islamic-sources

  • Rate this post

    इमाम-ए-हुसैन अलैहिस्सलाम का मक्के जाना

    Rate this post सवालः 3- इमाम-ए-हुसैन अलैहिस्सलाम आंदोलन के शुरू में मदीने से मक्के क्यों गए? मदीने से इमाम-ए-हुसैन अलैहिस्सलाम के निकलने का कारण यह था कि यज़ीद ने मदीने के शासक वलीद इब्ने अतबा के नाम ख़त में हुक्म दिया था कि मेरे कुछ विरोधियों से (जिनमें से एक इमाम-ए-हुसैन अलैहिस्सलाम भी थे) ज़रूर बैयत […]

  • Rate this post

    इमाम हुसैन अ.ने मदीने से अपना आंदोलन क्यूँ शुरू नहीं किया

    Rate this post सवाल-2-  इमाम ह़ुसैन (अ स) ने मदीने से ही अपने आंदोलन को शुरू क्यों नहीं किया? इस सवाल का जवाब समय और जगह के ह़ालात व परिस्थितियों की बारीकी से समीक्षा करने पर निर्भर है, जहाँ तक समय की बात है तो इमाम जिस समय मदीने में थे। उस समय तक मुआविया के […]

  • Rate this post

    मुआविया के युग में आंदोलन न करना

    Rate this post सवाल-1- इमाम-ए-हुसैन अलैहिस्सलाम ने मुआविया के युग में आंदोलन (उठ खड़े होने) के लिए कोई क़दम क्यों नहीं उठाया? इमाम-ए-हुसैन अलैहिस्सलाम की ग्यारह साला इमामत की अवधि में (49 से 60 हिजरी तक) जिसमें मुआविया हुकूमत कर रहा था, आपके और उसके बीच बहुत ज़्यादा तनाव था जिनमें से कुछ अवसरों को इमाम […]

  • Rate this post

    करबला – दरसे इंसानियत

    Rate this post उफ़ुक़ पर मुहर्रम का चाँद नुमुदार होते ही दिल महज़ून व मग़मूम हो जाता है। ज़ेहनों में शोहदा ए करबला की याद ताज़ा हो जाती है और इस याद का इस्तिक़बाल अश्क़ों की नमी से होता है जो धीरे धीरे आशूरा के क़रीब सैले रवाँ में तबदील हो जाती है। उसके बाद […]

  • Rate this post

    हुसैनी आंदोलन-3

    Rate this post दसवीं मोहर्रम की घटना, इमाम हुसैन अलैहिस्सलाम का आंदोलन, उनका चेहलुम और अन्य धार्मिक अवसर इस्लामी इतिहास का वह महत्वपूर्ण मोड़ हैं जहां सत्य और असत्य का अंतर खुलकर सामने आ जाता है। इमाम हुसैन के बलिदान से इस्लाम धर्म को नया जीवन मिला और तथा इस ईश्वरीय धर्म के प्रकाशमान दीप […]

  • Rate this post

    अमर आंदोलन-११

    Rate this post   आज दस मुहर्रम है।  न्याय और मानवता के सूखते चमन को हुसैन आज सवेरे से ही सींच रहे हैं।  सुबह की नमाज़ के समय से ही यज़ीदी सेना तीर बरसा रही थी।  हुसैन के कई साथी तो नमाज़ियों की सुरक्षा करते हुए ही शहीद हो चुके थे।  फिर पैग़म्बरे इस्लाम का […]

  • Rate this post

    अमर आंदोलन-१०

    Rate this post इमाम हुसैन अलैहिस्सलाम ने २ मुहर्रम सन ६१ हिजरी को करबला मे क़दम रखा था और समय बीतने के साथ ही साथ वे अपने लक्ष्य को संसार के सामने स्पष्ट करते जा रहे थे।  प्रचार और प्रसार माध्यम के रूप में केवल इमाम हुसैन के वे साथी थे जो अपने पत्रों को […]

  • Rate this post

    अमर आंदोलन-९

    Rate this post हमने गत कार्यक्रमों में कहा था कि इमाम हुसैन अलैहिस्सलाम, अम्रबिल मारूफ़ व नहि अनिल मुनकर अर्थात भलाई की ओर बुलाने और बुराई से रोकने के लिए निकले थे और उनका यह उद्देश्य अत्यधिक विस्तृत था।  इसके अन्तर्गत वे शासन व्यवस्था में सुधार और भ्रष्ट तत्वों का अंत चाहते थे तथा साथ […]

