islamic-sources

  • Rate this post

    क़ुराने मजीद अदब

    Rate this post बिस्मिल्लाहिर्रहमानिर्रहीम क़ुराने मजीद अदब 1. क़ुरआन रब की ख़ास इनायत का नाम है। क़ुरआन नज़मो ज़बते शरीयत का नाम है। क़ुरआन एक ज़िंदा हक़ीक़त का नाम है। क़ुरआन ज़िंदगी की ज़रूरत का नाम है। क़ुरआन एक किताबे इलाही जहाँ में है। क़ुरआन के बग़ैर तबाही जहाँ में है। 1. क़ुरआन किरदगार की […]

  • Rate this post

    क़ुरआने मजीद और नारी

    Rate this post इस्लाम में नारी के विषय पर अध्धयन करने से पहले इस बात पर तवज्जो करना चाहिये कि इस्लाम ने इन बातों को उस समय पेश किया जब बाप अपनी बेटी को ज़िन्दा दफ़्न कर देता था और उस कुर्रता को अपने लिये इज़्ज़त और सम्मान समझता था। औरत दुनिया के हर समाज […]

  • Rate this post

    क़ुरआने मजीद और माली इसलाहात

    Rate this post इक़्तेसादी दुनिया में मालीयात की तन्ज़ीम के दो मरहले होते हैं। एक मरहला पैदावार का होता है और दूसरा सरवत की तक़सीम का और आम तौर से इक़्तेसादी निज़ाम तक़सीम के बारे में बहस करता है और पैदावार के मरहसे को इल्मुल इक़्तेसाद के हवाले कर देता है। लेकिन इस्लाम ने दोनों […]

  • नमाज़ की कहानियाँ
    5 (100%) 1 vote[s]

    नमाज़ की कहानियाँ

    नमाज़ की कहानियाँ5 (100%) 1 vote[s] नमाज़ का अच्छा असर पैग़म्बरे इस्लाम (सल्लल्लाहो अलैहे वा आलिहि वसल्लम) नमाज़ को जमाअत के साथ क़ायम करते थे। मदीने का रहना वाला एक मुसलमान हमेशा आप के नमाज़ जमाअत से पढ़ा करता था लेकिन उस के साथ साथ गुनाह भी करता था। एर बार किसी ने आप से […]

  • Rate this post

    उस लिबास के पहनने का बयान जो औरतों और काफ़िरों के लिये मख़सूस है

    Rate this post मर्दों के लिये औरतों का मख़सूस लिबास जैसे मक़ना, महरम (अंगिया) बुरक़ा वग़ैरह पहनना हराम है इसी तरह औरतों के लिये मर्दों का मख़सूस लिबास पहनना हराम है जैसे टोपी, अम्मामा, क़बा वग़ैरह और काफ़िरों का मख़सूस लिबास जैसे जुन्नार या अंग्रेज़ी टोपियाँ वग़ैरह मर्द औरत किसी के लिये जायज़ नही है। […]

  • Rate this post

    छंटवा हिस्सा – नमाज़ के आदाब

    Rate this post 108- नमाज़ और लिबास रिवायात मे मिलता है कि आइम्मा-ए-मासूमीन अलैहिमुस्सलाम नमाज़ का लिबास अलग रखते थे। और अल्लाह की खिदमत मे शरफ़याब होने के लिए खास तौर पर ईद व जुमे की नमाज़ के वक़्त खास लिबास पहनते थे। बारिश के लिए पढ़ी जाने वाली नमाज़ (नमाज़े इस्तसक़ा) के लिए ताकीद […]

  • Rate this post

    पाँचवा हिस्सा – नमाज़ के समाजी पहलू

    Rate this post 66-नमाज़ और शहादतैन हर नमाज़ की दूसरी रकत मे तशःहुद पढ़ा जाता है। जिसमे हम अल्लाह की वहदानियत (उसके एक होने) और हज़रत मुहम्मद मुस्तफ़ा सल्लल्लाहु अलैहि व आलिहि वसल्लम की रिसालत की गवाही देते हैं। हर रोज़ इंसान पर वाजिब है कि वह पाँच मर्तबा अल्लाह की तौहीद व हज़रत मुहम्मद […]

  • Rate this post

    चौथा हिस्सा – नमाज़ के तरबीयती पहलू

    Rate this post 47-नमाज़ और तबीअत (प्रकृति) नमाज़ फ़क़त एक क़लबी (दिली) राबते का नाम नही है। बल्कि यह एक ऐसा अमल है जो लोगों के साथ मिल कर तबीअत(प्रकृति) से फ़ायदा हासिल करते हुए अंजाम दिया जाता है। जैसे नमाज़ के वक़्त को जानने के लिए आसमान की तरफ़ देखना चाहिए। क़िबले की सिम्त […]

  • Rate this post

    तीसरा हिस्सा – नमाज़ के मानवी पहलु और मतालिब

    Rate this post 37- नमाज़ और सच्चाई अगर कोई इंसान किसी को पसंद करता है, तो उससे बात करना भी पसंद करता है। बस वह लोग जो अल्लाह से दोस्ती का दावा तो करते हैं, मगर नमाज़ मे दिल चस्पी नही रखते वह अपने दावे मे सच्चे नहीँ हैं। नमाज़ उन बातों के आज़माने का […]

  • Rate this post

    दूसरा हिस्सा- नमाज़ का फ़लसफ़ा

    Rate this post 26 नमाज़ अल्लाह की याद है। अल्लाह ने हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम से फ़रमाया कि मेरी याद के लिए नमाज़ क़ाइम करो। एक मख़सूस तरीक़े से अल्लाह की याद जिसमे इंसान के बदन के सर से पैर तक के तमाम हिस्से शामिल होते हैं।वज़ू के वक़्त सर का भी मसाह करते हैं और […]

  • Rate this post

    पहला हिस्सा-नमाज़ की अहमियत

    Rate this post 1-नमाज़ सभी उम्मतों मे मौजूद थी हज़रत मुहम्मद मुस्तफ़ा (स. अ.) से पहले हज़रत ईसा अलैहिस्सलाम की शरीअत मे भी नमाज़ मौजूद थी। क़ुरआन मे इस बात का ज़िक्र सूरए मरियम की 31 वी आयत मे मौजूद है कि हज़रत ईसा (अ.स.) ने कहा कि अल्लाह ने मुझे नमाज़ के लिए वसीयत […]

  • Rate this post

    ज़ुबैर और ज़ुल्फ़ा

    Rate this post कितना अच्छा होता अगर तुम शादी कर लेते और अपना घर बसा लेते इस तरह तन्हाई की ज़िन्दगी से निजात मिल जाती और तुम्हारी शादी की ख़्वाहिश भी पूरी हो जाती और वही औरत दुनिया और आख़िरत के कामों में तुम्हारी मददगार साबित होती। या रसूल अल्लाह (स.) न मेरे पास माल […]

  • (2) जिमाअ-
    5 (100%) 1 vote[s]

    (2) जिमाअ-

    (2) जिमाअ-5 (100%) 1 vote[s] जिमाअ रोज़े को बातिल कर देता है चाहे अज़वे तनासुल(लिंग) सुपारी तक ही दाखिल हो और मनी(वीर्य) भी ख़ारिज न होई हो। (1594) अगर आला-ए-तनासुल(लिंग) सुपारी से कम दाखिल हो और मनी भी खारिज न हो तो रोज़ा बातिल नही होता लेकिन जिस शख़्स कि सुपारी कटी हुई हो अगर […]

  • पेज8 से 8« आखिरी...45678