islamic-sources

  • Rate this post

    बच्चों से प्यार कीजिये और उन्हें…

    Rate this post बच्चों से प्यार कीजिये और उन्हें टाइम दीजिये बच्चों का पालन पोषण व तरबियत बिना उनके साथ समय बिताए सम्भव नही है, बच्चों के बारे मे की गई रिसर्चों से पता चलता है कि जो बच्चे अपने मां बाप और परिवार के साथ मिलकर खाना खाते हैं वह कम उदास होते हैं […]

  • Rate this post

    आइये हम भी पुल बनाएं

    Rate this post एक मेहनती और दयालू बाप जिसके दो बेटे थे। बाप दुनिया से चल बसा और बेटों के लिये विरासत में एक बाग़ छोड़ गया। कई वर्षों तक दोनों भाई हँसी ख़ुशी साथ साथ रहे लेकिन अचानक एक छोटे से बिगाड़ की वजह से आपस में लड़ पड़े। कुछ दिन तक दोनों तरफ़ […]

  • Rate this post

    “बिल्ली का न्याय”

    Rate this post कुछ पक्षी एक पर्वत के आंचल में रहते थे। एक कौए ने भी दूसरे पक्षियों के समीप एक पेड़ पर अपना घोंसला बना रखा था। एक तीतर का भी वहां घोंसला था। यह दोनों पड़ोसी पक्षी एक दूसरे के मित्र थे और अधिकांश समय एक दूसरे के साथ बिताते थे। एक दिन […]

  • Rate this post

    मुसलमान औरत क़ुरआन की निगाह में

    Rate this post किसी भी सरकारी या प्राइवेट डिपार्टमेंट में एक हेड आफ़ डिपार्टमेंट होता है जो डिपार्टमेंट को कंट्रोल करता है और उसके नीचे उसका असिस्टेंट होता है। और यह लोग आपस में मिलकर एक दूसरे की मदद से काम को आगे बढ़ाते हैं। इसी तरह से एक परिवार में बाप हेड आफ़ डिपार्टमेंट […]

  • Rate this post

    मैं सबसे ख़ूबसूरत हूँ!

    Rate this post ख़ूबसूरती अल्लाह की दी हुई ख़ूबसूरत नेमतों में से एक नेमत है। वैसे वास्तव में अगर देखा जाए तो पूरा संसार ही अपनी जगह पर ख़ूबसूरत है और जिस चीज़ पर भी आप नज़र डालें वह अपनी कुछ ख़ास विशेषताओं के आधार पर अपनी जगह एक ख़ूबसूरती रखती है। क्योंकि अल्लाह जमील […]

  • Rate this post

    सजना सवंरना दीन की निगाह में

    Rate this post आजकल बहुत कम ऐसे लोग मिलेंगें जो घर से निकलते टाइम एक निगाह आइने पर न करते हों, कपड़ों का सेट होना, ज़ाहिरी हुलिया का आम लोगों की बीच जाते समय ठीक ठाक करना एक आदत और आम चलन बन गया है और इस मसले मे बच्चे- बूढ़े,मर्द-औरत,अमीर-ग़रीब के बीच कोइ अंतर […]

  • Rate this post

    पश्चिमी समाज मे औरत का शोषण (3)

    Rate this post पिछले हिस्से में बताए गए पश्चिमी माहौल के मुक़ाबले में जब हम पूर्बी समाजी माहौल की जांच पड़ताल करते हैं तो आम तौर पर दो तरह के लोग दिखाई देते हैं, एक वह जो पश्चिमी लाईफ़ स्टाईल से अलग तो हैं लेकिन कई एंगिल से निन्दनीय कार्य शैली अपना रखी है, और […]

  • Rate this post

    पश्चिमी समाज मे औरत का शोषण (2)

    Rate this post पहले जो घरों मे चैन और सेफ़्टी का माहौल देखने को मिलता था वह घर के लोगों ख़ासतौर से पति पत्नी के बीच मुहब्बत और अट्रैक्शन व आकर्षण को बढ़ावा देने की वजह बनता था जिसके प्रभाव से मर्दों के अन्दर शाम को देर तक आवारा गर्दी में घूमते रहने के बदले […]

  • Rate this post

    पश्चिमी समाज मे औरत का शोषण (1)

    Rate this post यूरोप में औरत एक गुड़िया की तरह रह गई थी बल्कि अगर यह कहा जाए कि समाज में वह एक ग़ुलाम या नौकर की तरह थी तो ग़लत नहीं होगा, कई आन्दोलन उसको अपने पति की ग़ुलामी और उस वातावरण मे उसके पिछड़ेपन से बाहर निकालने के लिए शुरू किए गए। 8 […]

  • Rate this post

    इमामे ज़माना (अ.ज) की मदद करने वाली आठ औरतें।

    Rate this post इमामे ज़माना (अ.ज) की मदद करने वाली औरतों का तीसरा समूह उन औरतों पर आधारित हैं जिन्हें हज़रत हुज्जत (अ.ज) के ज़ुहूर की बरकत से दोबारा ज़िंदा किया जाएगा। इमामे ज़माना के ज़ुहूर और फिर हुकूमत के दौरान बहुत सी औरतें आपकी मदद करेंगी, हालांकि रिवायतों में इमामे ज़माना की सेवा करने […]