  • Rate this post

    अमर आंदोलन-८

    Rate this post  र्बला की अभूतपूर्व घटना की अलग व अनूठी विशेषताए हैं जिन्हें गुज़रते हुए काल और समय नहीं भुला सके हैं।  अत्याचार और बरबरता के मुक़ाबले में इमाम हुसैन अलैहिस्सलाम और उनके साथियों की वीरता तथा साहस की याद हर स्वतंत्रताप्रेमी को प्रभावित कर देती है। ६१ हिजरी क़मरी में कर्बला के मरूस्थल […]

  • Rate this post

    अमर आंदोलन-७

    Rate this post छह मुहर्रम को हमने कर्बला के जिस शहीद की याद मनाने के लिए विशेष किया है वह क़ासिम इब्ने हसन हैं।  कर्बला में इमाम हसन अलैहिस्सलाम के कई बेटे शहीद हुए हैं।  हज़रत क़ासिम भी उन्हीं में से एक हैं।  हज़रत क़ासिम और उनकी माता का परिचय प्राप्त करने हेतु हमे इमाम […]

  • Rate this post

    अमर आंदोलन-६

    Rate this post कर्बला में इमाम हुसैन अलैहिस्सलाम के आन्दोलन पर दृष्टि डालने से ज्ञात होता है कि यह न तो दस दिन के भीतर लिए गए किसी अचानक निर्णय का परिणाम था और न ही इसकी योजना यज़ीद के शासन को देखकर तैयार की गई थी।  पैग़म्बे इस्लाम हज़रत मुहम्मद मुस्तफ़ा सल्लल्लाहो अलैहे वआलेही […]

  • Rate this post

    अमर आंदोलन-५

    Rate this post महर्रम, हुसैन और कर्बला एसे नाम और एसे विषय हैं जो किसी एक काल से विशेष नहीं हैं।  पैग़म्बरे इस्लाम का संदेश, आने वाले समस्त कालों के लिए था इसीलिए इमाम हुसैन अलैहिस्सलाम इस संदेश के लिए एसी सुरक्षा व्यवस्था करना चाहते थे जो प्रत्येक काल के न्यायप्रेमियों के लिए संभव हो।  […]

  • Rate this post

    अमर आंदोलन-४

    Rate this post मुहर्रम के संबन्ध में प्रस्तुत किये गए अबतक के कार्यक्रमों से आपको इस बात का ज्ञान अवश्य हुआ होगा कि इमाम हुसैन अलैहिस्सलाम आरंभ से ही जिस टकराव की तैयारी में लगे हुए थे वह किसी व्यक्तिगत हित की पूर्ति के लिए लिए नहीं था।  इमाम हुसैन अलैहिस्सलाम, सत्ता को किसी एसे […]

  • Rate this post

    अमर आंदोलन-३

    Rate this post आज मुहर्रम की दूसरी तारीख़ है।  वही मुहर्रम जिसके बारे में हमने कल रात शोक और संवेदना में डूबा हुआ चन्द्रमा देखने के बाद से बात शुरू की थी।  यह तो आप जानते ही हैं कि हिजरी क़मरी वर्ष का हिसाब चन्द्रमा पर आधारित होता है।  हमने आपको बताया था कि पैग़म्बरे […]

  • Rate this post

    अमर आंदोलन-२

    Rate this post आज ईरान में मुहर्रम की पहली तारीख़ है।  यह इस्लामी महीना अपने साथ जो यादें लेकर आता है यदि उनको समझा जाए तो मुहर्रम की विशेष मजलिसों अर्थात सभाओं व जुलूसों आदि का कारण समझ में आ जाता है। आइए पहले मुहर्रम की पृष्ठभूमि को समझते हैं। विभिन्न प्रकार की घटनाओं के […]

  • Rate this post

    अमर आंदोलन-१

    Rate this post हिजरी क़मरी वर्ष १४३४ आरंभ हो रहा है।  पहला महीना मोहर्रम है।  इमाम हुसैन अलैहिस्सलाम की शहादत के बाद से मोहर्रम केवल एक महीने का नाम नहीं रह गया बल्कि यह एक दुखद घटना का नाम है, एक सिद्धांत का नाम है और सबसे बढ़कर सत्य व असत्य, अत्याचार तथा साहस की […]

  • पेज3 से 3123