islamic-sources

  • Rate this post

    आइये फारसी सीखें – 54

    Rate this post मुहम्मद और उसके मित्र के टर्म की फाइनल परीक्षा अपनी थकन मिटाने के लिए मुहम्मद, ईरान के किसी क्षेत्र की यात्रा करना चाहता है। जाड़े का मौसम है और तेहरान की जलवायु ठंडी तथा वर्षा वाली है। मुहम्मद और रामीन कमरे में वार्ता कर रहे हैं। मुहम्मद, दक्षिणी ईरान की यात्रा करने […]

  • Rate this post

    आइये फारसी सीखें – 53

    Rate this post ईरान में विभिन्न जातियां वास करती हैं और प्रत्येक जाति की अपनी भाषा, संस्कृति, परंपरा और परिधान है।  किसी व्यक्ति की संस्कृति को जो चीज़ स्पष्ट करती है उसमें से एक, उसकी पोशाक या उसका परिधान होता है।  ईरान की जलवायु और यहां रहने वाली विभिन्न जातियों के रहन-सहन के दृष्टिगत उनकी […]

  • Rate this post

    आइए फ़ारसी सीखें-52

    Rate this post मुहम्मदः यह झरना बहुत ही सुन्दर है। मेरे कपड़े भीग गए हैं। محمد – این آبشار خیلی زیباست . لباسم مرطوب شده است . सादिक़ः देख रहे हो, झरने के पानी के कण, किस प्रकार से वातावरण में चारों ओर फैले हुए हैं! صادق – می بینی ذرات آب آبشار ، چه […]

  • Rate this post

    ईरान में ज्ञान आंदोलन-1

    Rate this post ईरान में ज्ञान आंदोलन 12 साल से जारी है और इसके परिणाम स्वरूप ईरान ने ज्ञान विज्ञान के क्षेत्र में तीव्र गति से प्रगति की है और यदि यह गति इसी प्रकार जारी रही तो ईरान का नाम वैज्ञानिक उपलब्धियों और नई खोज के क्षेत्र में विश्व स्तर पर चौथे नंबर पर […]

  • Rate this post

    आइए फ़ारसी सीखें-51

    Rate this post गुलिस्तान प्रांत, ईरान के उत्तर में स्थित है और उन तीन प्रांतों में से एक है जो कैस्पियन सागर के किनारे हैं। गुलिस्तान प्रांत, हराभरा है और यहां पर झरने, घने जंगल, जलकुंड, सुन्दर-सुन्दर गांव तथा बहुत ही आकर्षक प्राकृतिक दृश्य पाए जाते हैं। सादिक़ के दादा का घर एक गांव में […]

  • Rate this post

    आइए फ़ार्सी सीखें-50

    Rate this post आज हम आपको कुछ ईरानी मिठाइयों के बारे में बताने जा रहे हैं। अधिकांश धार्मिक समारोहों में अतिथियों के सत्कार के उद्देश्य से विभिन्न प्रकार के व्यंजन और मिठाइयां बनाई जाती हैं। मुहम्मद और उसके मित्र रामीन ने पैग़म्बरे इस्लाम हज़रत मुहम्मद मुस्तफ़ा सल्ललाहो अलैहे वआलेही वसल्लम के शुभ जन्म दिसव के […]

  • Rate this post

    फारसी सीखें 49

    Rate this post रमज़ान का पवित्र महीना वह महीना है जिसमें ईरान के लोग भी अन्य मुसलमानों की भांति रोज़ा रखते हैं। ईरान में लोग इफ़तार और सहर के समय कुछ विशेष व्यंजन तैयार करते हैं जो रमज़ान से ही विशेष हैं। इस महीने में ईरान के विभिन्न नगरों में भांति-भांति की मिठाइयां बनाई जाती […]

  • Rate this post

    फारसी सीखें 48

    Rate this post इमाम ख़ुमैनी ने जीवन भर अत्याचार के विरुद्ध उन्होंने संघर्ष किया।  पहलवी की अत्याचारी सरकार के विरुद्ध उनका संघर्ष १९६३ से बहुत गंभीर हो गया जो इस्लामी क्रांति की सफलता तक जारी रहा।  देश के भीतर पाए जाने वाले घुटन के वातावरण, देश की विदेशियों पर निर्भर्ता तथा शाह की इस्लाम विरोधी […]

  • Rate this post

    फ़ार्सी सीखें – 47

    Rate this post ईरान में जहाज़रानी के उद्योग का इतिहास कई हज़ार वर्ष पुराना है।  प्राचीन शिलालेखों और एतिहासिक प्रमाणों से पता चलता है कि उस काल में ईरानियों ने पानी के जहाज़ से विदेश की यात्राएं की हैं जिनमें भारत और अफ़्रीका का उल्लेख किया जा सकता है।  वर्तमान समय में फ़ार्स की खाड़ी […]

  • Rate this post

    आइए फ़ार्सी सीखें – 46

    Rate this post   वर्ष १९२३ में ईरानी युवाओं का एक गुट विमान चलाने का प्रशिक्षण लेने के लिए रूस और फ़्रांस गया था।  ईरान मे जहाज़ के पहले कारख़ाने ने १९३५ में अपना कार्य आरंभ किया।  उसके बाद वर्ष १९३८ में आधिकारिक रूप से तेहरान में मेहराबाद हवाई अड्डे का उद्घाटन किया गया।  मेहराबाद […]