  • Rate this post

    चक्की वाला और लोमड़ी

    Rate this post कहते हैं कि पुराने युग में एक चक्की वाला था कि जो लोगों के गेहूं पीसता था और मज़दूरी उसी आटे से ले लिया करता था कि जो वह पीसा करता था और उसे चक्की के एक कोने में इकट्ठा किया करता था। लेकिन हर दिन जब सुबह चक्की पर आता था […]

  • Rate this post

    कौआ और साँप

    Rate this post सुदूर क्षेत्र में स्थित एक जंगल में एक पेड़ पर एक कौआ रहता था। उसे ऐसा दुख था जिससे वह छुटकारानहीं पा रहा था। कौए के घोसले के निकट एक बड़ा सा साँप भी रहता था। कौआ जब भी अंडा देता और उससे बच्चा निकलता, दुष्ट साँप इस अवसर की ताक में […]

  • Rate this post

    ख़रगोश और प्यासे हाथी

    Rate this post प्राचीन काल में एक सुदूर क्षेत्र में एक सोते के निकट कुछ हाथी बहुत सुखी जीवन व्यतीत करते थे। एक साल वहां वर्षा न हुयी और सोते के पानी दिन प्रतिदिन कम होता गया यहां तक कि सोता सूख गया। हाथी सोच में पड़ गए। हाथियों के सरदार के आदेश पर कुछ […]

  • Rate this post

    शहीद ईरानी महिलाएं

    Rate this post यदि आप पत्रिकाओं या वैबसाइटों पर नज़र डालेंगे तो निश्चित रूप से उन पर महिलाओं के चित्र पायेंगे। पत्रिकाओं की अधिक से अधिक प्रत्रितायां बेचने या फिर इंटरनेट और टीवी पर वस्तुओं के विज्ञापन हेतु महिलाओं एवं उनके चित्रों का प्रयोग किया जाता है। अकसर हम विश्व की सबसे अधिक सुन्दर महिला, […]

  • Rate this post

    ईरान में ज्ञान आंदोलन-2

    Rate this post ज्ञान आंदोलन के परिणाम स्वरूम आज हमें विभिन्न वैज्ञानिक क्षेत्रों में व्यापक विकास देख रहे हैं तो क्या अब हमें संतुष्ट होकर बैठ जाना चाहिए? ज़ाहिर है कि नहीं, हमं अभी ज्ञान विज्ञान की अग्रिम पंक्ति से पीछे हैं। अभी जीवन के लिए आवश्यक बहुत से वैज्ञानिक और तकनीकी क्षेत्रों में हम […]

  • Rate this post

    बुढ़िया और व्यापारी

    Rate this post बहुत पहले की बात है कि एक बुढ़िया के यहां एक व्यापारी आया और रात के समय उसके घर का द्वार खटखटा कर कहने लगा कि मुझे अपने घर में एक रात ठहरने की अनुमति दे दो उसके बदले में जो भी होगा मैं दे दूंगा। बुढ़िया ने व्यापारी की बात स्वीकार […]

  • Rate this post

    शरीके दुज़्द व रफीक़ क़ाफिले

    Rate this post कहा जाता है कि पुराने ज़माने में एक व्यापारियों का एक कारवां सामान के साथ यात्रा पर था और चूंकि उस युग में लुटेरे, मार्ग में कारंवा को लूट लिया करते थे इस लिए यह कारंवा जब नगर से निकला तो दो तीन दिनों के बाद अन्ततः एसे क्षेत्र में पहुंचा जहां […]

  • Rate this post

    चमत्कार करने वाला जानवर

    Rate this post कहते हैं कि पुराने युग में एक चक्की वाला था कि जो लोगों के गेहूं पीसता था और मज़दूरी उसी आटे से ले लिया करता था कि जो वह पीसा करता था और उसे चक्की के एक कोने में इकट्ठा किया करता था। लेकिन हर दिन जब सुबह चक्की पर आता था […]

  • Rate this post

    लोमड़ी और तूज़ली बेग

    Rate this post कहानियां मौखिक साहित्य का महत्वपूर्ण व लोकप्रिय भाग हैं। विशेषज्ञों का मानना है कि मौखिक साहित्य किसी भी देश की महत्वपूर्ण सांस्कृतिक धरोहर हो सकती है और इस से देश की संस्कृति समृद्ध होती है। ईरान शताब्दियों के दौरान बहुत सी जातियों के मार्ग में आया है और समृद्ध लोक संस्कृति का […]

  • Rate this post

    शोध

    Rate this post कहावत की एक महत्वपूर्ण विशेषता, उसका संक्षेप में होना है। अनुभवों पर भरोसा भी कहावत की एक अन्य विशेषता है। शोधकर्ताओं का मानना है कि वास्तव में कहावतें, लोगों के दीर्धकालीन अनुभव होते हैं जिनकी लोगों की बातचीत में बहुत महत्वपूर्ण भूमिका होती है। कहावतें, लंबे अनुभवों और शुद्ध विचारों से बनती […]

  • पेज3 से 812345...पहला »