्म लेता है तो उसका मस्तिष्क सीखने के लिए तैयार होता है। जब वो आंखें खोलता है, उसकी बुद्धि अपने चारों ओर की चीज़ों को समझने के लिए तैयार हो जाती है। अब आप यह देखें कि इसमें आप उसकी किस प्रकार सहायता कर सकते हैं। शिशु का […]

  •  मां- बाप को बच्चों के साथ कैसे व्यवहार करना चाहिये
    Rate this post

    मां- बाप को बच्चों के साथ कैसे व्यवहार करना चाहिये

    Rate this post कहते हैं कि सुकरात को फांसी देने से पहले उससे पूछा कि तुम्हारी सबसे बड़ी इच्छा क्या है? उसने उत्तर दिया मेरी सबसे बड़ी आकांक्षा यह है कि एथेन्स के सबसे ऊंचे स्थान पर जाऊं और ऊंची आवाज़ में लोगों से कहूं कि हे लोगों क्यूं अपने जीवन के मूल्यवान वर्षों को […]

  • Rate this post

    बगला और केकड़ा

    Rate this post काफ़ी समय पहले की बात है। एक तालाब के किनारे एक बगला बैठा हुआ था और पानी में तैरने वाली छोटी-बड़ी मछलियों को निहार रहा था। वह काफ़ी निराश था क्योंकि वह अब इतना बूढ़ा और कमज़ोर हो चुका था कि तालाब से छोटी सी मछली भी नहीं पकड़ सकता था। उसकी […]

  • Rate this post

    चूहा और ऊंट

    Rate this post एक दिन की बात है एक जवान मोटा ताज़ा चूहा एक मैदानी क्षेत्र में घूम रहा था, इस चूहे में सबसे बड़ी कमी यह थी कि वह स्वयं को विश्व के सब चूहों से अधिक शक्तिशाली और चतुर समझता था। वह घमंड और आत्ममुग्धता में इस प्रकार ग्रस्त हो गया था कि […]

  • Rate this post

    घर का माहौल बच्चे पर असर डालता है

    Rate this post कहते हैं कि इंसान का कैरेक्टर उसकी शख़्सियत की बुनियाद होता है। कुछ लोगों की शख़्सियत इतनी रोबदार होती है कि दूसरा उनसे बात करते हुए हिचकिचाता है और कुछ लोगों की शख़्सियत में ज़ाहिरी तौर पर तो ऐसी कोई बात नहीं होती लेकिन उसके चलने फिरने, उठने बैठने और बात करने […]

  • Rate this post

    आख़री बार

    Rate this post एक बढ़ई जो बूढ़ा हो चुका था और अब काम छोड़कर घर में आराम करना चाहता था। कम्पनी के मालिक के पास आया और बोला: मैं अब काम छोड़ना चाहता हूँ अगर आप आज्ञा दें तो मैं घर पर अपने बीवी बच्चों के साथ ज़िन्दगी के आख़िरी पल गुज़ारूँ। वह एक अच्छा […]

  • Rate this post

    क्लास का पहला पाठ

    Rate this post टीचर नें अपना भारी भरकम थैला मेज़ पर रखा और शीशे का एक गिलास निकाल कर सबके सामने रख दिया। फिर कुछ मोटे पत्थर थैले से निकाले और ग्लास में डाल दिये, स्टूडेंट्स टीचर की इस हरकत को बड़े आश्चर्य से देखते रहे। अचानक ही टीचर नें उनसे पूछा: क्या ग्लास भर […]

  • Rate this post

    कव्वे और लकड़हारे की कहानी

    Rate this post एक बार की बात है कि एक गांव में एक ग़रीब लकड़हारा रहता था, वह प्रतिदिन जंगल से लकड़ी काट कर लाता और उन्हें बेचकर अपना और अपने परिवार का पेट पालता था। लकड़हारा बहुत गरीब लेकिन ईमानदार, दयालु और अच्छे चरित्र वाला आदमी था। वह हमेशा दूसरों के काम आता और […]

  • Rate this post

    बच्चों से प्यार कीजिये और उन्हें…

    Rate this post बच्चों से प्यार कीजिये और उन्हें टाइम दीजिये बच्चों का पालन पोषण व तरबियत बिना उनके साथ समय बिताए सम्भव नही है, बच्चों के बारे मे की गई रिसर्चों से पता चलता है कि जो बच्चे अपने मां बाप और परिवार के साथ मिलकर खाना खाते हैं वह कम उदास होते हैं […]

  • Rate this post

    आइये हम भी पुल बनाएं

    Rate this post एक मेहनती और दयालू बाप जिसके दो बेटे थे। बाप दुनिया से चल बसा और बेटों के लिये विरासत में एक बाग़ छोड़ गया। कई वर्षों तक दोनों भाई हँसी ख़ुशी साथ साथ रहे लेकिन अचानक एक छोटे से बिगाड़ की वजह से आपस में लड़ पड़े। कुछ दिन तक दोनों तरफ़ […]