  • Rate this post

    आइए फ़ार्सी सीखें – 45

    Rate this post सिल्क रोड बहुत ही प्राचीन मार्ग है जो कई देशों से होकर गुज़रता है तथा इसने विभिन्न देशों के मध्य आर्थिक तथा सांस्कृतिक आदान-प्रदान की भूमिका प्रशस्त की है।  सिल्क रोड का एक भाग चीन को भारत से और भारत को पूर्वी अफ़्रीक़ा से मिलाता है।  इस मार्ग पर बहुत सी एतिहासिक […]

  • Rate this post

    आइए फ़ार्सी सीखें – 44

    Rate this post अत्याचारी शासक शाह के भ्रष्टाचारों का रहस्योद्घाटन करने के कारण इमाम ख़ुमैनी को जूलाई १९६३ को गिरफ़्तार करके तेहरान में जेल भेज दिया गया था।  कुछ समय तक जेल में रहने के पश्चात इमाम खुमैनी को स्वतंत्र कर दिया गया किंतु शाह के तत्व उनपर पूरी तरह से नज़र रखे हुए थे।  […]

  • Rate this post

    आइए फ़ार्सी सीखें – 43

    Rate this post ईरान में जहाज़रानी उद्योग ईरान में जहाज़रानी के उद्योग का इतिहास कई हज़ार वर्ष पुराना है।  प्राचीन शिलालेखों और एतिहासिक प्रमाणों से पता चलता है कि उस काल में ईरानियों ने पानी के जहाज़ से विदेश की यात्राएं की हैं जिनमें भारत और अफ़्रीका का उल्लेख किया जा सकता है।  वर्तमान समय […]

  • Rate this post

    आइए फ़ार्सी सीखें – 42

    Rate this post स्वर्गीय इमाम ख़ुमैनी ने जीवन भर अत्याचार के विरुद्ध संघर्ष किया।  अत्याचारी पहलवी सरकार के विरुद्ध उनका संघर्ष १९६३ से बहुत गंभीर हो गया जो इस्लामी क्रांति की सफलता तक जारी रहा।  देश के भीतर पाए जाने वाले घुटन के वातावरण, देश की विदेशियों पर निर्भर्ता तथा शाह की इस्लाम विरोधी नीतियों […]

  • Rate this post

    आइए फारसी सीखें – 41

    Rate this post इस कार्यक्रम में हम स्वर्गीय इमाम ख़ुमैनी के जीवन के कुछ महत्वपूर्ण आयामों को प्रतिबिंबित करेंगे।  अत्याचारी शासक शाह के भ्रष्टाचारों का रहस्योद्घाटन करने के कारण इमाम ख़ुमैनी को जूलाई १९६३ को गिरफ़्तार करके तेहरान में जेल भेज दिया गया था।  कुछ समय तक जेल में रहने के पश्चात इमाम खुमैनी को […]

  • Rate this post

    आईये फ़ारसी सीखें – 40

    Rate this post अफ़ग़ानिस्तान, ईरान के पूरब में स्थित है और काबुल इस देश की राजधानी है। इस देश के अन्य महत्वपूर्ण नगरों में मज़ार शरीफ़, जलालाबाद और क़ंधार इत्यादि का नाम लिया जा सकता है। चूंकि यह देश लम्बे समय तक गृहयुद्ध का शिकार रहा है इस लिए इसका आर्थिक विकास धीमा है किंतु […]

  • Rate this post

    आईये फ़ारसी सीखें – 39

    Rate this post इराक़ एक प्राचीन देश है जिसकी संस्कृति बहुत पुरानी है। इस देश की कुल संख्या लगभग 3 करोड़ है कि जिसमें लगभग 75 प्रतिशत लोग अरब हैं, 20 प्रतिशत कुर्द और शेष तुर्कमन, आशूरी एवं दूसरी जातिया हैं। इराक़ के बारे में ध्यान योग्य बिंदु नजफ़, कर्बला, काज़मैन और सामर्रा शहरों में […]

  • Rate this post

    आईये फ़ारसी सीखें – 38

    Rate this post आज के कार्यक्रम और अगली कुछ कड़ियों में आपको ईरान के पड़ोसी देशों से परिचित कराएंगे। आज की चर्चा में हम ईरान के दो पड़ोसी देश तुर्की और आज़रबाइजान की ओर संकेत करेंगे। तुर्की ईरान के पश्चिमोत्तर में स्थित है और दोनों देशों के बीच व्यापक सांस्कृतिक व आर्थिक संबंध हैं और […]

  • Rate this post

    आईये फ़ारसी सीखें – 37

    Rate this post जैसा कि आपको याद होगा मोहम्मद और सईद बहारिस्तान चौक पर टहल रहे थे और आयतुल्लाह मुदर्रिस के बारे में कि जो एक धर्मगुरु एवं सांसद थे बातचीत कर रहे थे। वे टहलते हुए चौक के उत्तरी ओर पहुंचते हैं। चौक के उत्तरी ओर ईरानी संसद मजलिस की पुरानी इमारत स्थित है। […]

  • Rate this post

    आईये फ़ारसी सीखें – 36

    Rate this post मोहम्मद और उसका मित्र सईद, आज बहारिस्तान चौक पर मिलने वाले हैं। मोहम्मद मैट्रो द्वारा इस चौक पर पहुंचता है। बहारिस्तान तेहरान का पुराना चौक है यहीं पर मजलिस अर्थात संसद भवन स्थित है। संसद की नई इमारत पुरानी इमारत के निकट स्थित है एक दृष्टि में आधुनिक एवं पुरानी वास्तु – […]

  • पेज2 से 41234