  • Rate this post

    “बिल्ली का न्याय”

    Rate this post कुछ पक्षी एक पर्वत के आंचल में रहते थे। एक कौए ने भी दूसरे पक्षियों के समीप एक पेड़ पर अपना घोंसला बना रखा था। एक तीतर का भी वहां घोंसला था। यह दोनों पड़ोसी पक्षी एक दूसरे के मित्र थे और अधिकांश समय एक दूसरे के साथ बिताते थे। एक दिन […]

  • Rate this post

    चक्की वाला और लोमड़ी

    Rate this post कहते हैं कि पुराने युग में एक चक्की वाला था कि जो लोगों के गेहूं पीसता था और मज़दूरी उसी आटे से ले लिया करता था कि जो वह पीसा करता था और उसे चक्की के एक कोने में इकट्ठा किया करता था। लेकिन हर दिन जब सुबह चक्की पर आता था […]

  • Rate this post

    कौआ और साँप

    Rate this post सुदूर क्षेत्र में स्थित एक जंगल में एक पेड़ पर एक कौआ रहता था। उसे ऐसा दुख था जिससे वह छुटकारानहीं पा रहा था। कौए के घोसले के निकट एक बड़ा सा साँप भी रहता था। कौआ जब भी अंडा देता और उससे बच्चा निकलता, दुष्ट साँप इस अवसर की ताक में […]

  • Rate this post

    ख़रगोश और प्यासे हाथी

    Rate this post प्राचीन काल में एक सुदूर क्षेत्र में एक सोते के निकट कुछ हाथी बहुत सुखी जीवन व्यतीत करते थे। एक साल वहां वर्षा न हुयी और सोते के पानी दिन प्रतिदिन कम होता गया यहां तक कि सोता सूख गया। हाथी सोच में पड़ गए। हाथियों के सरदार के आदेश पर कुछ […]

  • Rate this post

    बुढ़िया और व्यापारी

    Rate this post बहुत पहले की बात है कि एक बुढ़िया के यहां एक व्यापारी आया और रात के समय उसके घर का द्वार खटखटा कर कहने लगा कि मुझे अपने घर में एक रात ठहरने की अनुमति दे दो उसके बदले में जो भी होगा मैं दे दूंगा। बुढ़िया ने व्यापारी की बात स्वीकार […]

  • Rate this post

    शरीके दुज़्द व रफीक़ क़ाफिले

    Rate this post कहा जाता है कि पुराने ज़माने में एक व्यापारियों का एक कारवां सामान के साथ यात्रा पर था और चूंकि उस युग में लुटेरे, मार्ग में कारंवा को लूट लिया करते थे इस लिए यह कारंवा जब नगर से निकला तो दो तीन दिनों के बाद अन्ततः एसे क्षेत्र में पहुंचा जहां […]

  • Rate this post

    चमत्कार करने वाला जानवर

    Rate this post कहते हैं कि पुराने युग में एक चक्की वाला था कि जो लोगों के गेहूं पीसता था और मज़दूरी उसी आटे से ले लिया करता था कि जो वह पीसा करता था और उसे चक्की के एक कोने में इकट्ठा किया करता था। लेकिन हर दिन जब सुबह चक्की पर आता था […]

  • Rate this post

    लोमड़ी और तूज़ली बेग

    Rate this post कहानियां मौखिक साहित्य का महत्वपूर्ण व लोकप्रिय भाग हैं। विशेषज्ञों का मानना है कि मौखिक साहित्य किसी भी देश की महत्वपूर्ण सांस्कृतिक धरोहर हो सकती है और इस से देश की संस्कृति समृद्ध होती है। ईरान शताब्दियों के दौरान बहुत सी जातियों के मार्ग में आया है और समृद्ध लोक संस्कृति का […]

  • Rate this post

    शोध

    Rate this post कहावत की एक महत्वपूर्ण विशेषता, उसका संक्षेप में होना है। अनुभवों पर भरोसा भी कहावत की एक अन्य विशेषता है। शोधकर्ताओं का मानना है कि वास्तव में कहावतें, लोगों के दीर्धकालीन अनुभव होते हैं जिनकी लोगों की बातचीत में बहुत महत्वपूर्ण भूमिका होती है। कहावतें, लंबे अनुभवों और शुद्ध विचारों से बनती […]

  • Rate this post

    प्राचीन काल में एक राजा था

    Rate this post लोक कथाओं में पात्रों की मोटी-२ बातों और दशाओं का उल्लेख किय जाता है तथा नैतिक, चारित्रिक और आध्यात्मिक विशेषताओं और सूक्ष्मता एवं विस्तार की ओर कोई विशेष ध्यान नहीं दिया जाता। एसी कथाओं में मूल रूप से तो घटनाओं का विवरण ही किया जाता है और उसके सूक्ष्म बिंदुओं पर ध्यान […]

more